पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 100 Ventilators And 95 Concentrators Reached From Britain Tp Air Force To Bring Cryogenic Containers From Dubai And Delhi Government Will Import Oxygen Plants From France Latest News And Updates

ऑक्सीजन पर एक्शन:ब्रिटेन से 100 वेंटिंलेटर और 95 कंसंट्रेटर पहुंचे; दुबई से क्रायोजेनिक कंटेनर और फ्रांस से ऑक्सीजन प्लांट आएंगे

नई दिल्ली2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
वायुसेना के विमान दुबई और सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर ला रही है, ताकि ऑक्सीजन को स्टोर किया जा सके। - Dainik Bhaskar
वायुसेना के विमान दुबई और सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन टैंकर ला रही है, ताकि ऑक्सीजन को स्टोर किया जा सके।

कोरोनो की दूसरी लहर के बीच देश में ऑक्सीजन की कमी दूर करने के लिए विदेशों सें संसाधन जुटाने का सिलसिला जारी है। पिछले हफ्ते सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कंटेनर लाए गए थे। अब दुबई से भी वायुसेना के विमान उसी तरह के कंटेनर ला रहे हैं। इधर, दिल्ली सरकार बैंकॉक से ऑक्सीजन टैंकर और फ्रांस से ऑक्सीजन प्लांट मंगाने जा रही है।

महामारी की दूसरी लहर में ब्रिटेन ने भारत की मदद करने की बात कही थी। विदेश मंत्रालय ने मंगलवार को बताया कि ब्रिटेन से 100 वेंटिलेटर और 95 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर देश में पहुंच गए हैं। लुफ्थांसा की स्पेशल फ्लाइट से यह मेडिकल सप्लाई लाई गई है।

मंगलवार तड़के UK से वेंटिलेटर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लेकर पहुंचा प्लेन।
मंगलवार तड़के UK से वेंटिलेटर और ऑक्सीजन कंसंट्रेटर लेकर पहुंचा प्लेन।

इधर एयरफोर्स के विमान 6 खाली क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कंटेनर लेकर पहुंचने वाले हैं। वायुसेना के C-17 ग्लोबमास्टर विमान इन्हें पश्चिम बंगाल के पानगढ़ लेकर आएगा। वायुसेना के विमान सोमवार को भी दुबई से इसी तरह के 6 कंटेनर पानगढ़ लाए थे। पानगढ़ में सभी कंटेनरों में ऑक्सीजन भरकर रेल या सड़क के रास्ते इन्हें देश के अलग-अलग हिस्सों में भेजा जाएगा।

पिछले हफ्ते वायुसेना के प्लेन से सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कंटेनर लाए गए थे।
पिछले हफ्ते वायुसेना के प्लेन से सिंगापुर से क्रायोजेनिक ऑक्सीजन कंटेनर लाए गए थे।

पिछले हफ्ते सिंगापुर से कंटेनर लाए थे वायुसेना के प्लेन
पिछले हफ्ते वायुसेना के विमान सिंगापुर से इसी तरह के कंटेनर लाए थे। वायुसेना देश के अलग-अलग हिस्सों तक ऑक्सीजन सप्लाई जल्द पहुंचाने में मदद कर रही है। ऑक्सीजन के खाली टैंकर रीफिलिंग के लिए वायुसेना के प्लेन के जरिए भेजे जा रहे हैं। इसके लिए C-17, C-130J, IL-76, An-32, Avro, चिनूक और Mi-17 हेलिकॉप्टर को तैनात किया गया है।

खाली हो चुके ऑक्सीजन के टैंकरों को वायुसेना के ट्रांसपोर्ट प्लेन रीफिलिंग स्टेशन तक ले जा रहे हैं।
खाली हो चुके ऑक्सीजन के टैंकरों को वायुसेना के ट्रांसपोर्ट प्लेन रीफिलिंग स्टेशन तक ले जा रहे हैं।

केजरीवाल ने बैंकॉक से ऑक्सीजन टैंकर मंगाए
इधर, दिल्ली सरकार ने ऑक्सीजन की किल्लत दूर करने के लिए बैंकॉक से ऑक्सीजन टैंकर और फ्रांस से रेडी टू यूज ऑक्सीजन प्लांट आयात करने का फैसला किया है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, ‘दिल्ली सरकार ने बैंकॉक से 18 ऑक्सीजन टैंकर मंगाने का फैसला कया है। वे कल से यहां पहुंचना शुरू हो जाएंगे। हमने केंद्र सरकार से अपील की है कि इन्हें लाने के लिए एयरफोर्स के प्लेन इस्तेमाल करने की इजाजत दे। टैंकर आने के बाद ऑक्सीजन के ट्रांसपोर्टेशन की समस्या हल हो जाएगी।’

फ्रांस से ऑक्सीजन प्लांट इंपोर्ट करेगी दिल्ली सरकार
केजरीवाल ने फ्रांस से ऑक्सीजन प्लांट इंपोर्ट करने की जानकारी भी दी। उन्होंने कहा, ‘हम फ्रांस से 21 रेडी टू यूज ऑक्सीजन प्लांट इंपोर्ट कर रहे हैं। उन्हें तुरंत इस्तेमाल किया जा सकता है। उन्हें अलग-अलग अस्पतालों में लगाया जाएगा। इससे अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी दूर होगी।’

रेलवे ने स्पेशल क्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन चलाई
तेजी से बढ़ी ऑक्सीजन की मांग को देखते हुए भारतीय रेलवे ने पिछले हफ्ते से ऑक्सीजन एक्सप्रेस नाम की ट्रेन की शुरुआत की है। रेल मंत्रालय के मुताबिक सात डिब्बों की विशेष रेल के हर डिब्बे में 16 मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन आएगी। इस ट्रेन को आने-जाने के लिए ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है। यानी यह बिना रूके अपनी जगह पहुंचेगी।

ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन में टैंकर्स को लादकर प्लांट से सीधे अलग-अलग शहरों तक ले जाने का इंतजाम है।
ऑक्सीजन एक्सप्रेस ट्रेन में टैंकर्स को लादकर प्लांट से सीधे अलग-अलग शहरों तक ले जाने का इंतजाम है।

रेलवे इस ट्रेन को स्टील प्लांट्स के ऑक्सीजन रीफिलिंग सेंटर से महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, दिल्ली जैसे ज्यादा डिमांड वाले राज्यों में भेज रही है। इससे ऑक्सीजन के टैंकर तेजी से अस्पतालों तक पहुंच सकेंगे।

खबरें और भी हैं...