--Advertisement--

एनालिसिस / मप्र, छग की 50% और राजस्थान की 40% सीटों पर मंदिरों का प्रभाव



assembly election temple politics in mp rajasthan chhattisgarh
assembly election temple politics in mp rajasthan chhattisgarh
X
assembly election temple politics in mp rajasthan chhattisgarh
assembly election temple politics in mp rajasthan chhattisgarh
  • इसलिए भाजपा और कांग्रेस के अध्यक्ष जा रहे हैं मंदिर-मंदिर
  • तीनों राज्यों में प्रचार के दौरान अमित शाह और राहुल गांधी का मंदिरों में जाने का कार्यक्रम
  • मध्यप्रदेश में 8, छत्तीसगढ़ में 5 और राजस्थान में 14 प्रमुख धर्मस्थल

Dainik Bhaskar

Oct 19, 2018, 03:46 PM IST

भोपाल/रायपुर/जयपुर. चुनाव आयोग ने पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया। चुनावी घोषणा से पहले ही मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में धर्म की राजनीति तेज हो गई है। भाजपा और कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष मंदिर-मंदिर जा रहे हैं। इन तीनों राज्यों की कुल 520 विधानसभा सीटों में से 240 सीटों पर प्रमुख मंदिरों का प्रभाव है। राहुल और शाह इसी प्रभाव को देखते हुए मंदिर पॉलिटिक्स कर रहे हैं। 

 

हर राज्य में मंदिर जाना नहीं भूल रहे राहुल और अमित शाह
1) मध्यप्रदेश: राज्य की 230 में से 109 सीटों पर 8 धर्मस्थलों का प्रभाव है। अमित शाह दो बार उज्जैन के महाकाल मंदिर जा चुके हैं। राहुल भोपाल में विश्वकर्मा मंदिर और चित्रकूट में कामतानाथ मंदिर में मत्था टेक चुके हैं।
2) छत्तीसगढ़: यहां पांच प्रमुख धार्मिक स्थल 90 में से 50 सीटों के समीकरण को प्रभावित करते हैं। अमित शाह बम्लेश्वरी मंदिर, शद्दाणी दरबार, गिरौदपुरी मंदिर जा चुके हैं। शाह कबीर पंथ के पंथश्री प्रकाश मुनि से भी मिल चुके हैं। राहुल गरौदपुरी ही आए हैं। 
3) राजस्थान: यहां के 14 प्रमुख धर्मस्थल 200 विधानसभा सीटों में से 81 पर प्रभाव डालते हैं। अमित शाह जयपुर के मोतीडूंगरी, मेवाड़ के चारभुजा और नाथद्वारा, जोधपुर के मसूरिया बाबा रामदेव मंदिर जा चुके हैं। वहीं, राहुल गांधी जयपुर के गोविंद देव जी और डूंगरपुर के सिद्धेश्वर महादेव के मंदिर में दर्शन कर चुके हैं।

 

आगे और तेज होगी मंदिर पॉलिटिक्स
1) मध्यप्रदेश:
प्रचार के दौरान शाह का दतिया के पीतांबरा पीठ, खंडवा के पास ओंकारेश्वर मंदिर जाना तय है। राहुल का उज्जैन के महाकाल मंदिर और दतिया के पीतांबरा पीठ जाने का कार्यक्रम है। कांग्रेस ने राम वन गमन पथ यात्रा भी शुरू कर दी है। उसका रथ चित्रकूट से चलकर 7 जिलों की 27 सीटों से गुजरेगा। इन 27 में से 15 सीटें भाजपा, 11 कांग्रेस और एक बसपा के पास है। रास्ते में 75 बड़े मंदिर पड़ेंगे। इनमें 70 राम मंदिर हैं।
2) छत्तीसगढ़: राहुल का डोंगरगढ़ बम्लेश्वरी, कबीरधाम के भोरमदेव जाने और कबीरपंथी प्रकाश मुनि से मिलने का कार्यक्रम है। 
3) राजस्थान: राहुल नाथद्वारा के श्रीनाथजी मंदिर, राजसमंद चारभुजा और चित्तौड़गढ़ के सांवरियाजी जा सकते हैं। शाह की भी प्रचार के दौरान कई मंदिरों में जाने की संभावना है।

 

तीन राज्यों में मध्यप्रदेश की विधानसभा सीटों पर मंदिरों का सबसे ज्यादा असर
 

मध्यप्रदेश : कुल सीटें 230

 

मंदिर कितनी सीटों पर असर मंदिर कितनी सीटों पर असर
महाकाल दरबार 33 सलकनपुर मंदिर 9
पीतांबरा पीठ 28 मैहर, कामतानाथ, राम वन गमन पथ 28
रामराजा दरबार 11 असर वाली कुल सीटें 109

 

राजस्थान : कुल सीटें 200

 

मंदिर कितनी सीटों पर असर मंदिर कितनी सीटों पर असर
नाथद्वारा और चारभुजा मंदिर 23 गोविंद देवजी, मोतीडूंगरी गणेश जयपुर 5
मेहंदीपुर बालाजी और पीपलाज माता, लालसोट 8 सांवरियाजी मंदिर 5
खाटू श्यामजी 8 सालासर बालाजी 4
ब्रह्मा मंदिर 8 रणथंभौर गणेश मंदिर 4
मसूरिया बाबा रामदेव मंदिर 7 तनोट माता- रामदेवरा 2
करणी माता मंदिर, बीकानेर 7 असर वाली कुल सीटें 81

 

छत्तीसगढ़ : कुल सीटें 90

 

मंदिर कितनी सीटों पर असर मंदिर कितनी सीटों पर असर
गिरौदपुरी (गुरु घासीदास) 26 शद्दाणी 4
कबीर पंथ(प्रकाश मुनि) 11 भोरमदेव 2
बम्लेश्वरी देवी 7 असर वाली कुल सीटें 50

 

--Advertisement--
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..