पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • AgustaWestland Co accused Rajiv Saxena, Lobbyist Deepak Talwar Extradited To India

मिशेल के बाद दो और आरोपी भारत लाए गए

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • 3600 करोड़ रुपए के वीवीआईपी हेलीकाॅप्टर घोटाले में आरोपी राजीव सक्सेना और दीपक तलवार को बुधवार देर रात भारत लाया गया
  • इससे पहले इस मामले में दिसंबर 2018 में बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को यूएई से प्रत्यर्पित किया गया था

दुबई. 3600 करोड़ रुपए के अगस्ता-वेस्टलैंड हेलिकाॅप्टर घोटाले मेें भारत सरकार को एक और कामयाबी मिली है। बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल के बाद इस मामले में दो और आरोपियों राजीव सक्सेना, दीपक तलवार को बुधवार देर रात भारत लाया गया। पटियाला हाउस कोर्ट ने उन्हें चार दिन के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की हिरासत में भेजा है।

 

यूएई की सुरक्षा एजेंसियों ने सक्सेना को बुधवार को दुबई से गिरफ्तार किया था। ईडी की टीम प्राइवेट जेट से आरोपियों को दुबई से दिल्ली लेकर आई। दिसंबर 2018 में इसी मामले में आरोपी ब्रिटिश नागरिक मिशेल को यूएई से प्रत्यर्पित किया गया था।

 

सक्सेना पर मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप

सक्सेना पर अगस्ता डील में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप हैं। ईडी ने अपनी चार्जशीट में जिक्र किया है कि अगस्ता वेस्टलैंड में प्रभाव रखने वाले वकील गौतम खेतान ने फर्जी इंजीनियरिंग कॉन्ट्रैक्ट बनाकर रिश्वत के पैसे हासिल किए। खेतान अभी ईडी की हिरासत में है। इस मामले में सक्सेना खेतान के साथ आरोपी है।

 

जांच शुरू होने के बाद ही दुबई फरार हो गया था तलवार

दीपक तलवार पर भी मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप हैं। उस पर एनजीओ के जरिए 90 करोड़ रुपए से ज्यादा के फंड का दुरुपयोग करने के आरोप हैं। जांच शुरू होने पर तलवार दुबई भाग गया था। उसके खिलाफ भारत में 1000 करोड़ रुपए से ज्यादा की संपत्ति छुपाने की जांच भी चल रही है।

 

सक्सेना के खिलाफ गैर-जमानती वारंट था 
ईडी ने दिसंबर में यूएचवाई कंपनी के निदेशक राजीव सक्सेना की जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान कोर्ट में कहा था कि बार-बार सूचित करने के बाद भी आरोपी जांच में शामिल नहीं हुआ। कोर्ट ने 6 अक्टूबर को सक्सेना के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी किया था।