• Hindi News
  • National
  • Assam Doctor: Pay Rs 5 Lakh Compensation To Husband For His Wife Death For Medical Negligence

असम / मानवाधिकार आयोग ने डॉक्टर को लापरवाही बरतने से महिला की मौत का दोषी पाया, 5 लाख रु. का जुर्माना लगा

प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो
X
प्रतीकात्मक फोटोप्रतीकात्मक फोटो

  • महिला ने पीठ दर्द के बाद डॉक्टर के पास गई थी, इंजेक्शन लगाने के बाद उसकी समस्या बढ़ती गई
  • महिला को अन्य अस्पताल रेफर कर दिया गया लेकिन वहां पहुंचते ही उसकी मौत हो गई
  • राज्य के स्वास्थ और परिवार कल्याण निदेशक को इस संंबंध में जांच रिपोर्ट जमा कराने को कहा था

दैनिक भास्कर

Sep 26, 2019, 08:58 PM IST

गुवाहाटी. असम मानवाधिकार आयोग (एएचआरसी) ने एक डॉक्टर को चिकित्सीय लापरवाही बरतने के कारण एक महिला की मौत का दोषी पाया है। आयोग ने मृतक के पति को पांच लाख रुपए देने का आदेश दिया है। एएचआरसी के अध्यक्ष जस्टिस टी.वैफेई ने बुधवार को अम्बरी शहरी स्वास्थ्य केंद्र के डॉ. घनश्याम ठाकुरिया को चिकित्सीय लापरवाही बरतने का दोषी पाया। डॉक्टर की लापरवाही के कारण पिंकी दास की मौत 2017 में हो गई थी।

 

आयोग ने डॉ. ठाकुरिया को मृतक महिला के पति को जुर्माने की राशि दो महीने के अंदर देने का आदेश दिया। विज्ञप्ति में कहा गया, “सरकारी अधिकारी होने के नाते उनकी ओर से राज्य सरकार यह जुर्माने की राशि दे सकती है और अगर सरकार चाहे तो वह डॉक्टर से उनकी सैलरी से किश्त या अन्य तरीके से वह रकम वसूल सकती है।”

 

महिला के पति ने 2017 में मामला दर्ज कराया था

एएचआरसी ने मरीज के पति की ओर से अक्टूबर 2017 में दायर शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया था। पिंकी दास पीठ में दर्द, हल्की बुखार और पेट में दर्द को लेकर डॉक्टर के पास गई थी। विज्ञप्ति में कहा गया, “डॉक्टर ने महिला को इंजेक्शन और ड्रिप चढ़ाने की सलाह दी। लेकिन इससे महिला की समस्याएं बढ़नी लगी और उसे अन्य अस्पताल रेफर कर दिया गया। लेकिन वहां ईलाज शुरू होने से पहले उसकी मौत हो गई।”

 

जांच में डॉक्टर की भूमिका का पता नहीं चला था

आयोग ने राज्य के स्वास्थ और परिवार कल्याण निदेशक को इस संंबंध में जांच करने और रिपोर्ट जमा कराने के आदेश दिए थे। निदेशक ने अपनी जांच में पाया कि इसमें डॉक्टर ने कोई लापरवाही नहीं बरती थी। लेकिन आयोग ने हैरानी जताई कि आखिर जांच के बाद सिर्फ पीठ दर्द की शिकायत को लेकर महिला को भर्ती क्यों किया गया और दी गयी दवा के बाद उसकी मौत कैसे हुई?

 

आयोग ने माना कि डॉक्टर ने लापरवाही बरती थी

आयोग ने इस बारे में गुवाहाटी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल के किसी विशेषज्ञ से स्वतंत्र विचार मांगा। इसके बाद भी डॉक्टर की कोई लापरवाही नहीं मिली। विज्ञप्ति में कहा गया कि आरोपी डॉक्टर के समुचित जवाब-तलब नहीं लिये जाने के कारण आयोग ने डॉ. ठकुरिया को इलाज में लापरवाही का दोषी करार दिया, जिसकी वजह से पिंकी दास की मौत हुई।

 

DBApp

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना