• Hindi News
  • National
  • Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE

4 राज्यों की विधानसभा के नतीजे / क्या नवीन पटनायक 19 साल और चामलिंग 25 साल की अपनी सत्ता बचा पाएंगे?



Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE
Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE
Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE
X
Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE
Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE
Assembly Election Results 2019: Odisha, Andhra Pradesh, Arunachal Pradesh, Sikkim Vidhan Sabha Chunav Results 2019 LIVE

  • ओडिशा: नवीन पटनायक की 2000 से सरकार, इस बार भाजपा से कड़ी टक्कर मिल सकती है
  • आंध्रप्रदेश: तेलंगाना बनने के बाद राज्य में दूसरा चुनाव, सत्ताधारी तेदेपा को वाईएसआरएस से मिल रही चुनौती 
  • सिक्किम: एसडीएफ का सत्ता पर 1994 से कब्जा, इस बार एंटी इनकम्बेंसी का सामना करना पड़ सकता है
  • अरुणाचल: सत्ताधारी भाजपा और एनपीपी आमने-सामने, चुनाव से पहले ही 3 सीटों पर भाजपा प्रत्याशी र्निविरोध जीते

Dainik Bhaskar

May 23, 2019, 06:55 AM IST

हैदराबाद/गंगटोक/ईटानगर/भुवनेश्वर. आंध्रप्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों में वाईएसआर कांग्रेस को बहुमत मिल गया है। 46 साल के जगनमोहन रेड्डी राज्य के अगले मुख्यमंत्री होंगे। वे 30 मई को शपथ ले सकते हैं। उन्होंने 69 साल के टेक सेवी मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू की पार्टी तेदेपा को करारी शिकस्त दी। तेदेपा दहाई अंकों पर सिमट गई। वाईएसआर कांग्रेस 150 सीटों पर आगे चल रही है। राज्य में बहुमत के लिए 175 सीटों में से 88 सीटें चाहिए।

 

ओडिशा में नवीन पटनायक लगातार पांचवीं बार सरकार बनाने जा रहे हैं। इससे पहले उन्होंने 2000, 2004, 2009 और 2014 में सरकार बनाई थी। उनकी पार्टी बीजद 114 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। राज्य में सरकार बनाने के लिए 74 सीटें (कुल 147) चाहिए। उधर, अरुणाचल में भाजपा बढ़त बनाए हुए है। सिक्किम में पवन कुमार चामलिंग की पार्टी एसडीएफ चुनाव हार गई है। चामलिंग की 1994 से सरकार थी।

 

आंध्रप्रदेश:  तेदेपा के वोट शेयर में 6% की गिरावट

 

  • इस चुनाव में तेदेपा के वोट शेयर में करीब 5.94% की गिरावट रही। इससे पार्टी को  2014 के मुकाबले (102 सीटें) 79 सीटों को नुकसान हुआ। उधर, वाईएसआर कांग्रेस के वोट शेयर में 5.7% का इजाफा हुआ है। इससे पार्टी को 85 सीटों का फायदा हुआ। भाजपा के वोट शेयर में भी डेढ़ फीसदी की गिरावट देखी गई। भाजपा और कांग्रेस खाता भी नहीं खोल पाई।
  • जीत पर जगन ने कहा कि यह जनता की जीत है। मैं लोगों की उम्मीद को पूरा करने की कोशिश करूंगा। वाईएसआर कांग्रेस और मुझ पर भरोसा जताने के लिए शुक्रिया।

 

जगन ने 8 साल में पूरा किया सपना : वाईएसआर कांग्रेस के चीफ जगन मोहन रेड्डी आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता वाईएसआर राजशेखर रेड्डी के बेटे हैं। 2 सितंबर 2009 में हेलिकॉप्टर दुर्घटना में राजशेखर रेड्डी की मौत हो गई थी। उस वक्त कांग्रेस आलाकमान ने जगन को पार्टी की बागडोर नहीं दी। नाराज जगन ने पार्टी से अलग होने का फैसला लिया। 12 मार्च 2011 को वाईएसआर कांग्रेस का गठन किया। इसके बाद उन्होंने राज्य में पहला चुनाव 2014 में लड़ा और पार्टी ने 67 सीटें जीतीं। इस चुनाव में शानदार जीत पर जगन के एक करीबी नेता ने कहा कि आज उनका सपना पूरा हो गया।

 

विधानसभा की स्थिति : कुल सीटें- 175, बहुमत- 88

 

दल

2019 में सीटें 2019 में वोट शेयर

2014 में सीटें

2014 में वोट शेयर

तेदेपा

24 39.17%

102

44.9 %

वाईएसआर कांग्रेस

150 49.96%

67

44.6%

भाजपा

00 0.84%

04

2.2%

अन्य 01 10.15% 02 8.3%


 

ओडिशा : भाजपा के वोट शेयर में 14% का इजाफा, 10 सीटें भी बढ़ीं 

 

