• Hindi News
  • National
  • Arun Jaitley, Arun Jaitley Death: Former Union Minister Arun Jaitley passes away; Memories Remain

स्मृति शेष / जहां अरुण जेटली के बच्चे पढ़े, उन्होंने अपने ड्राइवर और कुक के बच्चों को भी वहीं पढ़ाया



पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली 9 अगस्त से दिल्ली एम्स में भर्ती थे। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली 9 अगस्त से दिल्ली एम्स में भर्ती थे।
अमित शाह के साथ अरुण जेटली। अमित शाह के साथ अरुण जेटली।
पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली।
वैंकेया नायडू और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ अरुण जेटली। वैंकेया नायडू और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ अरुण जेटली।
अरुण जेटली का जन्म 28 दिसंबर 1952 में हुआ था। अरुण जेटली का जन्म 28 दिसंबर 1952 में हुआ था।
पहली मोदी सरकार में निर्मला सीतारमण रक्षा मंत्री और अरुण जेटली वित्त मंत्री रहे थे। पहली मोदी सरकार में निर्मला सीतारमण रक्षा मंत्री और अरुण जेटली वित्त मंत्री रहे थे।
Arun Jaitley, Arun Jaitley Death: Former Union Minister Arun Jaitley passes away; Memories Remain
Arun Jaitley, Arun Jaitley Death: Former Union Minister Arun Jaitley passes away; Memories Remain
अरुण जेटली पेशे से वकील थे। अरुण जेटली पेशे से वकील थे।
अरुण जेटली देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं। अरुण जेटली देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं।
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ अरुण जेटली। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ अरुण जेटली।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अरुण जेटली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अरुण जेटली।
अरुण जेटली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। अरुण जेटली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ अरुण जेटली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ अरुण जेटली।
X
पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली 9 अगस्त से दिल्ली एम्स में भर्ती थे।पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली 9 अगस्त से दिल्ली एम्स में भर्ती थे।
अमित शाह के साथ अरुण जेटली।अमित शाह के साथ अरुण जेटली।
पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली।पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली।
वैंकेया नायडू और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ अरुण जेटली।वैंकेया नायडू और लाल कृष्ण आडवाणी के साथ अरुण जेटली।
अरुण जेटली का जन्म 28 दिसंबर 1952 में हुआ था।अरुण जेटली का जन्म 28 दिसंबर 1952 में हुआ था।
पहली मोदी सरकार में निर्मला सीतारमण रक्षा मंत्री और अरुण जेटली वित्त मंत्री रहे थे।पहली मोदी सरकार में निर्मला सीतारमण रक्षा मंत्री और अरुण जेटली वित्त मंत्री रहे थे।
Arun Jaitley, Arun Jaitley Death: Former Union Minister Arun Jaitley passes away; Memories Remain
Arun Jaitley, Arun Jaitley Death: Former Union Minister Arun Jaitley passes away; Memories Remain
अरुण जेटली पेशे से वकील थे।अरुण जेटली पेशे से वकील थे।
अरुण जेटली देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं।अरुण जेटली देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं।
पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ अरुण जेटली।पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ अरुण जेटली।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अरुण जेटली।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अरुण जेटली।
अरुण जेटली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।अरुण जेटली और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी।
कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ अरुण जेटली।कांग्रेस नेता राहुल गांधी के साथ अरुण जेटली।

  • पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का 66 की उम्र में शनिवार को निधन हो गया
  • जेटली निजी स्टाफ के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए अहम जिम्मेदारियां निभाते थे
  • स्टाफ के कर्मचारी भी परिवार के सदस्य की तरह उनकी देखभाल करते थे

Dainik Bhaskar

Aug 24, 2019, 07:48 PM IST

नई दिल्ली (संतोष कुमार). दान वही, जो गुप्तदान हो और मदद वही, जो दूसरे हाथ को भी पता न चले। पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली भी कुछ ऐसा ही किया करते थे। जेटली अपने निजी स्टाफ के जीवन स्तर को ऊंचा उठाने के लिए कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारियां निभाते थे। उनके परिवार की देखरेख भी अपने परिवार की तरह ही करते थे, क्योंकि वे इन्हें अपने परिवार का हिस्सा मानते थे। दूसरी ओर, कर्मचारी भी परिवार के सदस्य की तरह जेटली की देखभाल करते थे। उन्हें समय पर दवा देनी हो या डाइट, सबका बखूबी ख्याल रखते थे। 

 

जेटली ने एक अघोषित नीति बना रखी थी, जिसके तहत उनके कर्मचारियों के बच्चे चाणक्यपुरी स्थित उसी कार्मल काॅन्वेंट स्कूल में पढ़ते हैं, जहां जेटली के बच्चे पढ़े हैं। अगर कर्मचारी का कोई प्रतिभावान बच्चा विदेश में पढ़ने का इच्छुक होता था तो उसे विदेश में वहीं पढ़ने भेजा जाता था, जहां जेटली के बच्चे पढ़े हैं। ड्राइवर जगन और सहायक पद्म सहित करीब 10 कर्मचारी जेटली परिवार के साथ पिछले दो-तीन दशकों से जुड़े हुए हैं। इनमें से तीन के बच्चे अभी विदेश में पढ़ रहे हैं।

 

सहयोगी का एक बेटा डॉक्टर, दूसरा बेटा इंजीनियर
जेटली परिवार के खान-पान की पूरी व्यवस्था देखने वाले जोगेंद्र की दो बेटियों में से एक लंदन में पढ़ रही हैं। संसद में साए की तरह जेटली के साथ रहने वाले सहयोगी गोपाल भंडारी का एक बेटा डॉक्टर और दूसरा इंजीनियर बन चुका है। इसके अलावा समूचे स्टाफ में सबसे अहम चेहरा थे सुरेंद्र। वे कोर्ट में जेटली के प्रैक्टिस के समय से उनके साथ थे। घर के ऑफिस से लेकर बाकी सारे काम की निगरानी इन्हीं के जिम्मे थे। जिन कर्मचारियों के बच्चे एमबीए या कोई अन्य प्रोफेशनल कोर्स करना चाहते थे, उसमें जेटली फीस से लेकर नौकरी तक का मुकम्मल प्रबंध करते थे। जेटली ने 2005 में अपने सहायक रहे ओपी शर्मा के बेटे चेतन को लॉ की पढ़ाई के दौरान अपनी 6666 नंबर की एसेंट कार गिफ्ट दी थी।

 

बच्चों से लेकर स्टाफ तक सभी को चेक से पैसे देते थे  
जेटली वित्तीय प्रबंधन में सावधानी बरतते थे। एक समय वे अपने बच्चों (रोहन व सोनाली) को जेब खर्च भी चेक से देते थे। इतना ही नहीं, स्टाफ को वेतन और मदद सबकुछ चेक से ही देते थे। उन्होंने वकालत की प्रैक्टिस के समय ही मदद के लिए वेलफेयर फंड बना लिया था। इस खर्च का प्रबंधन एक ट्रस्ट के जरिए करते थे। जिन कर्मचारियों के बच्चे अच्छे अंक लाते हैं, उन्हें जेटली की पत्नी संगीता भी गिफ्ट देकर प्रोत्साहित करती हैं। 
 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना