अलीगढ़ / कचौरी वाले की सालाना आय 1 करोड़ रु. तक, 12 साल में पहली बार टैक्स का नोटिस मिला



सिंबॉलिक इमेज। सिंबॉलिक इमेज।
X
सिंबॉलिक इमेज।सिंबॉलिक इमेज।

  • कचौरी-समोसा विक्रेता मुकेश का जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन नहीं
  • शिकायत मिलने पर टैक्स विभाग ने बिक्री पर नजर रखनी शुरू की थी
  • मुकेश ने कहा- नियमों की जानकारी नहीं, कभी किसी ने नहीं बताया

Dainik Bhaskar

Jun 25, 2019, 05:01 PM IST

अलीगढ़ (यूपी). यहां के मुकेश कचौरी वाले की दुकान पर सुबह से शाम तक ग्राहकों की लाइन लगी रहती है। लेकिन, फिलहाल वह एक नई वजह से चर्चा में है। मुकेश को टैक्स विभाग का नोटिस मिला है। क्योंकि, उसकी सालाना कमाई 60 लाख रुपए से 1 करोड़ रुपए के बीच आंकी गई है। मुकेश ने ना तो जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन करवा रखा है और ना ही वह टैक्स भरता है। 12 साल से दुकान चला रहे मुकेश को पहली बार टैक्स का नोटिस मिला है।

मुकेश को 5% की दर से एक साल का टैक्स देना होगा

  1. मुकेश पिछले कई साल से कचौरी-समोसे बेच रहा है, लेकिन हाल ही में किसी ने कमर्शियल टैक्स डिपार्टमेंट से शिकायत कर दी थी। उसके बाद टैक्स इंस्पेक्टर्स की टीम ने पास की दुकान पर बैठकर मुकेश की बिक्री पर नजर रखना शुरू कर दिया।

  2. मामले की जांच कर रहे स्टेट इंटेलीजेंस ब्यूरो (एसआईबी) के सदस्य ने कहा कि मुकेश ने इच्छापूर्वक आय और सभी खर्चों का ब्यौरा दे दिया। उसे जीएसटी के तहत रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा और एक साल का टैक्स भी चुकाना पड़ेगा। 40 लाख रुपए या ज्यादा के टर्नओवर वालों के लिए जीएसटी रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है। तैयार खाने पर 5% टैक्स लगता है।

  3. मुकेश का कहना है कि उसे नियमों की जानकारी नहीं थी। वह 12 साल से दुकान चला रहा है, लेकिन कभी किसी ने टैक्स से जुड़ी औपचारिकताओं के बारे में नहीं बताया। उसका कहना है कि हम साधारण लोग हैं और जीवन-यापन के लिए कचौरी और समोसे बेचते हैं।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना