• Hindi News
  • National
  • Assam Police Busts Two Terror Modules; Ansarullah Bangla Team; Al Qaeda And Bangladeshi Terrorist Organization

असम पुलिस ने दो आतंकी मॉड्यूल का पर्दाफाश किया:अलकायदा और बांग्लादेशी आतंकी संगठन से जुड़े 11 लोग हिरासत में लिए गए

गुवाहाटी4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

असम पुलिस ने गुरुवार को आतंकी संगठन अल कायदा (AQIS) और अंसारुल्लाह बांग्ला टीम (ABT) से जुड़े 11 संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है। इन्हें मोरीगांव, बारपेटा, गुवाहाटी और गोलपारा जिलों से पकड़ा गया। पुलिस ने मोरीगांव के सहरियागांव में जमीउल हुडा मदरसा की बिल्डिंग को सील कर दिया है। ये पकड़े गए संदिग्ध आतंकियों का ठिकाना था। हिरासत में लिए गए लोगों के पास से कई इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और आपत्तिजनक दस्तावेज जब्त किए गए हैं। पुलिस के मुताबिक आगे की कार्रवाई की जा रही है।

जांच एजेंसी लंबे समय से ऑपरेशन में लगी थीं
पुलिस ने बताया कि एक संदिग्ध को कोलकाता से, जबकि दूसरे को असम के बारपेटा से गिरफ्तार किया गया है। वे राष्ट्र-विरोधी और टेरर फंडिंग गतिविधियों में शामिल थे। इन आतंकियों के बैंक अकाउंट की भी जांच की जा रही है।

इधर, असम के एडिशनल DGP ने कहा कि असम पुलिस और केंद्रीय जांच एजेंसियां लंबे समय से इस ऑपरेशन में लगी हुई थीं, जिसके बाद यह सफलता मिली है। बता दें कि एक दिन पहले ही यानी बुधवार को असम पुलिस ने एक स्लीपर सेल का भी भंडाफोड़ किया था। वह बांग्लादेशी आतंकी को अपने घर में पनाह दे रहा था।

मोरीगांव के एक मदरसों को सील किया गया- पुलिस
मोरीगांव के SP अपर्णा एन ने बताया कि पकड़े गए आतंकी अंसारुल्लाह बांग्ला टीम और अल-कायदा के साथ संबंध रखने वाले इस्लामिक कट्टरवाद से जुड़े हैं। SP के मुताबिक मोरीगांव के सहरियागांव में जमीउल हुडा मदरसा की बिल्डिंग को बंद कर दिया गया है। ये आतंकी इसी बिल्डिंग में पनाह ले रहे थे। इनके लिंक का पता लगाने के लिए आगे जांच की जा रही है।

SP ने बताया- 'हमें मुस्तफा नाम के एक व्यक्ति के बारे में जानकारी मिली, जो मोरियाबारी में एक मदरसा चलाता है, जहां देश विरोधी गतिविधियां होती हैं। वो भारत में अल-कायदा से संबंधित ABT के फाइनेंसिंग से जुड़ा हुआ है। उन सभी के खिलाफ UAPA की अनेक धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।'

अंसारुल्लाह बांग्ला टीम की जड़ें कई देशों में फैलीं
आतंकी संगठन अंसारुल्लाह बांग्ला टीम की जड़ें कई देशों में फैली हुई हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आतंकी पाकिस्तान और बांग्लादेश के बॉर्डर के रास्ते भारत के अलग-अलग राज्यों में पहुंचते हैं। कई बार आतंकी संगठन इस तरह के प्रयास कर चुके हैं, लेकिन एजेंसियों की सख्ती की वजह से उनके इरादे कामयाब नहीं हो पाते।

असम के कई जिलों में पुलिस और सुरक्षाबल ऐक्टिव हैं। खुफिया एजेंसियों से जानकारी मिलने के बाद तुरंत कार्रवाई की जाती है। आंकड़ों के मुताबिक पिछले पांच सालों में 2021 में बांग्लादेश और पाकिस्तान से सबसे ज्यादा घुसपैठ हुई है। बड़ी संख्या में घुसपैठिए पकड़े भी गए हैं।