पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • National
  • Ashok Gehlot And Sachin Pilot Will Face To Face After Month Long Political Controversy

राजस्थान का सियासी घटनाक्रम:विधानसभा सत्र से पहले गहलोत का भावुक बयान- जो हुआ उसे भूल जाओ, अपने तो अपने होते हैं, हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे

जयपुरएक महीने पहले
जयपुर में कांग्रेस विधायक दल की बैठक के दौरान विक्ट्री साइन दिखाते राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत और सचिन पायलट।
  • विधायक दल की बैठक से पहले अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच मुलाकात हुई, हाथ मिलाकर मुस्कुराए 14 अगस्त से राजस्थान विधानसभा का सत्र, कांग्रेस ने पायलट खेमे के विधायक भंवरलाल और विश्वेंद्र सिंह का निलंबन वापस लिया

राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट की गुरुवार को मुलाकात हुई। 20 जून के बाद दोनों नेता पहली बार मिले। मुलाकात गहलोत के घर पर विधायक दल की बैठक से पहले हुई और इससे कांग्रेस को काफी राहत मिली। अशोक गहलोत का कॉन्फिडेंस भी झलका। बैठक में राजस्थान के सीएम गहलोत भावुक भी हुए, विधायकों की नाराजगी पर कहा कि जो हुआ भुला दो। अपने तो अपने होते हैं। इन 19 विधायकों के बिना बहुमत साबित कर देते, पर खुशी नहीं मिलती।

गहलोत ने कहा कि हम खुद विश्वास प्रस्ताव लाएंगे। जो विधायक नाराज हैं, उनकी नाराजगी दूर करेंगे.. वो चाहें तो अभी मिल लें या चाहें तो बाद में। पार्टी के वरिष्ठ नेता केके वेणुगोपाल ने कहा कि कांग्रेस का परिवार एक है और कल सत्र में कांग्रेस अपनी एकता दिखाएंगे।

भाजपा और बसपा ने की तैयारियां

विधानसभा सत्र के दौरान भाजपा ने गहलोत सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की तैयारी कर रखी है। इसके अलावा कोरोना, टिड्‌डी दल के हमले और अन्य मुद्दों पर भी सरकार को घेरने की तैयारी है। इस बीच बसपा ने व्हिप जारी कर अपने 6 विधायकों को अविश्वास प्रस्ताव की स्थिति में कांग्रेस सरकार के खिलाफ वोट करने को कहा है।

विधायक दल की बैठक के दौरान कांग्रेस विधायकों ने विक्ट्री साइन दिखाया।
विधायक दल की बैठक के दौरान कांग्रेस विधायकों ने विक्ट्री साइन दिखाया।

बागी विधायकों की निलंबन वापसी

सचिन पायलट की कांग्रेस से सुलह के बाद उनके गुट के विधायकों को भी राहत मिलनी शुरू हो गई है। कांग्रेस ने पायलट खेमे के भंवरलाल शर्मा और विश्ववेंद्र सिंह का निलंबन वापस ले लिया है। हॉर्स ट्रेडिंग में शामिल होने के आरोपों की वजह से दोनों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई की गई थी।

मुख्यमंत्री ने कहा- गलतफहमियां भुलाकर आगे बढ़ने का समय
इससे पहले मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने फिर दोहराया है कि हमें फॉरगेट एंड फॉरगिव, आपस में भूलो, माफ करो और आगे बढ़ो की भावना के साथ डेमोक्रेसी को बचाने की लड़ाई में जुटना है। कांग्रेस की लड़ाई तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी की लीडरशिप में डेमोक्रेसी को बचाने की है। पिछले एक महीने में कांग्रेस में आपस में जो भी ना-इत्तेफाकी हुई है, उसे देश हित में, प्रदेश हित में, प्रदेशवासियों के हित में और लोकतंत्र के हित में भूल जाना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि देश में चुनी हुई सरकारों को एक-एक कर तोड़ने की साजिश चल रही है। जांच एजेंसियों और ज्यूडिशियरी का गलत इस्तेमाल हो रहा है। ये डेमोक्रेसी को कमजोर करने का बहुत खतरनाक खेल है।

14 अगस्त से विधानसभा सत्र
गहलोत खेमे के विधायकों को बुधवार को जैसलमेर से जयपुर लौटने के बाद फिर से उसी होटल फेयरमोंट में ठहराया गया है, जहां से वे 31 जुलाई को गए थे। गहलोत गुट के विधायकों की तो अभी तक होटल में बाड़ेबंदी जारी है, लेकिन पायलट गुट के विधायक अपने-अपने घरों पर ही हैं। दो दिन पहले से ही पायलट गुट के सभी विधायक बाड़ेबंदी से निकल चुके हैं। एक महीने बाड़ेबंदी में रहने के बाद मंगलवार शाम वे जयपुर लौट आए थे। बुधवार शाम 7 बजे पायलट के सरकारी आवास पर विधायकों की मीटिंग भी हुई, जिसमें आगे की स्ट्रैटजी तय की गई। हालांकि, इसे अनौपचारिक मुलाकात बताया गया।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. गहलोत खेमे के विधायक अभी होटल में ही रहेंगे, बस में गाना गुनगुनाया- ये मुरादों की हंसी रात किसे पेश करूं

2. निकम्मा होने के आरोप पर पायलट बोले- गहलोत मुझसे बड़े हैं, लेकिन मुझे भी काम के मुद्दे उठाने का हक है

3. सचिन पायलट समझ गए थे कि वसुंधरा सक्रिय नहीं हुईं तो गहलोत सरकार का गिरना मुश्किल है; इसलिए सुलह का रास्ता चुना

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें