• Hindi News
  • National
  • Amravati Murder Case | Maharashtra Amravati Chemist Umesh Kolhe Murder CCTV Footage

अमरावती मर्डर, हत्या से पहले डर गया था आरोपी:पहले भी दो बार सिर काटने की कोशिश की थी, पर कोल्हे जल्दी घर चले गए

अमरावती3 महीने पहलेलेखक: आशीष राय

अमरावती में उमेश कोल्हे की हत्या मामले में नया खुलासा हुआ है। सूत्रों ने बताया कि उमेश कोल्हे की हत्या की कोशिश पहले भी दो बार की गई थी, लेकिन वह विफल रही। हालांकि तीसरी बार में हत्यारे वारदात को अंजाम देने में कामयाब रहे।

19 जून को उन्हें पहली बार मारने की तैयारी की गई थी, लेकिन मुख्य आरोपी इरफान शेख रहीम डर गया और हत्याकांड को उस दिन अंजाम नहीं दिया जा सका। इसके बाद 20 जून को फिर से आरोपियों ने हत्या की प्लानिंग की, लेकिन उमेश को घर से कोई फोन आ गया और वे हत्यारों के वारदात वाली जगह पर पहुंचने से पहले ही दुकान बंद कर चले गए थे। इससे आरोपियों की योजना पर पानी फिर गया।

उमेश कोल्हे हत्याकांड के बड़े अपडेट्स...

  • NIA के अधिकारी इस मामले में गिरफ्तार इरफान समेत 5 आरोपियों को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ कर रहे हैं। पूछताछ के बाद आरोपियों को फिर से कस्टडी में लेने के लिए कोर्ट में पेश किया जाएगा।
  • हत्या में इस्तेमाल की गई बाइक को बरामद कर लिया गया है। बाइक लाल खाड़ी के जंगल में छिपाई गई थी। गाड़ी के नंबर प्लेट को निकाल कर कहीं और फेंक दिया गया था। इसकी जांच भी जारी है।
  • हत्या में इस्तेमाल चायनीज चाकू को 300 रुपए में खरीदा गया था। इसका खर्च मुख्य आरोपी इरफान ने दिया था।
  • कोल्हे की हत्या के विरोध में भाजपा और आरएसएस के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया। सुरक्षा को देखते हुए अमरावती में 400 से ज्यादा पुलिस के जवान तैनात किए गए।

सिर धड़ से अलग करना चाहते थे, शोर सुन भागे
आखिरकार 21 जून को योजनाबद्ध तरीके से घात लगाकर उमेश कोल्हे की हत्या कर दी गई। जानकारी के अनुसार हत्यारे कोल्हे का सिर धड़ से अलग करना चाहते थे, लेकिन पीछे से आ रहे बेटे और बहू के चिल्लाने से वे भाग गए।

दो ऑटो ड्राइवर और चार मजदूर हत्या में शामिल
जांच में यह भी सामने आया है कि इरफान शेख रहीम ने जिन आरोपियों को हायर किया था इसमें से दो ऑटो ड्राइवर और अन्य मजदूर थे। इरफान ने पहले अपने NGO में बुलाकर इनका ब्रेनवाश किया था, इसके बाद आरोपियों को पैसे का लालच देकर इस हत्याकांड में शामिल किया।

हत्या के सभी आरोपियों पर NIA ने UAPA के तहत केस दर्ज किया है। आतंकी एंगल से जांच होगी।
हत्या के सभी आरोपियों पर NIA ने UAPA के तहत केस दर्ज किया है। आतंकी एंगल से जांच होगी।

इस हत्याकांड में एक NGO संचालक, एक वेटरनरी डॉक्टर, दो ऑटो ड्राइवर और चार मजदूरों को पुलिस ने अभी तक अरेस्ट किया है। मुख्य आरोपी है इरफान शेख रहीम, यह अमरावती के कमला ग्राउंड इलाके का रहने वाला है। जांच में सामने आया है कि यह रायबर हेल्पलाइन नाम का एक NGO चलाता है। इसके कुल 21 मेंबर थे और सभी अमरावती के रहने वाले हैं

अमरावती कमिश्नर का बयान- सांसद राणा के आरोप में दम नहीं
अमरावती पुलिस कमिश्नर आरती सिंह ने कहा है कि इस घटना के मुख्य आरोपी इरफान शेख रहीम ने ही वारदात के लिए गाड़ियों, हथियार और पैसों का इंतजाम किया था। अमरावती से निर्दलीय सांसद नवनीत राणा के आरोप पर आरती सिंह ने कहा कि उन्होंने बिना एफआईआर देखे हम पर आरोप लगाए हैं। राणा ने दावा किया था कि अमरावती पुलिस इस मामले को दबाने में जुटी थी।

बिजनेस से जलता था दोस्त, हत्या के लिए उकसाया
शुरुआती जांच में सामने आया है कि हत्यारों को उकसाने में कोल्हे के दोस्त डॉ. यूसुफ का ही हाथ था। यूसुफ भी इस हत्याकांड में आरोपी है। बताया जा रहा है कि कोल्हे की बिजनेस से वह जलता था, जिस वजह से उसने साजिश रची और फेसबुक पोस्ट को जरिया बनाया।

यूसुफ ने ही फेसबुक पोस्ट को शेयर कर हत्यारों को इस्लाम के नाम पर उकसाया। इतना ही नहीं, किसी को शक न हो, इसलिए मोहम्मद यूसुफ उमेश के अंतिम संस्कार में भी शामिल हुआ था। उमेश ने यूसुफ की बेटी की शादी, बच्चे के स्कूल एडमिशन और कई बार नकद रुपए तक से मदद की थी।

कोल्हे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में क्या है?
उमेश कोल्हे की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट रविवार को सामने आई। रिपोर्ट के मुताबिक उनके गले पर 5 इंच चौड़ा, 7 इंच लंबा और 5 इंच गहरा जख्म मिला है। रिपोर्ट में आगे बताया गया है कि चाकू के वार से दिमाग की नस को नुकसान पहुंचा था। साथ ही सांस लेने वाली नली, खाना खाने वाली नली और आंख की नसें भी डैमेज हो गई थीं।

चार वॉट्सऐप ग्रुप की शुरू हुई जांच
जांच एजेंसीज ने अमरावती के 4 कथित वॉट्सऐप ग्रुप की जांच शुरू कर दी है। इनके एडमिन से भी आज NIA की टीम पूछताछ करेगी। यह कहा जा रहा है कि उन वॉट्सऐप ग्रुप में ही उमेश की पोस्ट का स्क्रीनशॉट शेयर किया गया था।