पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

5 हफ्ते में 4 राज्यों के 7 विधायक भाजपा में शामिल, इनमें 6 कांग्रेस के

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुजरात के बाद अब बंगाल, महाराष्ट्र में भाजपा ने झटका दिया
  • तृणमूल कांग्रेस से निकाले गए सांसद अनुपम हजारा ने भाजपा का हाथ थामा

नई दिल्ली/मुंबई.  भाजपा ने लोकसभा चुनाव से पहले विपक्षी दलों में सेंध लगाने की रफ्तार बढ़ा दी है। पिछले 5 हफ्ते में 4 राज्यों के 7 विधायक भाजपा में शामिल हुए हैं। इनमें से 6 कांग्रेस के हैं। पश्चिम बंगाल से तृणमूल कांग्रेस के निष्कासित सांसद अनुपम हजारा, कांग्रेस विधायक दुलार चंद बार और माकपा विधायक खगेन मुर्गु मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए। तीनों नेताओं ने दिल्ली में भाजपा की सदस्यता ली। हजारा पर आरोप था कि उन्होंने पार्टी लाइन से हटकर बयानबाजी की थी। पार्टी को हजारा के फेसबुक पोस्ट पर आपत्ति थी।

1) महाराष्ट्र: नेता प्रतिपक्ष के बेटे सुजय भाजपा में गए

महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष राधाकृष्ण विखे पाटिल के बेटे सुजय ने मुंबई में भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। सुजय ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि मेरे पिता इस फैसले का कितना समर्थन करेंगे, लेकिन भाजपा के नेतृत्व में मैं अपना सबकुछ झोंक दूंगा। ताकि सभी को गर्व हो। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा, ‘सुजय का नाम लोकसभा चुनाव की उम्मीदवारी के लिए केंद्रीय संसदीय बोर्ड को भेजा है। सूत्रों के मुताबिक, भाजपा सुजय को अहमदनगर से खड़ा कर सकती है।

गुजरात में 5 हफ्ते में कांग्रेस के 4 विधायक भाजपा में शामिल हुए हैं। इनमें से पिछले 5 दिन में 3 विधायक भाजपा में आए। विधायक वल्लभ धारविया सोमवार को कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हो गए थे। 8 मार्च को विधायक जवाहर चावड़ा और पुरुषोत्तम सपारिया भी भाजपा में चले गए थे। चावड़ा को मंत्री बनाया गया है। पिछले महीने उंझा की विधायक आशा पटेल भाजपा में शामिल हुई थीं।

कर्नाटक में कांग्रेस विधायक उमेश जाधव इस्तीफा देने के बाद 6 मार्च को भाजपा में शामिल हो गए थे। वह लोकसभा चुनाव में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के खिलाफ गुलबर्गा से चुनाव लड़ सकते हैं। जाधव खड़गे के बेटे प्रियंक को राज्य सरकार में मंत्री बनाने से नाराज थे। जाधव के इस्तीफे पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष दिनेश गुंडु राव ने कहा था कि जाधव को भाजपा ने खरीद लिया है।

  • उत्तराखंड से तत्कालीन सांसद सतपाल महाराज।
  • गुजरात से 3 तत्कालीन विधायक जसा प्रसाद, बावकू उंधाड, राजेंद्र चावड़ा, पूर्व मंत्री मनु कोटाडिया के बेटे सुरेश। पूर्व उप मुख्यमंत्री नरहरि अमीन, तत्कालीन सांसद विठ्‌ठल रादाडिया।
  • तेलंगाना से पूर्व मंत्री डी पुरंदेश्वरी।
  • यूपी में पूर्व सीएम जगदंबिका पाल।
  • दिल्ली से पूर्व मंत्री कृष्णा तीरथ।
  • हरियाणा से मंत्री बीरेंद्र सिंह।
  • महाराष्ट्र से पूर्व राज्यसभा सदस्य दत्ता मेघे।