राजनीति / राहुल को घुसपैठियों की चिंता, हमले में मारे जाने वाले नागरिकों की नहीं: शाह



Amit Shah to rahul gandhi, why are you so worried about infiltrators
X
Amit Shah to rahul gandhi, why are you so worried about infiltrators

  • अमित शाह ने रविवार को दिल्ली में भाजपा के बूथ सम्मेलन को संबोधित किया
  • शाह ने कहा- 1984 के दंगाइयों को कांग्रेस ने संरक्षण दिया, भाजपा ने सजा दिलाई
  • भाजपा अध्यक्ष ने कहा- दिल्ली विधानसभा की घटना सिखों के घाव पर नमक डालने जैसी

Dainik Bhaskar

Dec 23, 2018, 03:31 PM IST

नई दिल्ली. भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने असम में घुसपैठ और 1984 के सिख विरोधी दंगों को लेकर कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि असम में अकेले 40 लाख घुसपैठियों की पहचान की गई। इसके तुरंत बाद ही राहुल बाबा और उनकी कंपनी ने संसद में शोर मचाना शुरू कर दिया। उन्हें घुसपैठियों की चिंता है, लेकिन उनके हमलों में मारे जाने वाले नागरिकों की नहीं। शाह ने रविवार को दिल्ली में भाजपा के बूथ सम्मेलन को संबोधित किया।

 

शाह ने कहा कि 1984 में दंगा करने वालों को हमेशा से कांग्रेस ने संरक्षण दिया। दिल्ली हाईकोर्ट के फैसले के बाद ये साबित हो गया कि देश में सिखों पर जो अत्याचार हुए थे, वह कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने किए थे। केंद्र की भाजपा सरकार ने दंगों के दोषियों को सजा दिलाने का काम किया।

 

आप का दोहरा चरित्र सामने आया
भाजपा अध्यक्ष ने कहा- कल दिल्ली विधानसभा में जो घटना हुई, वह सिखों के घावों पर नमक छिड़कने जैसा है। आम आदमी पार्टी को शर्म आनी चाहिए। उसका दोगुला चरित्र सामने आ गया। केजरीवाल की सरकार आई, इतने सारे वादे किए थे। आज उनकी वादों की सूची असफलता की सूची बन गई है। चुनाव से पहले आम आदमी बनकर घूमने वाले आज जेड प्लस सुरक्षा में घूम रहे हैं। उन्होंने जो अस्पताल और स्कूल खोलने के लिए कहा था, वे कहां हैं? 


कांग्रेस निर्लज्जता के साथ भाजपा पर सवाल उठा रही
शाह ने कहा- राहुल और कांग्रेस ने राफेल-राफेल कर के देश भर में हो हल्ला कर दिया। मैंने कहा था कि आपके पास जितने सबूत हैं, कोर्ट में केस चल रहा है वहां लेकर पहुंच जाएं। कांग्रेस वहां नहीं गई, अपनी बी टीम पहुंचा दी। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद सब साफ हो गया। इसके बाद भी करोड़ों के घोटाले में शामिल कांग्रेस का नेतृत्व आज बड़ी निर्लज्जता के साथ हमारी सरकार पर सवाल उठा रहा है।

COMMENT