पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • 7 Crore Liters Of Sewer Water Falling In The Ganges Daily In Banaras, The Officer Said Will Stop Soon

गंगा को प्रदूषित कर रहा है सीवर का पानी:बनारस में गंगा में रोज गिर रहा 7 करोड़ लीटर सीवर का पानी, इसमें फास्फोरस और नाइट्रेट होने से जीवों के लिए जानलेवा

नई दिल्ली/एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दावा किया जा रहा है कि गंगा नदी में 150 से 200 एमएलडी सीवर के पानी को ट्रीट कर छोड़ा जा रहा है। - Dainik Bhaskar
दावा किया जा रहा है कि गंगा नदी में 150 से 200 एमएलडी सीवर के पानी को ट्रीट कर छोड़ा जा रहा है।

बनारस में रोज 7 करोड़ लीटर सीवर का पानी गंगा में गिर रहा है। अभी अस्सी और सामनेघाट जैसे 7 बड़े और 13 छोटे नालों का पानी गंगा को प्रदूषित कर रहा है। केंद्रीय प्रदूषण बोर्ड वाराणसी के वैज्ञानिक ने बताया कि सीवर का पानी गिरने से पानी में फास्फोरस और नाइट्रेट मिला है, जो जीवों के लिए खतरनाक है। हरे शैवाल की समस्या भी इसी वजह से है।

इस पर जल निगम के चीफ इंजीनियर एके पुरवार कहते हैं कि सामनेघाट, अस्सी समेत अन्य नालों को जुलाई तक टैप कर दिया जाएगा। वे कहते हैं- ‘688 करोड़ रुपए के नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत सीवर का पानी गंगा में जाने से रोकने के लिए 5 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) का काम 2018 तक होना था।

इनमें बनारस के दीनापुर में 140 व 80 और गोइठहां में 120 एमएलडी क्षमता की एसटीपी (सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट) एक्टिव हो चुके हैं। सामनेघाट, अस्सी और अन्य नालों के ट्रीटमेंट के लिए 102 करोड़ रुपए की लागत से रमना में 50 एमएलडी क्षमता का एसटीपी प्लांट तैयार है। कर्मचारियों के आवास, सड़क और बिजली के खंभे नहीं लग पाए हैं।

इस कारण यह एक्टिव नहींं हो सका है। गंगा में प्रदूषण रोकने के लिए 7 किमी लंबे शाही नाला की सफाई का काम भी दिसंबर तक पूरा होने की संभावना है। गंगा सेवक प्रोफेसर विजय नाथ मिश्रा का कहना है कि सिर्फ अस्सी नाले से ही रोज 5 करोड़ लीटर पानी गिर रहा है, जो चिंता का विषय है।

संकट मोचन फाउंडेशन के अध्यक्ष प्रोफेसर विशम्भरनाथ कहते हैं कि दावा किया जा रहा है कि 150 से 200 एमएलडी सीवर के पानी को ट्रीट कर छोड़ा जा रहा है। लेकिन ये प्लांट पूरी क्षमता से काम नहीं कर रहे हैं। रमना प्रोजेक्ट में देरी व गंगा प्रदूषण नियंत्रण इकाई के कार्यों की धीमी गति से खफा कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने चीफ इंजीनियर के खिलाफ कार्रवाई के लिए राज्य सरकार को लिखा है। जिला अधिकारी कौशल राज कहते हैं कि अस्सी व अन्य नालों से सीवर का पानी अब गंगा में नहीं गिरेगा। जून तक इन सबकी टैपिंग कर ली जाएगी।