पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • AliExpress Alibaba; China Mobile App Ban List Update | 43 Mobile Apps Banned By Government; Here Is Full List Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चौथी डिजिटल स्ट्राइक:43 ऐप्स बैन, इनमें जैक मा की कंपनी अलीबाबा के 4 ऐप और 10 करोड़ डाउनलोड वाला स्नैक वीडियो शामिल

नई दिल्ली2 महीने पहले

केंद्र सरकार ने मंगलवार को 43 मोबाइल ऐप पर बैन लगा दिया। केंद्र ने इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी एक्ट 69A के तहत ये बैन लगाया है। केंद्र ने बताया कि ये ऐप ऐसी गतिविधियों में लिप्त हैं, जिनसे देश की एकता, अखंडता, सुरक्षा के लिए खतरा हैं।

बैन की गईं 43 ऐप्स में से 14 डेटिंग, 8 गेमिंग ऐप्स, 6 बिजनेस और फाइनेंस और एक इंटरटेनमेंट ऐप शामिल हैं।

टिकटॉक के बाद एक और पॉपुलर ऐप पर स्नैक वीडियो एक्शन

चीनी ऐप टिकटॉक को बैन कर चुकी केंद्र सरकार ने अब पॉपुलर चैट ऐप स्नैक वीडियो को बैन किया है। ये सिंगापुर बेस्ड चाइनीज सॉफ्टवेयर कंपनी है। इसके 10 करोड़ से ज्यादा यूजर्स हैं। टिकटॉक बैन होने के बाद यूजर्स के लिए ये सबसे बड़ा ऑप्शन बनी और महज 2 महीनों के अंदर करीब 5 करोड़ यूजर्स बढ़ गए। सबसे ज्यादा यूजर्स भारत में हैं। इसके अलावा चीन के बिजनेस टायकून जैक की कंपनी अलीबाबा की भी 4 ऐप्स पर बैन लगाया गया है।

केंद्र ने 4 बार ऐप्स के खिलाफ एक्शन लिया

  • 29 जून को 59 चीनी ऐप्स बैन कर दिए थे। ऐप्स को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा बताया गया था। गलवान झड़प के बाद ये फैसला लिया गया।
  • 27 जुलाई को 47 ऐप बैन किए गए थे। सरकार ने यह कदम तब उठाया था, जब लद्दाख में तनाव बढ़ रहा था और चीनी सैनिकों ने दो बार घुसपैठ की कोशिश की थी।
  • 2 सितंबर को सरकार ने पबजी समेत 118 ऐप्स को बैन किया था। पबजी को 17.5 करोड़ से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है।
  • 24 नवंबर को 43 मोबाइल ऐप्स बैन किए गए। फैसला इंडियन साइबर क्राइम को-ऑर्डिनेशन सेंटर की गृह मंत्रालय को भेजी गई रिपोर्ट के आधार पर लिया गया है।

इन 43 ऐप्स को किया गया बैन

1. अली सप्लायर्स

2. अली बाबा वर्कबेंच

3. अली एक्सप्रेस- स्मार्टर शॉपिंग, बेटर लिविंग

4. अलीपे कैशियर

5. लालामोव इंडिया- डिलीवरी ऐप

6. ड्राइव विद लालामोव इंडिया

7. स्नैक वीडियो

8. कैमकार्ड- बिजनेस कार्ड रीडर

9. कैम कार्ड- BCR (वेस्टर्न)

10. सोल- फॉलो द सोल टु फाइंड यू

11. चाइनीज सोशल- फ्री ऑनलाइन डेटिंग वीडियो ऐप एंड चैट

12. डेट इन एशिया- डेटिंग एंड चैट फॉर एशियन सिंगल्स

13. वी डेट- डेटिंग ऐप

14. फ्री डेटिंग ऐप- सिंगल, स्टार्ट योर डेट

15. एडोर ऐप

16. ट्रूली चाइनीज- डेटिंग ऐप

17. ट्रूली एशियन- डेटिंग ऐप

18. चाइना लव- डेटिंग ऐप फॉर चाइनीज सिंगल्स

19. डेट माई एज- चैट, मीट, डेट

20. एशियन डेट

21. फ्लर्ट विश

22. गाइज ओनली

23. ट्यूबिट

24. वी वर्क चाइना

25. फर्स्ट लव लाइव - सुपर हॉट लाइव ब्यूटीज लाइव ऑनलाइन

26. रेला - लेस्बियन सोशल नेटवर्क

27. कैशियर वॉलेट

28. मैंगो टीवी

29. एमजी टीवी - ह्यूमन टीवी ऑफिशियल टीवी ऐप

30. वी टीवी - टीवी वर्जन

31. वी टीवी - सी ड्रामा के ड्रामा एंड मोर

32. वी टीवी लाइट

33. लकी लाइव- लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग ऐप

34. टाओवाओ लाइव

35. डिंग टॉक

36. आइडेंटिटी वी

37 . आइसोलैंड 2 : ऐशेज ऑफ टाइम

38. बॉक्सस्टार (अर्ली एक्सेस)

39. हीरोज इवोल्वड

40. हैप्पी फिश

41. जेलिपॉप मैच : डेकोरेट यूअर ड्रीम आइसलैंड

42. मंचकिन मैच : मैजिक होम बिल्डिंग

43. कॉनक्विस्ता

148 दिनों में 267 ऐप्स बैन किए गए

गलवान झड़प 15 जून को हुई थी। चीन को कड़ा संदेश देने और उस पर दबाव बनाने के लिए सरकार ने पहली बार चीनी ऐप्स बैन किए। इसके बाद 148 दिन के भीतर 267 ऐप्स पर बैन लगाया जा चुका है और इनमें ज्यादातर ऐप चाइनीज हैं।

ट्रम्प ने भी किया था चीनी ऐप्स को बैन, पर बाइडेन ने स्थिति स्पष्ट नहीं की
अमेरिका में ट्रम्प प्रशासन ने 18 सितंबर को वीचैट और टिकटॉक जैसे चीनी ऐप्स को बैन किया था। 20 सितंबर से यह बैन लागू होना था और 12 नवंबर को पूरी तरह से ऐप्स को बंद किया जाना था, लेकिन मामला अदालतों में उलझा रहा। ट्रम्प प्रशासन अक्टूबर में भी प्रयास कर रहा था कि बैन लागू रहे। हालांकि, अब चुनाव के बाद प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन ने इस मुद्दे पर अपनी स्थिति स्पष्ट नहीं की है। इस वजह से यह बैन फिलहाल प्रभावी नहीं है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर जमीन जायदाद संबंधी कोई काम रुका हुआ है, तो आज उसके बनने की पूरी संभावना है। भविष्य संबंधी कुछ योजनाओं पर भी विचार होगा। कोई रुका हुआ पैसा आ जाने से टेंशन दूर होगी तथा प्रसन्नता बनी रहेगी।...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser