• Hindi News
  • National
  • 100 Years Ago, The British Court Sentenced Gandhiji To 6 Years, But Had To Be Released After 2 Years.

आज का इतिहास:100 साल पहले ब्रिटिश कोर्ट ने गांधी जी को 6 साल की सजा सुनाई थी, लेकिन 2 साल बाद ही रिहा करना पड़ा

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

ब्रिटिश अदालत ने 1922 में आज ही के दिन महात्मा गांधी को राजद्रोह के मामले में 6 साल जेल की सजा सुनाई थी। हालांकि, दो साल बाद ही 1924 में लगातार खराब होती सेहत की वजह से उन्हें रिहा कर दिया गया।

दरअसल, 1919 में अंग्रेज सरकार रॉलेट एक्ट लेकर आई। इस एक्ट में किसी पर राजद्रोह का आरोप लगने पर बिना सुनवाई के ही सजा सुनाई जा सकती थी। इसी एक्ट के विरोध में गांधी जी ने आंदोलन शुरू किया। देखते ही देखते इस आंदोलन से हजारों लोग जुड़ गए।

इसी दौरान उत्तर प्रदेश के चौरी चौरा में प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए। भीड़ ने पुलिस स्टेशन में आग लगा दी। हिंसा में 22 लोगों की मौत हुई। इस घटना के बाद गांधी जी ने अपना आंदोलन वापस ले लिया, लेकिन अंग्रेज सरकार ने उन्हें राजद्रोह का दोषी करार देते हुए 6 साल की सजा सुनाई।

वर्ल्ड कप में पाकिस्तान की हार के बाद कोच बॉब वूल्मर की मौत
2007 का क्रिकेट विश्व कप पहली बार 16 टीमों के बीच खेला गया था। पहले ही दौर में दो चौंकाने वाले नतीजे आए। दोनों ही 17 मार्च को हुए मैचों के थे, लेकिन सबसे दुखद और हैरान करने वाली घटना 18 मार्च को सामने आई। दरअसल 17 मार्च को भारत-बांग्लादेश और पाकिस्तान-आयरलैंड के बीच मुकाबले थे। भारत और पाकिस्तान को सेमीफाइनल में पहुंचने का दावेदार माना जा रहा था, लेकिन दोनों ही टीमें अपने-अपने मुकाबले हारकर वर्ल्ड कप के पहले ही राउंड से बाहर हो गईं।

पाकिस्तान के मुकाबले के कुछ देर बाद पाक टीम के कोच बॉब वूल्मर होटल में बेहोश पाए गए। उन्हें अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। ऐसा कहा गया कि आयरलैंड के खिलाफ हार के बाद से वे सदमे में थे। उन्होंने खूब शराब पी थी। इसकी वजह से उनकी जान गई। वहीं, कुछ लोग आज भी मानते हैं कि वूल्मर की मौत मैच फिक्सिंग माफिया की वजह से गई।

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री को संसद से इराक युद्ध के लिए हरी झंडी
2003 में आज ही के दिन ब्रिटेन की संसद ने अमेरिका के साथ मिलकर इराक पर हमले को सही ठहराया था। टोनी ब्लेयर सरकार के इस कदम का संसद में 149 के मुकाबले 412 सांसदों ने समर्थन किया था। इसके एक दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश ने सद्दाम हुसैन और उनके बेटों को इराक छोड़ने के लिए 48 घंटे की मोहलत दी थी।

देश-दुनिया में 18 मार्च की अन्य अहम घटनाएं इस प्रकार हैं...

2000: प्रो-इंडिपेंडेंस मूवमेंट के नेता चेन शुई-बेन ताइवान के राष्ट्रपति बने। उन्होंने 55 साल से सत्ता में काबिज नेशनलिस्ट पार्टी का राज खत्म किया।

1990: अमेरिकी संग्रहालय से 500 मिलियन डॉलर की कलाकृतियों की चोरी हो गई। संग्रहालय ने इन चोरों पर 50 लाख डॉलर का इनाम घोषित किया। इसके बावजूद भी इन कलाकृतियों का कुछ पता नहीं चला।

1974: ओपेक देशों के सात सदस्यों ने अमेरिका पर लगे प्रतिबंधों को पांच महीने बाद खत्म किया।

1965: सोवियत संघ के अंतरिक्ष यात्री एलेक्सी लियोनोव स्पेस वॉक करने वाले पहले इंसान बने। लियोनोव ने अपने अंतरिक्ष यान से बाहर निकलकर 12 मिनट तक ये वॉक की थी।

1938: बॉलीवुड एक्टर शशि कपूर का जन्म हुआ। उन्होंने दीवार, कभी-कभी, त्रिशूल, सत्यम शिवम सुंदरम, चोर मचाए शोर, शान जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम किया।

1936: दक्षिण अफ्रीका में नस्लभेद को खत्म करने वाले राष्ट्रपति एफडब्ल्यू डी क्लार्क का जन्म हुआ।

1858: डीजल इंजन के आविष्कारक रुडोल्फ डीजल का जन्म पेरिस में हुआ।

1837: अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ग्रोवर क्लीवलैंड का जन्म हुआ। क्लीवलैंड दो बार राष्ट्रपति बनने वाले इकलौते ऐसे नेता हैं, जिनके दोनों कार्यकाल लगातार नहीं रहे।