पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चिकित्सा विभाग स्वाइन फ्लू रोकता, उससे पहले ही राजस्थान डेंगू में भी नंबर-1

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • स्वाइन फ्लू : अब तक 83 लोगों की मौत तथा 2123 पॉजिटिव
  • डेंगू : इस माह 80 पॉजिटिव, मलेरिया : 70 मरीज जनवरी में

जयपुर. राजस्थान में लोगों को सतर्क रहने की जरूरत है। वजह स्वाइन फ्लू फैलने से रोकने में स्वास्थ्य विभाग नाकाम रहा। विभाग स्वाइन फ्लू पर एकाग्र होता इससे पहले ही राजस्थान डेंगू और मलेरिया के पॉजिटिव केसेज में भी देश में पहले नंबर पर आ गया है।

1) स्वाइन फ्लू: सबसे ज्यादा 37 मौतें जोधपुर, 838 पॉजिटिव जयपुर में

स्वाइन फ्लू से अब तक प्रदेश में 83 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 2123 पहुंच गया है। गुरुवार को भी 3 मरीजों की मौत हुई जबकि 78 नए मरीज सामने आए। वहीं मच्छर से फैलने वाले डेंगू के जनवरी में ही 80 मामले सामने आ चुके हैं। यह देश में सबसे अधिक हैं। अकेले जयपुर 64 मरीज सामने आए हैं। इसी तरह माइट या पिस्सू के काटने से अकेले जयपुर में ही 17 केसेज मिले है। मलेरिया के भी जनवरी में 70 मरीज सामने आ चुके हैं। सबसे अधिक मरीज उदयपुर में मिले।

स्वाइन फ्लू से अब तक सबसे अधिक 37 मौतें जोधपुर और सबसे अधिक पॉजिटिव 838 जयपुर में मिले हैं। चिकित्सा मंत्री डॉ.रघु शर्मा भी पश्चिमी राजस्थान में दौरे कर रहे हैं।

 

 

डेंगू : एडीज एजिप्टाई मच्छर से फैलने वाली डेंगू के जनवरी में 80 मामले मिले हैं। जयपुर में 64, कोटा में 10, बूंदी व करौली में तीन-तीन केसेज मिले हैं। विभाग की ओर से पिछले साल चलाए गए अभियान पर सवालिया निशान लग गया है।

 

मलेरिया : प्रदेश में 70 केसेज मिले हैं। उदयपुर में उदयपुर 30, डूंगरपुर में 8, बारां में 6, प्रतापगढ़ में 4, चित्तौड़गढ़ में 2,सवाई माधोपुर, हनुमानगढ़ और नागौर में 1-1 केस मिले हैं।

बारिश के बाद में मलेरिया, डेंगू व स्क्रब टाइफस जैसी बीमारी फैलती है। संबंधित अधिकारियों को रोकथाम के भी निर्देश दिए हैं। -डॉ. रवि प्रकाश माथुर, अतिरिक्त निदेशक

राज्य    केसेज    डेथ
राजस्थान    2123    83
पंजाब    180    26
गुजरात    580    20
हरियाणा    370    03
जेएंडके    130    10
भारत    4700    180