• Hindi News
  • National
  • Ayodhya Ram Mandir [Updates]; Iqbal Ansari, Mahant Dinendra Das, Haji Mehboob, Zafaryab Jilani On Ram Janmabhoomi Babri

प्रतिक्रिया / हिंदू पक्ष ने कहा- मस्जिद से नहीं, बाबर के नाम से ऐतराज; मुस्लिम पक्षकारों ने फैसले का स्वागत किया



महंत दिनेंद्र दास, हाजी महबूब, जफरयान गिलानी, इकबाल अंसारी।-फाइल महंत दिनेंद्र दास, हाजी महबूब, जफरयान गिलानी, इकबाल अंसारी।-फाइल
X
महंत दिनेंद्र दास, हाजी महबूब, जफरयान गिलानी, इकबाल अंसारी।-फाइलमहंत दिनेंद्र दास, हाजी महबूब, जफरयान गिलानी, इकबाल अंसारी।-फाइल

  • मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा- कोर्ट का फैसला मान्य है
  • निर्मोही अखाड़ा के पक्षकार महंत दिनेंद्र दास ने कहा- दावा खारिज होने का कोई अफसोस नहीं
  • सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने कहा- फैसले का सम्मान, लेकिन हम मस्जिद किसी को दे नहीं सकते

Dainik Bhaskar

Nov 09, 2019, 07:33 PM IST

लखनऊ. सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की संविधान पीठ ने शनिवार को श्रीराम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद (अयोध्या केस) पर फैसला सुनाया। कोर्ट ने 2.77 एकड़ की विवादित जमीन रामलला विराजमान को देने का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा कि मुस्लिम पक्ष को मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन आवंटित की जाए। रामलला विराजमान के वकील ने कहा कि बाबर के नाम पर मस्जिद स्वीकार नहीं है, जबकि मुस्लिम पक्षकारों ने फैसले का स्वागत किया।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर हिंदू-मुस्लिम पक्षकारों की प्रतिक्रियाएं

  1. अयोध्या मामले के प्रमुख पक्षकार त्रिलोकी नाथ पांडेय ने कहा- अयोध्या में मस्जिद कहीं बने, हमें एतराज नहीं। बस, हम बाबर के नाम पर मस्जिद का विरोध करते हैं। केंद्र सरकार ट्रस्ट बनाकर मंदिर का निर्माण करवाए, इसमें कोई मतभेद नहीं। असली मकसद मंदिर का निर्माण करवाना है।

  2. अब देखना है सरकार हमें मस्जिद के लिए कहां जगह देती है: अंसारी

    बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा- कोर्ट का फैसला मान्य है। देशवासी अमन-चैन और सौहार्द बनाए रखें। अब देखना है कि सरकार हमें मस्जिद निर्माण के लिए कहां जगह देती है। फिलहाल, अदालत के इस निर्णय से एक बहुत बड़ा मसला हल हो गया। एक अन्य पक्षकार हाजी महबूब ने कहा- मैं शुरू से कह रहा हूं कि जो भी फैसला होगा हम मानेंगे।

  3. दावा खारिज होने का अफसोस नहीं: निर्मोही अखाड़ा

    निर्मोही अखाड़ा के महंत और प्रमुख पक्षकार महंत दिनेंद्र दास ने कहा- अखाड़े का दावा खारिज होने का कोई अफसोस नहीं क्योंकि, हम भी रामलला का पक्ष ले रहे थे। आगे रिविजन अपील के बारे में अखाड़ा के पंच तय करेंगे। हमें भगवान रामजी के लिए सबकुछ मिल गया।

  4. फैसले का सम्मान, पर मस्जिद की जमीन नहीं दे सकते: जिलानी

    सुप्रीम कोर्ट ने मस्जिद के लिए सरकार को पांच एकड़ जमीन सुन्नी वक्फ बोर्ड को मुहैया कराने की बात कही है। इस पर बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी ने कहा कि सवाल 5 एकड़ जमीन का नहीं। हम मस्जिद किसी को दे नहीं सकते, मस्जिद को हटाया नहीं जा सकता। जिलानी ने कहा- हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं। पूरे मुल्क की आवाम से अपील है कि शांति बनाए रखें।

  5. सुप्रीम कोर्ट का फैसला

    सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में 2.77 एकड़ की विवादित जमीन रामलला विराजमान को देने का आदेश दिया। कोर्ट ने कहा कि मुस्लिम पक्ष को मस्जिद निर्माण के लिए 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन आवंटित की जाए। इसके साथ ही, केंद्र सरकार को आदेश दिया है कि वह मंदिर निर्माण के लिए तीन माह में ट्रस्ट बनाए।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना