संदेश / अब सुप्रीम कोर्ट का औपचारिक हिस्सा नहीं, लेकिन मेरा एक हिस्सा हमेशा इसके साथ होगा: चीफ जस्टिस गोगोई

सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का विदाई समारोह आयोजित हुआ। सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का विदाई समारोह आयोजित हुआ।
X
सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का विदाई समारोह आयोजित हुआ।सुप्रीम कोर्ट में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का विदाई समारोह आयोजित हुआ।

  • चीफ जस्टिस गोगोई ने कोई भाषण नहीं दिया, उनके संदेश को पढ़कर सुनाया गया
  • विदाई समारोह में जस्टिस एसए बोबडे समेत सुप्रीम कोर्ट के अन्य जज मौजूद रहे

दैनिक भास्कर

Nov 15, 2019, 07:38 PM IST

नई दिल्ली. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में अपनी आखिरी कार्यवाही पूरी की। वे 17 नवंबर को सेवानिवृत्त हो जाएंगे। सुप्रीम कोर्ट में उनका विदाई समारोह आयोजित किया गया। इसमें भावी चीफ जस्टिस एसए बोबडे एवं सु्प्रीम कोर्ट के अन्य जज मौजूद थे। चीफ जस्टिस ने कोई भाषण नहीं दिया, लेकिन उनका आधिकारिक संदेश सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने पढ़कर सुनाया। अपने संदेश में उन्होंने कहा, ‘‘अब मैं इस असाधारण और अति प्रतिष्ठित संस्थान का औपचारिक हिस्सा नहीं रहूंगा लेकिन मेरा एक हिस्सा हमेशा इसके साथ रहेगा और इसके लिए सर्वश्रेष्ठ कामना करेगा।’’

 

चीफ जस्टिस ने कहा कि पिछले 40 साल में एक वकील और जज के तौर पर कानून को निकट से देखा, ये मेरे लिए विशेष सम्मान की बात है। मुझे इस संस्थान में योगदान देने का मौका मिला और मैंने अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमता के साथ सेवा देने की कोशिश की। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की प्रशंसा करते हुए कहा इसे देश के अन्य एसोसिएशनों के लिए उदाहरण बनना चाहिए।

 

जस्टिस गोगोई ने कई महत्वपूर्ण मामलों में आदेश सुनाए

इससे पहले जस्टिस गोगोई ने शुक्रवार को राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। गोगोई ने 3 अक्टूबर 2018 को चीफ जस्टिस के तौर पर अपनी सेवा शुरू की थी। अपने एक साल 15 महीने के कार्यकाल में उन्होंने अयोध्या विवाद, सुप्रीम कोर्ट को सूचना का अधिकार कानून के दायरे में लाने, असम एनआरसी और राफेल सौदे जैसे महत्वपूर्ण मामलों पर फैसले सुनाए।

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना