पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Today History Special; Aaj Ka Itihas 21 May Updates | Rajiv Gandhi Last Photo Before Murder

आज का इतिहास:लिट्टे की महिला आतंकी ने हार पहनाने और पैर छूने के बहाने आत्मघाती हमले में पूर्व PM राजीव गांधी की हत्या की

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की 21 मई 1991 को आत्मघाती हमले में हत्या हुई थी। उन्होंने अपने कार्यकाल में श्रीलंका में शांति सेना भेजी थी, जिससे तमिल विद्रोही संगठन लिट्टे (लिबरेशन टाइगर्स ऑफ तमिल ईलम) उनसे नाराज चल रहा था। 1991 में जब लोकसभा चुनावों के लिए प्रचार करने राजीव गांधी चेन्नई के पास श्रीपेरम्बदूर गए तो वहां लिट्टे ने राजीव पर आत्मघाती हमला करवाया।

राजीव को फूलों का हार पहनाने के बहाने लिट्टे की महिला आतंकी धनु (तेनमोजि राजरत्नम) आगे बढ़ी। उसने राजीव के पैर छूए और झुकते हुए कमर पर बंधे विस्फोटकों में ब्लास्ट कर दिया। धमाका इतना जबर्दस्त था कि कई लोगों के चीथड़े उड़ गए। राजीव और हमलावर धनु समेत 16 लोगों की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। जबकि 45 लोग गंभीर रूप से घायल हुए।

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के नाती और इंदिरा गांधी के बड़े बेटे राजीव ने ब्रिटेन में कॉलेज की पढ़ाई की थी। 1966 में वे कॉमर्शियल पायलट बने। राजनीति में आना नहीं चाहते थे, इसलिए 1980 तक इंडियन एयरलाइंस के पायलट बने रहे। उस समय राजीव के छोटे भाई संजय गांधी जरूर राजनीति में सक्रिय थे। 1980 में विमान हादसे में संजय की मौत के बाद राजीव राजनीति में आए। उन्होंने संजय गांधी की अमेठी लोकसभा सीट से चुनाव लड़ा और जीते।

आत्मघाती हमले से पहले खींची गई राजीव गांधी की आखिरी तस्वीर। स्कूली बच्ची के पीछे नारंगी फूल सिर में लगाकर आगे बढ़ रही धनु ने ही फूलों का हार पहनाकर विस्फोट किया था।
आत्मघाती हमले से पहले खींची गई राजीव गांधी की आखिरी तस्वीर। स्कूली बच्ची के पीछे नारंगी फूल सिर में लगाकर आगे बढ़ रही धनु ने ही फूलों का हार पहनाकर विस्फोट किया था।

देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री

1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने। लोकसभा चुनावों में कांग्रेस तीन-चौथाई सीटें जीतने में कामयाब रही थी। उस समय कांग्रेस ने 533 में से पार्टी ने 414 सीटें जीतीं। राजीव जब प्रधानमंत्री बने, तब उनकी उम्र महज 40 साल थी। वे देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री रहे। उन्होंने अपने कार्यकाल में स्कूलों में कंप्यूटर लगाने की व्यापक योजना बनाई। जवाहर नवोदय विद्यालय स्थापित किए। गांव-गांव तक टेलीफोन पहुंचाने के लिए पीसीओ कार्यक्रम शुरू किया। पर इस दौरान भ्रष्टाचार के आरोप भी उन पर लगे। सिख दंगे, भोपाल गैस कांड, शाहबानो केस, बोफोर्स कांड, काला धन और श्रीलंका नीति को लेकर राजीव सरकार की आलोचना हुई। लिहाजा चुनाव में कांग्रेस की हार हुई और वीपी सिंह की सरकार बनी। 1990 में ये सरकार गिर गई और कांग्रेस के समर्थन से चंद्रशेखर की सरकार बनी। 1991 में यह सरकार भी गिर गई और चुनाव का ऐलान हुआ। इन्हीं चुनावों के लिए प्रचार करने राजीव तमिलनाडु गए थे। जहां उनकी हत्या कर दी गई।

राजीव के हत्यारों की रिहाई की अंतहीन कोशिशें

अदालतों में राजीव गांधी की हत्या के मामले ने लंबा सफर तय किया है। ट्रायल कोर्ट ने साजिश में शामिल 26 दोषियों को मृत्युदंड दिया था। पर मई 1999 में सुप्रीम कोर्ट ने 19 लोगों को बरी कर दिया। सात में से चार आरोपियों (नलिनी, मुरुगन उर्फ श्रीहरन, संथन और पेरारिवलन) को मृत्युदंड सुनाया और बाकी (रविचंद्रन, रॉबर्ट पायस और जयकुमार) को उम्रकैद। चारों दोषियों की दया याचिका पर तमिलनाडु के राज्यपाल ने नलिनी की मृत्युदंड को उम्रकैद में बदला। पर बाकी आरोपियों की दया याचिका को 2011 में राष्ट्रपति ने ठुकरा दिया।

मदुरै में राजीव के हत्यारों की रिहाई के समर्थन में प्रदर्शन करते तमिल संगठनों के कार्यकर्ता।
मदुरै में राजीव के हत्यारों की रिहाई के समर्थन में प्रदर्शन करते तमिल संगठनों के कार्यकर्ता।

खैर, फरवरी 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने मृत्युदंड में देरी के आधार पर तीनों आरोपियों की फांसी की सजा भी उम्रकैद में बदल दी। साथ ही तमिलनाडु की सरकार को अच्छे आचरण के आधार पर 14 साल बाद उन्हें रिहा करने की छूट दी। पर जब राज्य सरकार ने ऐसा किया तो कोर्ट ने ही उस पर रोक भी लगा दी। तब से केंद्र और राज्य में इसे लेकर लेटरबाजी हो रही है। सितंबर 2018 में तमिलनाडु की स्टेट कैबिनेट ने सातों आरोपियों को रिहा करने का संकल्प दोहराया। पर राज्यपाल ने अब तक उस पर अपनी सहमति नहीं दी है।

1994 में सुष्मिता ने जीता था मिस यूनिवर्स का ताज

सुष्मिता सेन ने 21 मई 1994 को मनीला में आयोजित प्रतियोगिता में मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम किया था। ऐसा करने वाली वह पहली भारतीय महिला थीं। मिस यूनिवर्स में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए सुष्मिता का मुकाबला ऐश्वर्या राय से हुआ था, जो उसी साल मिस वर्ल्ड बनी थीं।

21 मई 1994 को हुई प्रतियोगिता में सुष्मिता सेन ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता।
21 मई 1994 को हुई प्रतियोगिता में सुष्मिता सेन ने मिस यूनिवर्स का खिताब जीता।

सुष्मिता जब मिस यूनिवर्स के मुकाबले में पहुंचीं तो उनके दो जवाबों ने जीतने में उनकी मदद की। उनसे पूछा गया- आपके पास पैसा और वक्त होगा तो आप क्या एडवेंचर करना चाहेंगी? इस पर सुष्मिता का जवाब था- दुनिया में बेस्ट एडवेंचर बच्चे होते हैं। मेरे पास वक्त और पैसा होगा तो मैं बच्चों के लिए कुछ करना चाहूंगी। उनके साथ समय बिताना चाहूंगी। इसके बाद पूछा गया था- आपके लिए महिला होने का मतलब क्या है? इस पर सुष्मिता ने कहा था- महिला होना भगवान का दिया तोहफा है। बच्चे की उत्पत्ति उसकी मां से होती है, जो एक महिला है। महिलाएं पुरुषों के साथ अपने प्यार को साझा करती हैं और उन्हें भी प्यार, देखभाल और शेयरिंग करना सिखाती हैं।

1904 में फीफा की स्थापना हुई

फीफा की स्थापना 21 मई 1904 को सात नेशनल एसोसिएशंस- बेल्जियम, डेनमार्क, फ्रांस, नीदरलैंड्स, स्पेन, स्वीडन और स्विट्जरलैंड ने मिलकर की थी। मकसद था एसोसिएशन फुटबॉल को बढ़ावा देना। आज फेडरेशन इंटरनेशनल डी फुटबॉल एसोसिएशन (FIFA) के 209 सदस्य हैं और यह दुनिया के सबसे प्रतिष्ठित खेल संगठनों में से एक है। फ्रेंच जर्नलिस्ट रॉबर्ट गुएरिन ने सात अन्य लोगों के साथ फीफा की स्थापना की थी।

फीफा की ओर से आयोजित पहले विश्वकप फाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ पहला गोल करते उरुग्वे के खिलाड़ी। यह टूर्नामेंट उरुग्वे में खेला गया था।
फीफा की ओर से आयोजित पहले विश्वकप फाइनल में अर्जेंटीना के खिलाफ पहला गोल करते उरुग्वे के खिलाड़ी। यह टूर्नामेंट उरुग्वे में खेला गया था।

देश-दुनिया के इतिहास में 21 मई को दर्ज अन्य प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं-

  • 2020: दशक के सबसे विनाशकारी समुद्री तूफान अम्फान की वजह से पश्चिम बंगाल में 77 लोगों की मौत।
  • 1997ः जबलपुर के पास एपिसेंटर वाला भूकंप। 27 की मौत।
  • 1996ः नई दिल्ली में ब्लास्ट में 25 लोगों की मौत। कश्मीर अलगाववादियों ने ली जिम्मेदारी।
  • 1935: क्वेटा शहर (अब पाकिस्तान में) आए भूकंप में बड़ी तबाही। 30 हजार से अधिक लोगों की मौत।
1927 में 21 मई को ही अमेरिका के पायलट चार्ल्स लिंडनबर्ग ने एक छोटे से विमान से न्यूयॉर्क से पेरिस के बीच बिना रुके पहली अटलांटिक पार उड़ान भरी।
1927 में 21 मई को ही अमेरिका के पायलट चार्ल्स लिंडनबर्ग ने एक छोटे से विमान से न्यूयॉर्क से पेरिस के बीच बिना रुके पहली अटलांटिक पार उड़ान भरी।
  • 1918: अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने महिलाओं को मतदान की अनुमति दी।
  • 1840: न्यूजीलैंड को ब्रिटेन का उपनिवेश घोषित किया गया।
1819 में 21 मई को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर की सड़कों पर पहली बार साइकिल देखी गई। तस्वीर में नजर आ रही साइकिल को उस समय स्विफ्ट वॉकर कहा जाता था। उस समय इसमें पैडल नहीं था। पहिए चलने में मदद करते थे, इस वजह से इसे यह नाम दिया गया।
1819 में 21 मई को अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर की सड़कों पर पहली बार साइकिल देखी गई। तस्वीर में नजर आ रही साइकिल को उस समय स्विफ्ट वॉकर कहा जाता था। उस समय इसमें पैडल नहीं था। पहिए चलने में मदद करते थे, इस वजह से इसे यह नाम दिया गया।
  • 1502: पुर्तगाल के जोआओ दा नोवा ने दक्षिण अटलांटिक महासागर में सेंट हेलेना द्वीप की खोज की।