--Advertisement--

कूटनीति / अमेरिका की फिर धमकी- रूस से रक्षा सौदा और ईरान से तेल खरीदना भारत के लिए मददगार नहीं होगा



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। (फाइल) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। (फाइल)
X
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। (फाइल)प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प। (फाइल)
  • अमेरिका चाहता है कि ईरान से तेल न खरीदे भारत
  • भारत ने रूस से एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम का सौदा किया था, इस पर भी अमेरिका को ऐतराज
  • एक दिन पहले ही ट्रम्प ने कहा था- भारत को इसके नतीजे भुगतने पड़ सकते हैं

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 07:43 PM IST

वॉशिंगटन. रूस से रक्षा सौदे को लेकर अमेरिकी प्रशासन ने भारत को दूसरी बार धमकी दी है। अमेरिका ने कहा कि रूस के साथ एस-400 एयर डिफेंस सिस्टम की डील और ईरान से तेल की सौदेबाजी भारत के लिए फायदेमंद साबित नहीं होगी। हम भारत के इन सौदों की बड़ी सावधानी से समीक्षा कर रहे हैं। इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा था कि रूस से डील भारत को भारी पड़ेगी।

अमेरिका ने 4 नवंबर की डेडलाइन दी

  1. अमेरिका ने ईरान से 2015 में हुए बहुपक्षीय समझौते को खत्म कर दिया था। इसके बाद अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने सहयोगी देशों पर ईरान से तेल खरीदने पर प्रतिबंध लगा दिया था। 

  2. अमेरिका ने सभी मित्र देशों से ईरान से तेल आयात ना करने की अपील की है। अमेरिका ने इसके लिए 4 नवंबर तक की डेडलाइन तय की है और कहा है कि तब तक ईरान से तेल आयात शून्य कर दिया जाए।

  3. अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीदर नुअर्ट ने कहा- हमने कई सहयोगियों से इन प्रतिबंधों को लेकर बातचीत की है। हमने सभी देशों के सामने अपनी नीति स्पष्ट कर दी है। ट्रम्प का साफ कहना है कि ईरान के बुरे इरादों को पहचानना और उसके खिलाफ सभी का साथ आना जरूरी है।

  4. नुअर्ट ने कहा- भारत को जल्द ही इस बारे में पता चलेगा। हम इस मुद्दे को देख रहे हैं। ईरान से तेल खरीदने और रूस से एस-400 सिस्टम खरीदने जैसे घटनाक्रमों की अमेरिका गंभीरता के साथ समीक्षा कर रहा है।

  5. भारत के तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा था कि दो तेल कंपनियों ने नवंबर के लिए ईरान से कच्चा तेल मंगवाने का ऑर्डर दे दिया है। इस पर नुअर्ट ने कहा- हमें इस तरह की रिपोर्ट मिली हैं। पिछले महीने विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की भारत यात्रा के दौरान भी ये मुद्दा उठा था। इस बारे में ट्रम्प ही फैसला करेंगे और वे कह चुके हैं कि हम इसका ख्याल रखेंगे।

  6. रूस से रक्षा सौदों पर अमेरिका ने लगाया है काटसा

    काउंटरिंग अमेरिकाज एडवर्सरीज थ्रू सेंक्शंस एक्ट (काटसा) के तहत अमेरिकी संसद (कांग्रेस) ने रूस से हथियार खरीदने पर प्रतिबंध लगाया है। रूस के साथ रक्षा सौदा काटसा उल्लंघन है। इसके तहत भारत को अमेरिकी प्रतिबंधों से छूट देने का अधिकार सिर्फ ट्रम्प के पास है। हालांकि, सूत्रों का कहना है कि रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस और विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने काटसा के तहत भारत को छूट देने पर जोर दिया है।

  7. ट्रम्प ने भी दी थी धमकी

    अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने बुधवार को कहा था कि रूस से एस-400 मिसाइल डिफेंस सिस्टम की डील करके भारत ने बड़ी गलती की। भारत को इसका नतीजा जल्द पता चल जाएगा। आप भी जल्द ही देखेंगे।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..