  • ओडिशा की जनता ने बीजू जनता दल पर एक बार फिर भरोसा जताया है। इस चुनाव में पार्टी की सीटें कुछ कम हुई हैं, लेकिन वोट शेयर में करीब 1.03% का इजाफा हुआ है। भाजपा को सबसे ज्यादा फायदा हुआ। पार्टी को 20 सीटें मिलती दिख रही हैं। 2014 के चुनाव में भाजपा को सिर्फ 10 सीटें मिली थीं। पार्टी के वोट शेयर में करीब 14% का इजाफा हुआ है। 
  • मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू कुप्पम सीट से चुनाव जीत गए। वे इस सीट से रिकॉर्ड आठवीं बार मैदान में थे। उन्हें 100146 वोट और वाईएसआर कांग्रेस के के. चंद्रमौली को 69424 वोट मिले।

  • वाईएसआर कांग्रेस के चीफ जगन मोहन रेड्डी ने पुलिवेंदला सीट से जीत दर्ज की। उन्होंने इस सीट से तेदेपा के एसवी सतीश कुमार रेड्डी को हराया है। जगन रेड्डी को 132356 वोट, वहीं सतीश को 42246 वोट मिले।

 

 

विधानसभा की स्थिति : 

कुल सीटें : 147, बहुमत : 74 , 146 सीटों पर मतदान हुआ*

 

दल

2019 में सीटें 2019 में वोट शेयर

2014 में सीटें

2014 में वोट शेयर

बीजद

112 44.78%

117

43.9 %

कांग्रेस

01 16.04%

16

26%

भाजपा

23 32.41%

10

18.2%

अन्य

01 6.77 %

4

11.9%

 

* एक सीट पर चुनाव टला: पतकुड़ा सीट पर बीजद के प्रत्याशी बेद प्रकाश अग्रवाल की मौत के बाद चुनाव टाल दिया गया था। ओडिशा विधानसभा की 146 सीटों के लिए चार चरणों में 73.83% मतदान हुआ था। 2014 में 73.9 मतदान हुआ था।  
 

 

सिक्किम: कुल सीटें : 32, बहुमत: 17

 

विधानसभा की स्थिति :

दल

2019 में सीटें 2019 में वोट शेयर

2014 में सीटें

2014 में वोट शेयर

एसडीएफ

15 47.63%

22

55.8%

एसकेएम

17 47.03%

10

41.4%

अन्य

00 5.46%

00 

1.4%

 

  • एसडीएफ नेता पवन कुमार चामलिंग ने नमची सिंथियांग और पोकलोक कामरांग सीटों पर जीत दर्ज की। नमची सिंथियांग सीट पर वे 377 वोट से जीते। उन्हें 5054 वोट मिले, जबकि एसकेएम के गणेश राय को 4677 वोट मिले। वहीं, पोकलोक कामरांग सीट पर पवन को 7731 वोट मिले। एसकेएम के प्रत्याशी केबी राय को 4832 वोट मिले। 
  • सिक्किम में पवन की साल 1994 से सरकार थी। वे लगातार सबसे ज्यादा वक्त (24  साल) तक मुख्यमंत्री रहने वाले वाले इकलौते नेता हैं।
  • सिक्किम विधानसभा की 32 सीटों के लिए 11 अप्रैल को 78.72% मतदान हुआ। यह पिछले चुनाव से 4.78% कम था। 2014 में 83.5% मतदान हुआ था।

 

अरुणाचल प्रदेश: कुल सीटें : 60, बहुमत : 31

 

विधानसभा की स्थिति

दल

2019 के रुझान (52/57* सीटें)

2014 में सीटें

2014 में वोट शेयर

कांग्रेस

04

42

50%

भाजपा

33

11

31.1%

जेडीयू

08

00

00

पीपीए 01  05 9.1%

अन्य

06

2

5%

 

  • मुक्तों सीट से भाजपा प्रत्याशी और मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने जीत दर्ज की है। उन्हें 4063 वोट मिले। वहीं, कांग्रेस प्रत्याशी टी कुंफेन को 1666 वोट मिले।
  • कांग्रेस ने 2014 विधानसभा चुनाव में 42 सीटें जीती थीं। पेमा खांडू के नेतृत्व में सरकार बनी। बाद में कांग्रेस के असंतुष्ट नेता पीपुल्स पार्टी ऑफ अरुणाचल में शामिल हो गए थे। फिर सभी नेताओं ने भाजपा ज्वॉइन कर ली। इस चुनाव में भाजपा को कोनराड संगमा के नेतृत्व वाली एनपीपी से टक्कर मिल रही है। संगमा की पार्टी पहली बार चुनाव लड़ रही है। चुनाव से पहले भाजपा के 18 नेता एनपीपी में शामिल हो गए थे।
  • तीन सीटों पर भाजपा र्निविरोध जीती : अरुणाचल प्रदेश की 60 में से 57 सीटों पर चुनाव हुए। 11 अप्रैल को 74.03% मतदान हुआ। पिछले चुनाव की तुलना में 7% वोटिंग ज्यादा हुई। तीन सीटों पर भाजपा के उम्मीदवार निर्विरोध चुने गए।

 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना