• Hindi News
  • National
  • Answers To All The Questions Related To The New Assessment Scheme Of 30:30:40, Also Know Your Result

भास्कर रिजल्ट कैलकुलेटर:CBSE 12वीं के नतीजे 31 जुलाई को आएंगे, उससे पहले आप कैलकुलेट कीजिए अपना स्कोर; असेसमेंट स्कीम से जुड़े जवाब भी जानें

4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

CBSE ने 12वीं के असेसमेंट के लिए 30:30:40 का फॉर्मूला तय किया है। इसके मुताबिक, 10वीं से 30%, 11वीं से 30% और 12वीं के यूनिट टेस्ट, मिड टर्म और प्री बोर्ड एग्जाम से 40% मार्क्स लिए जाएंगे। इनके टोटल से 12वीं के थ्योरी मार्क्स कैलकुलेट किए जाएंगे। आप नीचे दिए कैलकुलेटर से अपने मार्क्स जान सकते हैं...

नोट - CBSE ने सब्जेक्ट वाइज रिजल्ट को लेकर साफतौर पर कुछ नहीं कहा है। इसलिए, हम ओवरऑल रिजल्ट मार्क्स और परसेंटेज दिखा रहे हैं।
प्रैक्टिकल एग्जाम के मार्क्स CBSE के पास पहुंचे
आप रिजल्ट को कैलकुलेट करते समय ध्यान रखें कि 30:30:40 फॉर्मूले के मुताबिक 10वीं, 11वीं और 12वीं के जिन मार्क्स को जोड़ा जा रहा है, उसे केवल थ्योरी का स्कोर ही पता चलेगा। इसे टोटल स्कोर न मानें, क्योंकि इस साल 12वीं के प्रैक्टिकल एग्जाम के मार्क्स स्कूलों की तरफ से पहले ही CBSE को भेजे जा चुके हैं।
10वीं के मार्क्स कैसे जुड़ेंगे
10वीं में स्टूडेंट्स आमतौर पर 5 या कभी-कभी 6 सब्जेक्ट्स की पढ़ाई करते हैं। इनमें से 3 टॉप स्कोर वाले सब्जेक्ट के मार्क्स जोड़े जाएंगे।
11वीं के मार्क्स कैसे जुड़ेंगे
11वीं के एग्जाम में सभी विषयों में स्कोर किए गए कुल मार्क्स को शामिल किया जाएगा। यानी, इसमें 10वीं की तरह केवल 3 सब्जेक्ट्स को नहीं चुनना है।
12वीं के मार्क्स कैसे जुड़ेंगे
12वीं में सब्जेक्ट वाइज यूनिट टेस्ट के मार्क्स, मिड टर्म एग्जाम के मार्क्स और प्री-बोर्ड एग्जाम के मार्क्स जोड़कर स्कोर कैलकुलेट किया जाएगा।

सवाल-जवाब से समझिए रिजल्ट की हर बारीकी

सवाल: अगर 3 एग्जाम हुए हों, यानी यूनिट एक्जाम, मिड टर्म और प्री-बोर्ड की स्थिति में मार्क्स कैसे कैलकुलेट होंगे?
जवाब:
यह स्कूल पर डिपेंड करेगा कि वे कौन से रिजल्ट CBSE को सब्मिट करते हैं।

सवाल: सब्जेक्ट वाइज मार्क्स को कैसे कैलकुलेट करेंगे?
जवाब:
इस पर फिलहाल स्थिति साफ नहीं है।

सवाल: जब थ्योरी के नंबर ही 500 में से काउंट किए जा रहे हैं, तो प्रैक्टिकल के साथ फाइनल स्कोर कैसे पता करेंगे?
जवाब:
यह कैलकुलेशन केवल थ्योरी एग्जाम के लिए है। प्रैक्टिकल मार्क्स फाइनल मार्कशीट में जुड़ेंगे। प्रैक्टिकल के मार्क्स स्कूल पहले ही CBSE को भेज चुके हैं।

क्यों बनाया गया 30:30:40 फॉर्मूला?
कोरोना के चलते CBSE की 10वीं और 12वीं की परीक्षाएं कैंसिल कर दी गई थीं। 12वीं के एग्जाम पर फैसला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अहम बैठक के बाद लिया गया था। इस फैसले के बाद इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट (ISC) के 12वीं के एग्जाम भी रद्द कर दिए गए थे।

CBSE ने 4 जून को 12वीं के स्टूडेंट्स की मार्किंग स्कीम तय करने के लिए 13 सदस्यीय कमेटी का गठन किया था। इन्हें 10 दिन में रिपोर्ट सौंपने को कहा था, जो सुप्रीम कोर्ट को सौंपी जा चुकी है। CBSE इस फॉर्मूले के आधार पर 31 जुलाई को रिजल्ट जारी कर सकता है। जो उससे संतुष्ट नहीं होंगे उनके लिए बाद में परीक्षा की व्यवस्था की जाएगी।

खबरें और भी हैं...