• Hindi News
  • National
  • Affordable Loans, Increase In Jobs; Home Purchases Doubled, More Than Pre Covid Levels, Property Consultant Anarock Reports For The Quarter Of July September 2021

सस्ते लोन, नौकरियां बढ़ने का असर:घर खरीदी बढ़कर हुई दोगुनी, कोविड-पूर्व स्तर से भी ज्यादा, प्रॉपर्टी कंसल्टेंट एनारॉक की जुलाई-सितंबर 2021 तिमाही की रिपोर्ट

2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भारत के रियल एस्टेट सेक्टर में 2022 में विदेशी निवेश रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है। - Dainik Bhaskar
भारत के रियल एस्टेट सेक्टर में 2022 में विदेशी निवेश रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है।

होम लोन की कम ब्याज दरों और आईटी व इससे जुड़े सर्विस सेक्टर में नौकरियां बढ़ने का सकारात्मक असर घर खरीदी पर दिखने लगा है। इस साल जुलाई से सितंबर की तिमाही में देश के 7 प्रमुख शहरों में घर खरीदी में दोगुना उछाल आया और 62,800 घरों की बिक्री हुई है। खुशखबर यह है कि यह बिक्री काेविड-पूर्व के स्तर से भी ज्यादा हुई है।

प्रॉपर्टी कंसल्टेंट एनारॉक की ताजा रिपोर्ट बताती है कि 7 प्रमुख शहरों में 2020 की समान तिमाही में 29,520 यूनिट्स खरीदी गईं। वहीं कोरोना काल के पहले यानी जुलाई-सितंबर 2019 में 55,080 और 2018 की समान तिमाही में 52,130 यूनिट्स बिकी थीं। अप्रैल-जून 2021 की तिमाही में 24,560 घरों की खरीद हुई थी।

2021 में 30% उछाल का अनुमान

इससे पहले एनारॉक ने 7 शहरों में सालाना आधार पर 30% उछाल के साथ 1,79,527 घरों की बिक्री का अनुमान लगाया था। पिछले साल 2020 में 1,38,344 घरों की बिक्री हुई थी। कोरोना से पहले वर्ष 2019 में 7 प्रमुख शहरों में 2,61,358 घर बिके थे।

नाइट फ्रैंक का दावा - 2022 में रियल एस्टेट में 2.5 अरब डॉलर निवेश आएगा

नाइट फ्रैंक ने ताजा रिपोर्ट में दावा किया है कि भारत के रियल एस्टेट सेक्टर में 2022 में विदेशी निवेश रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है। यह आंकड़ा 18,500 करोड़ रुपए (2.5 अरब डॉलर) हो सकता है। अमेरिका, यूके, जर्मनी, फ्रांस, नीदरलैंड्स निवेश के शीर्ष देश होंगे।

मुंबई, पुणे, हैदराबाद, चेन्नई और काेलकाता में दोगुने से ज्यादा बिके

जुलाई-सितंबर की तिमाही में बिकी यूनिट।

(सातों शहर में इस तिमाही 64,560 नए घर बिकने आए। 2020 की समान तिमाही में यह 32,530 थे। यानी 98% अधिक घर बनकर तैयार हुए।)

डिमांड इसलिए... नौकरी, खुद का घर

  • आईटी और इससे जुड़े सर्विस सेक्टर में ग्रोथ से बड़े पैमाने पर हाउसिंग डिमांड निकल रही है।
  • जॉब सिक्योरिटी और रिकॉर्ड निचले स्तर पर होम लोन की दरों के चलते घरों की मांग बढ़ी है।
  • खुद का घर खरीदने का सेंटीमेंट मजबूत हुआ।
  • वर्क फ्रॉम होम के बढ़ते चलन के कारण लोग बड़े फ्लैट या बड़े मकान लेना पसंद कर रहे हैं।

इस बीच - घरों की कीमतें भी 3% बढ़ीं
रिपोर्ट के मुताबिक, घरों की कीमतों में भी तीन फीसदी का इजाफा हुआ है। जुलाई-सितंबर 2021 तिमाही में घरों के दाम 5,760 रुपए वर्ग फुट तक पहुंच गए। यह पिछले साल की समान तिमाही में 5,600 रुपए वर्ग फुट ही थे। यानी करीब 3%।

खबरें और भी हैं...