• Hindi News
  • National
  • Lok Sabha Election 2024 Vs BJP South Mission; Kerala, Karnataka, Telangana

2024 लोकसभा चुनाव के लिए मिशन साउथ पर BJP:दक्षिण के 5 राज्यों की 129 सीटों पर भाजपा की नजर; सबसे कड़ी लड़ाई तेलंगाना में

नई दिल्ली19 दिन पहलेलेखक: मुकेश कौशिक
  • कॉपी लिंक

भाजपा ने 2024 के चुनावी रण के लिए अपनी ताकत दक्षिण के पांच राज्यों में झोंकने की तैयारी कर ली है। केरल, कर्नाटक, तेलंगाना, आंध्र और तमिलनाडु में लोकसभा की 129 सीटे हैं। भाजपा यहां संघ पृष्ठभूमि वाले चेहरों, परंपरागत वंशवादी पार्टियों के असंतुष्ट नेताओं को साथ लेने के साथ ही विभिन्न क्षेत्रों में सक्रिय गैर-राजनीतिक प्रतिभाओं की लोकप्रियता का सहारा लेने की रणनीति पर चल रही है। भाजपा की हैदराबाद में हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में मिशन साउथ का रोडमैप तय किया गया।

भाजपा के मिशन साउथ पर केसीआर और स्टालिन निशाने पर
इसके तहत आने वाले 18 महीने को 6-6 माह के तीन चरणों में बांटकर इस अभियान को गति दी जाएगी। भाजपा का मानना है कि उत्तर में ग्रोथ सेचुरेशन के बाद अब दक्षिण में जमीन बनानी होगी। इसी रणनीति के तहत भाजपा ने केरल से पीटी ऊषा, आंध्र से विजयेंद्र प्रसाद, कर्नाटक से वीरेंद्र हेगड़े और तमिलनाडु से इलैया राजा को राज्यसभा भेजा है। मिशन साउथ में भाजपा के मुख्य निशाने पर तेलंगाना में टीआरएस नेता केसीआर और तमिलनाडु में द्रमुक नेता एमके स्टालिन हैं।

बीजेपी और TRS ने शनिवार को तत्कालीन निजाम शासित हैदराबाद राज्य को भारत संघ में शामिल करने के जश्न को लेकर एक-दूसरे पर हमला किया।
बीजेपी और TRS ने शनिवार को तत्कालीन निजाम शासित हैदराबाद राज्य को भारत संघ में शामिल करने के जश्न को लेकर एक-दूसरे पर हमला किया।

साउथ स्टेट के लिए भाजपा ने बनाया नया प्लान
भाजपा 2018 में विधानसभा चुनाव में तेंलगाना में एक सीट जीती और उसका वोट शेयर 7% था। जबकि 2019 के आम चुनाव में पार्टी ने 4 लोकसभा सीटें जीतीं और वोट 19.7% हो गया। 2016 में हैदराबाद महानगर पालिका चुनाव में भाजपा की 4 सीटें थीं जो 2020 में 48 हो गईं। 35 फीसदी वोट के साथ भाजपा और टीआरएस बराबरी पर आ गई।

भाजपा ने 2017 की ओडिशा कार्यकारिणी में तय मिशन कोरोमंडल ईस्ट इंडिया से प. बंगाल और ओडिशा को अलग कर दिया है। बाकी तटवर्ती क्षेत्रों में विस्तार की कल्स्टर योजना बनाई है। ईस्ट इंडिया प्लान में 80 सीटें जीतने का लक्ष्य था पर 2019 में 105 में 30 सीटें ही भाजपा को मिलीं। इसलिए भाजपा ने साउथ के लिए नए प्लान पर काम करना शुरू कर दिया है।

सबसे कड़ी लड़ाई तेलंगाना में
भाजपा के लिए दक्षिण का सबसे महत्वपूर्ण रणक्षेत्र तेलंगाना है, जहां पार्टी पिछले तीन साल से कड़ी मेहनत कर रही है। तेलंगाना में टीआरएस से टूटकर आए एटला राजेंद्र ने भाजपा की ओर से कमान संभाली है। पार्टी का ध्यान 19 एससी और 12 एसटी सीटों पर है। राज्य के हर विधानसभा क्षेत्र में केंद्रीय मंत्रियों के दौरेे हाे रहे हैं। गृहमंत्री शाह शनिवार को हैदराबाद में थे।