पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 20% Vaccine Required To Stop Infection, 13 Crore Has Been Applied, 14 Crore Will Have To Be Applied Soon

अब युवाओं की बारी:संक्रमण की रफ्तार रोकने के लिए 20% को टीका जरूरी; 13 करोड़ को लग चुका, 14 करोड़ को जल्द लगाना होगा

नई दिल्ली5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
देश में 18 से 44 साल तक के 45 करोड़, 45+ के 32 करोड़। - Dainik Bhaskar
देश में 18 से 44 साल तक के 45 करोड़, 45+ के 32 करोड़।
  • अमेरिका, ब्रिटेन, इजराइल में 20% आबादी को पहली डोज के बाद नए केस घटने लगे थे

आज बेहद खास दिन है। दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान की कमान अब युवाओं के हाथ में होगी। भारत में 18 से 44 साल तक की कुल आबादी 45 करोड़ है। इनमें से 2.28 करोड़ ने तो टीके के लिए रजिस्ट्रेशन भी करा लिया है। यह उत्साह बताता है कि देश के युवा कोरोना को हराने के लिए किस कदर तैयार खड़े हैं।

अब तक 45+ के लोगों को टीके लगे रहे थे। इनमें से 13 करोड़ लोगों को पहली डोज लग चुकी है। यानी अब तक देश की 10% आबादी कवर हो चुकी है। अब आगे 10% आबादी कवर हो जाती है तो संक्रमण के काबू में आने की उम्मीद की जा सकती है। क्योंकि, अमेरिका, ब्रिटेन, इजराइल, जर्मनी जैसे कई देश उदाहरण के तौर पर हमारे सामने हैं।

इन सभी देशों में 20% आबादी को पहली डोज लगने के बाद नए मरीज तेजी से घटे। 20% आबादी कवर करने के लिए 13-14 करोड़ टीके और लगाने होंगे, जो कि अगले एक-डेढ़ महीने में संभव है। हालांकि, 20% टीकाकरण महामारी से जंग की बीच एक पड़ाव ही होगा, क्योंकि बार-बार आने वाली संक्रमण की लहर को रोकने के लिए 70% आबादी को पूरी तरह वैक्सीनेट करना जरूरी है।

अमेरिका और ब्रिटेन के ताजा शोध बताते हैं कि टीके की एक डोज के बाद अगर किसी को कोरोना हुआ भी तो ऐसे मामले में 80% मरीजों को अस्पताल ले जाने की नौबत नहीं आई। संक्रमण से पूरी तरह बचे रहना और संक्रमण हो भी गया तो जान बचने की संभावना टीके से ही बनेगी।

जाने माने पब्लिक हेल्थ पॉलिसी एक्सपर्ट और महामारी विशेषज्ञ डॉ चंद्रकांत लहारिया कहते हैं, भारत में वायरस ज्यादा संक्रामक हो चुका है। शरीर में पहले से बनी इम्युनिटी को भी चकमा दे रहा है। इससे बचने के लिए गाइडलाइन का पालन करें, अगर आप वैक्सीन लगाने के पात्र हैं, तो वैक्सीन जरूर लगवाएं।

यह आपको वैक्सीन के गंभीर लक्षणों से सुरक्षित रखेगी। वैक्सीन लगाने से आप खुद के साथ अन्य परिजनों को भी बचाते हैं। डॉ लहारिया ने बताया कि वैक्सीन एक कारगर उपाय है, जितना ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाया जाएगा उतना ही कोरोना कि चैन तोड़ने में मदद मिलेगी।

उदाहरण के तौर पर अगर एक घड़े में सफेद औऱ काले पत्थर दोनों डाले जाऐं तो उसमें से पत्थर निकालने पर दोनों में से कोई भी निकल सकता है, लेकिन, अगर सफेद पत्थर कि मात्रा ज्यादा हो तो सफेद पत्थर हाथ में आने के मौके ज्यादा होंगे। इसी तरह आस पास के जितने ज्यदा लोगों को वैक्सीन लगाया जाए, उतने ही ज्यादा लोगों के संक्रमित होने के मौके कम रहेंगे।.

45+ पार की 13 करोड़ आबादी को एक डोज लग चुकी है

45+ की 43% आबादी को कवच
करीब 32 करोड़ आबादी, इनमें से 43% लोगों को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है। इनके अलावा करीब 3 करोड़ हेल्थ और फ्रंटलाइनवर्कर्स को भी टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है।

2 माह में 17 करोड़ टीके संभव
देश में मई-जून में कोविशील्ड और कोवैक्सीन की कम से कम 17 करोड़ डोज उपलब्ध होंगी। सभी इस्तेमाल हों तो 20% आबादी को पहली डोज लग सकती है।

खबरें और भी हैं...