खुलासा / आरोपियों ने कमलेश तिवारी के साथ हिंदू समाज पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष की हत्या की भी साजिश रची थी



आरोपी अशफाक ने फर्जी नाम रोहित सोलंकी रखा था (बाएं) और हिंदू समाज पार्टी का पत्र। आरोपी अशफाक ने फर्जी नाम रोहित सोलंकी रखा था (बाएं) और हिंदू समाज पार्टी का पत्र।
आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन। आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन।
X
आरोपी अशफाक ने फर्जी नाम रोहित सोलंकी रखा था (बाएं) और हिंदू समाज पार्टी का पत्र।आरोपी अशफाक ने फर्जी नाम रोहित सोलंकी रखा था (बाएं) और हिंदू समाज पार्टी का पत्र।
आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन।आरोपी अशफाक और मोइनुद्दीन।

  • हिंदू समाज पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष गौरव गोस्वामी ने बताया- अशफाक ने कमलेश तिवारी की हत्या के दिन मुझे भी बुलाया था
  • अशफाक ने फोन कर कार्यालय आने की जिद की थी, लेकिन गौरव ने मना कर दिया तो जान बच गई
  • आरोपी अशफाक कमलेश तिवारी से रोहित सोलंकी बनकर मिला था, जय श्रीराम कहकर भरोसा जीता 
  • कमलेश की 18 अक्टूबर को लखनऊ स्थित उनके हिंदू समाज पार्टी कार्यालय में हत्या कर दी गई थी

Dainik Bhaskar

Oct 22, 2019, 11:25 AM IST

सूरत (अनूप मिश्रा). हिंदू समाज पार्टी के प्रमुख रहे कमलेश तिवारी हत्याकांड में अब नया खुलासा हुआ है। मुख्य आरोपी अशफाक ने कमलेश का विश्वास जीतने के लिए रोहित सोलंकी बनकर मुलाकात की थी। इसके लिए उसने न सिर्फ रोहित सोलंकी के नाम से फर्जी आईडी बनाई, बल्कि एचएसपी (हिंदू समाज पार्टी) नाम से फेसबुक अकाउंट खोलकर करीब 4000 लोगों को इससे जोड़ा। वह हिंदूवादी लोगों को जोड़ता और जय श्री राम के नारे भी लगाता था। यह खुलासा हिंदू समाज पार्टी के गुजरात प्रमुख जैमिन बापू ने एटीएस के सामने किया है। उधर, गुजरात वारछा के रहने वाले असली रोहित सोलंकी ने अपना आईडी इस्तेमाल करने और धोखेबाजी की शिकायत की। अशफाक अभी फरार है। 

 

अशफाक और उसके साथियों की योजना कमलेश के साथ ही हिंदू समाज पार्टी के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष गौरव गोस्वामी को भी मारने की थी। सूरत से लखनऊ जाते हुए उन्होंने गौरव गोस्वामी को फोन कर कार्यालय आने की जिद की थी, लेकिन काम ज्यादा होने के कारण गौरव ने मना कर दिया तो उसकी जान बच गई। गौरव ने भी इसकी पुष्टि की है। जैमिन बापू की पत्नी चांदनी ने बताया की जिस दिन अशफाक सूरत से लखनऊ के लिए निकला था, उसने फोन कर जैमिन को कहा था कि वह खुद मिलने जा रहा है। 20 अक्टूबर को होने वाले अधिवेशन में शामिल होकर लौटेगा।

 

अशफाक ने मार्च में कमलेश से संपर्क साधा, जून में बना सूरत आईटी सेल हेड
एटीएस के अनुसार, अशफाक ने मार्च में कमलेश से रोहित के पहचान के साथ बात की और पार्टी से जुड़ने की इच्छा जताई। पार्टी के गुजरात अध्यक्ष जैमिन बापू की पत्नी चांदनी बापू ने बताया कि अशफाक ने लगातार अयोध्या में राम मंदिर बनने के दौरान भारी भीड़ जुटाने का बहाना बनाया। कमलेश तिवारी इतना प्रभावित हुआ कि उसने 3 जून 2019 को अशफाक को ही सूरत आईटी सेल से जोड़ दिया।

 

असली रोहित सोलंकी थाने पहुंचा, शिकायत दर्ज कराई
वराछा के रहने वाले असली रोहित सोलंकी को पता चला कि उसका मार्केटिंग मैनेजर/एमआर अशफाक ही कमलेश तिवारी का हत्यारा है। उसी ने उसके नाम से नकली फेसबुक आईडी बनाई, उसका नकली आधारकार्ड भी बना लिया। इसके बाद रोहित सोमवार को वराछा थाने पहुंचा और धोखेबाजी की शिकायत दर्ज कराई।

 

aa

 

अशफाक ने कहा था- पार्टी फंड के लिए 50 हजार ले लो
आरोपी अशफाक ने 50 हजार रुपए पार्टी फंड में देने का लालच जैमिन बापू और कमलेश तिवारी दोनों को दिया था। आईटी सेल का लेटर मिलने पर उसने जैमिन को दो हजार रुपए दिए भी थे, लेकिन जैमिन ने 50 हजार रुपए लेने से मना कर दिया। आशंका है कि पहले आरोपी पैसे पहुंचाने के बहाने ही मारने वाले थे, लेकिन यह दांव नहीं चला तो सूरत की मिठाई देने के नाम पर पहुंचे।

 

कमलेश हत्याकांड में अब तक 6  साजिशकर्ता गिरफ्तार, दो मुख्य आरोपी फरार 

 

  • कमलेश तिवारी की 18 अक्टूबर को लखनऊ स्थित उनके हिंदू समाज पार्टी कार्यालय में हत्या कर दी गई थी। 19 अक्टूबर को सूरत से मुख्य साजिशकर्ता राशिद पठान, मौलाना मोहसिन शेख और फैजान को गुजरात एटीएस ने गिरफ्तार किया था। जबकि उत्तर प्रदेश एटीएस ने इस मामले में बिजनौर से दो मौलानाओं मोहम्मद मुफ्ती नईम काजमी और इमाम मौलाना अनवारुल हक को दबोचा। एक अन्य गिरफ्तारी नागपुर से हुई। नागपुर एटीएस ने सोमवार को सैयद आसिम अली (29) को अरेस्ट किया।
  • इस हत्या को अंजाम देने वाले मुख्य आरोपी अशफाक और मोईनुद्दीन फरार हैं। इनकी तलाश के लिए उत्तर प्रदेश पुलिस ने ढाई-ढाई लाख रुपए का इनाम घोषित किया है।

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना