• Hindi News
  • National
  • Mohammed Zubair Alt News | AltNews Co founder Mohammed Zubair Arrested By Delhi Police

ऑल्ट न्यूज के को-फाउंडर को 4 दिन की कस्टडी:पुलिस बोली- जांच में सहयोग नहीं कर रहे जुबैर; धार्मिक भावनाएं भड़काने का है आरोप

नई दिल्ली2 महीने पहले

फैक्ट-चेकिंग वेबसाइट AltNews के को-फाउंडर, पत्रकार मोहम्मद जुबैर को दिल्ली कोर्ट ने चार दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है। जुबैर पर विवादित पोस्ट के जरिए धार्मिक भावनाएं भड़काने का आरोप है। उन्हें दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने सोमवार को अरेस्ट किया था। उन्हें IPC की धारा 153/295 के तहत गिरफ्तार किया गया है।

गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने सोमवार को ही जुबैर को ड्यूटी मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश करके 4 दिन की कस्टडी की मांग की थी। तब उन्हें कोर्ट ने एक दिन की कस्टडी में भेजा था। मंगलवार को दिल्ली पुलिस ने जुबैर पर जांच में सहयोग न करने का आरोप लगाया था। कोर्ट में पुलिस ने ट्वीट करने में इस्तेमाल हुई डिवाइस जब्त करने के लिए जुबेर की कस्टडी मांगी। इस पर कोर्ट ने उन्हें 4 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है।

दिल्ली पुलिस के पास पिछले तीन महीनों में ऑल्ट न्यूज के को-फाउंडर जुबैर के बैंक खाते में 50 लाख रुपए आने के सबूत हैं। पैसे आने के सोर्स की जांच की जा रही है। पुलिस आगे की जांच के लिए ज़ुबैर को बेंगलुरु ले जा सकती है।

आगे पढ़ने से पहले आप नीचे दिए पोल में हिस्सा लेकर अपनी राय दे सकते हैं....

चार साल पुरानी पोस्ट पर हुई गिरफ्तारी
जुबैर की गिरफ्तारी जिस पोस्ट को लेकर हुई है, वो पोस्ट 2018 की है। इस पर IFSO डीसीपी केपी एस मल्होत्रा ने कहा कि पोस्ट काफी पूराना होने से फर्क नहीं पड़ता, क्योंकि आपको सिर्फ उसे रीट्वीट कर किसी को टैग कर देना है और वह नया बन जाता है। उन्होंने कहा इस मामले में जुबैर के फोन की ज़रूरत थी, लेकिन उसने फोन को फॉर्मेट किया हुआ था। इसी आधार पर हमने उसे गिरफ़्तार किया।

अगर आप किसी ट्वीट को रीट्वीट करते हैं तो वे आपका विचार है। आप यह नहीं कह सकते कि उसमें क्या था, उससे होने वाली प्रतिक्रिया भी आपकी ज़िम्मेदारी है। हमें किसी ने जुबैर के एक ट्वीट पर टैग किया था। इसी आधार पर हमने मामला दर्ज़ किया। मामले में जब पूछताछ की गई तो वो इससे भाग रहे थे।

मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया था।
मोहम्मद जुबैर को दिल्ली पुलिस ने मंगलवार को पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया था।

जुबेर की पोस्ट धर्म विशेष के खिलाफ
जुबैर की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस ने कहा कि उनके खिलाफ नफरत फैलाने के पर्याप्त सबूत मौजूद हैं। जुबैर की तरफ से सोशल मीडिया में एक विशेष धर्म समुदाय के खिलाफ जान बूझकर फोटो पोस्ट की गई थी, जिससे लोगों के बीच अशांति फैल रही थी। इसी के आधार पर उन्हें अरेस्ट किया गया है।

इस पोस्ट ने खड़ा किया था विवाद
जुबैर ने फिल्म निर्माता ऋषिकेश मुखर्जी की फिल्म किसी से ना कहना का एक क्लिप शेयर किया था। इसमें एक होटल के बाहर बोर्ड नजर आ रहा है, जिस पर हिंदी में हनुमान होटल लिखा हुआ था। हालांकि उस बोर्ड पर पेंट के निशान से पता चलता है कि इसे पहले हनीमून होटल कहा जाता था और फिर हनीमून को बदलकर हनुमान कर दिया गया। जुबैर ने इस पोस्ट के कैप्शन में लिखा था बिफोर 2014 हनीमून होटल, आफ्टर 2014 हनुमान होटल।

जुबैर को विवादित पोस्ट के मामले में IPC की धारा 153/295 के तहत गिरफ्तार किया गया है।
जुबैर को विवादित पोस्ट के मामले में IPC की धारा 153/295 के तहत गिरफ्तार किया गया है।

नूपुर के खिलाफ प्रदर्शनों के पीछे जुबैर का हाथ
भाजपा की निलंबित प्रवक्ता नूपुर शर्मा और निष्कासित नेता नवीन कुमार जिंदल द्वारा पैगंबर मोहम्मद के खिलाफ कथित विवादास्पद टिप्पणी को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए थे, इसके साथ ही कुछ जगहों पर हिंसा भड़क गई थी। कथित तौर पर इन प्रदर्शनों को भी ऑल्ट न्यूज के सह-संस्थापक मोहम्मद जुबैर ने हवा दी थी।

पुलिस की कार्रवाई पर सवाल भी उठे
AltNews के को-फाउंडर प्रतीक सिन्हा ने पुलिस की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं। सिन्हा का कहना है कि दिल्ली पुलिस ने अन्य मामले में पूछताछ के लिए बुलाया था, लेकिन गिरफ्तारी दूसरे मामले में हुई है। उन्होंने कहा कि जुबैर को दूसरे मामले के लिए किसी तरह की नोटिस भी नहीं दी गई। बार-बार अनुरोध के बावजूद हमें FIR की कॉपी भी नहीं दी जा रही है।

प्रतीक ने दावा किया है कि मेडिकल जांच के बाद जुबैर को किसी अज्ञात स्थान पर ले जाया जा रहा है। पुलिस वालों ने अपने नाम का टैग भी नहीं लगाया है। जुबैर के वकीलों को इसकी जानकारी नहीं दी जा रही है। प्रतीक के मुताबिक, पुलिस वैन में वे भी हैं।

राहुल गांधी ने की गिरफ्तारी की निंदा
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने जुबैर की गिरफ्तारी की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट में कहा कि BJP की नफरत, कट्टरता और झूठ को जो भी उजागर करता है, ऐसा हर शख्स उनके लिए खतरा हो जाता है। उन्होंने कहा कि अत्याचार पर हमेशा सत्य की विजय होती है। सच की आवाज उठाने वाले एक शख्स को गिरफ्तार करने पर हजार और सामने आएंगे।

ओवैसी ने गिरफ्तारी का विरोध किया
AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मोहम्मद जुबैर की गिरफ्तारी अत्यंत निंदनीय है। उन्हें बिना किसी नोटिस के किसी अज्ञात FIR में गिरफ्तार किया गया है। यह कानून का उल्लंघन है। उन्होंने आगे कहा कि नफरती नारे लगाने वालों के खिलाफ दिल्ली पुलिस कोई कदम नहीं उठाती है, लेकिन सच्चाई को सामने लाने वाले लोगों के खिलाफ कार्रवाई करती है।