राजस्थान / जैसलमेर में युद्धाभ्यास के दौरान लड़ाकू विमान मिग-27 क्रैश, पायलट सुरक्षित



A MiG-27 aircraft crashed in Rajasthan, Pilot ejected safely
X
A MiG-27 aircraft crashed in Rajasthan, Pilot ejected safely

  • उड़ान के थोड़ी देर बाद ही कंट्रोल रूम से टूटा संपर्क, पोकरण रेंज इलाके में क्रैश हुआ
  • पोकरण में वायुसेना का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास 'ऑपरेशन वायुशक्ति' चल रहा
  • सितंबर में जोधपुर में भी मिग-27 विमान हुआ था दुर्घटनाग्रस्त

Dainik Bhaskar

Feb 12, 2019, 08:33 PM IST

जैसलमेर. पोकरण में चल रहे वायुसेना के युद्धाभ्यास के दौरान मंगलवार शाम एक मिग-27 लड़ाकू विमान क्रैश हो गया। जोधपुर से उड़ान भर फायरिंग रेंज में अपने काल्पनिक ठिकाने पर बमबारी करने के बाद वापस लौटते समय यह हादसा हुआ। फाइटर जेट के पायलट ने समय रहते इजेक्ट कर लिया और वह पूरी तरह से सुरक्षित है।

 

जानकारी के मुताबिक, विमान ने जोधपुर से उड़ान भरी थी। तकनीकी खराबी के कारण लड़ाकू विमान में आग लग गई। पायलट ने इसकी दिशा फायरिंग रेंज की तरफ करने के बाद इजेक्ट कर लिया। वायुसेना में मामले की जांच के आदेश दिए है।

 

16 तक चलेगा युद्धाभ्यास

पोकरण में वायुसेना का सबसे बड़ा युद्धाभ्यास ऑपरेशन वायुशक्ति चल रहा है। इस युद्धाभ्यास की फुल ड्रेस रिहर्सल 14 फरवरी को होगी। जबकि समापन 16 फरवरी को होगा। समापन समारोह में राष्ट्रपति, रक्षा मंत्री सहित कई देशों के प्रतिनिधि उपस्थित रहेंगे।

 

50 से ज्यादा मिग विमान हो चुके क्रैश

 

  • वायुसेना के पास अभी भी 40 से 50 साल पुराने मिग विमानों का बेड़ा है। पिछले एक दशक में पचास से ज्यादा मिग विमान क्रैश हो चुके हैं। इनमें एक तिहाई मिग-27 विमान हैं। मिग के सभी विमानों को वर्ष 2015 में रिटायर्ड करने की योजना थी। फिर इस डेड लाइन को बढ़ाकर वर्ष 2017 किया गया, लेकिन अभी तक नए विमान मिलते नजर नहीं आ रहे हैं। ऐसे में इन्हीं का इस्तेमाल किया जा रहा है।
  • रूस में बने मिग-27 को वायुसेना में बहादुर के नाम से जाना जाता है। अब वायुसेना के पास इसकी दो स्कवाड्रन ही बची है। दोनों जोधपुर में ही तैनात है। अन्य सभी एयर बेस से इसे विदा किया जा चुका है।

 

5 महीने पहले भी क्रैश हुआ था मिग-27

इससे पहले पिछले साल सितंबर में भी जोधुपर में एक मिग-27 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। घटना जोधुपर से करीब बीस किलोमीटर दूर जालेली फौजदरा गांव के पास हुई थी। इस हादसे में भी पायलट बाहर निकलने में कामयाब रहा था। दुर्घटना के बाद विमान का आग का गोला बन गया था, जिसे पायलट ने खाली खेत में गिराया था।

COMMENT