एयर इंडिया ने कर्मचारियों को भेजा नोटिस:26 जुलाई तक सरकारी आवास खाली करना होगा, दिल्ली और मुंबई में हैं मेजर हाउसिंग कॉलोनियां

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

टाटा ग्रुप स्वामित्व वाली एयर इंडिया ने अपने कर्मचारियों को दिए गए घरों को खाली करने के लिए कहा है। ऑफिशियल डॉक्यूमेंट के मुताबिक, नोटिस जारी कर घर खाली करने के लिए 26 जुलाई तक का समय दिया गया है।

टाटा ग्रुप ने पिछले साल 8 अक्टूबर को एयर इंडिया को खरीदा था। इसमें डीइनवेस्टमेंट की शर्तों के मुताबिक, एयरलाइंस की नान-कोर (गैर-प्रमुख) एसेट्स जैसे कि कॉलोनी सरकार के पास ही रहती है। इसलिए कर्मचारियों को कॉलोनियों को खाली करने के लिए कहा गया है।

दिल्ली और मुंबई में हैं प्रमुख हाउसिंग कॉलोनियां
एयर इंडिया की दिल्ली और मुंबई में कि दो प्रमुख हाउसिंग कॉलोनियां हैं। एयर इंडिया ने 18 मई को एक आदेश जारी किया था, जिसमें कहा गया कि एआई एसेट्स होल्डिंग लिमिटेड (AIAHL) ने हमें 17 मई को एक ईमेल भेजा था। ईमेल में एयर इंडिया कंपनी के दिए गए घरों में रह रहे कर्मचारियों को 26 जुलाई तक घर खाली करने का रिमाइंडर भेजने की सलाह दी गई है। हालांकि, AISAM ने पहले ही एयर इंडिया को इस बात से अवगत कर दिया था।

2019 में स्थापित हुआ AIAHL
AIAHL को 2019 में कैंद्र द्वारा बनाया गया था। ये डीइनवेस्टमेंट के बाद एयर इंडिया ग्रुप कि नान-कोर एसेट्स को बेचकर कर्ज को चुकाने के लिए बनाई गई है।

इसके साथ ही AISAM भी बना, जो मंत्रियों का एक ग्रुप है। इसे गृह मंत्री अमित शाह, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल और नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की अध्यक्षता में बनाया था, जिन्होंने एयर इंडिया के डीनवेस्टमेंट कि जिम्मेदारी को संभाला था।