आरएसएस / भैयाजी जोशी ने कहा- देश में एनआरसी लागू करे सरकार, अपने नागरिकों के हितों की चिंता जरूरी

आरएसएस सरकार्यवाह भैयाजी जोशी। (फाइल फोटो) आरएसएस सरकार्यवाह भैयाजी जोशी। (फाइल फोटो)
X
आरएसएस सरकार्यवाह भैयाजी जोशी। (फाइल फोटो)आरएसएस सरकार्यवाह भैयाजी जोशी। (फाइल फोटो)

  • जोशी ने कहा- देश के कई इलाकों में क्षेत्रीय असंतुलन पैदा हो गया है, जो देश की सुरक्षा के लिए खतरा है
  • उन्होंने कहा- कुछ राज्यों में बाहरी लोग राष्ट्रविरोधी ताकतों से गठजोड़ करके हिंदुओं के खिलाफ काम कर रहे हैं

दैनिक भास्कर

Oct 18, 2019, 09:30 PM IST

भुवनेश्वर. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरकार्यवाह भैयाजी जोशी ने शुक्रवार को आरएसएस के अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की 3 दिवसीय बैठक के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि देशभर में राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) को लागू किया जाना चाहिए। इससे अवैध प्रवासियों को देश से निकाला जा सकेगा।

 

जोशी ने कहा, "देशभर में एनआरसी लागू करने की जरूरत है। सरकार को एनआरसी लागू करनी चाहिए। देश में बड़ी संख्या में घुसपैठिए हैं। तत्काल उनकी पहचान की जाने की जरूरत है। हमारी सरकार को पहले अपने नागरिकों के हितों की चिंता करनी चाहिए।"

 

भैयाजी जोशी ने कहा- 

  • ‘‘राष्ट्र विरोधी लोगों और कामों की पहचान करना सरकार की प्राथमिक जिम्मेदारी है। इन पर लगाम लगाने के लिए जरूरी कदम उठाए जाने जरूरी हैं। देश के कई इलाकों में क्षेत्रीय असंतुलन पैदा हो गया है, जो देश की सुरक्षा के लिए खतरा है। कुछ राज्यों में बाहरी लोग राष्ट्रविरोधी ताकतों से गठजोड़ करके हिंदुओं के खिलाफ काम कर रहे हैं।’’
  • ‘‘एनआरसी किसी धार्मिक समुदाय के खिलाफ नहीं है। हमारा मानना है कि जो हमारे देश में बाहर से आए हैं, वो विदेशी हैं और भारत के नागरिक नहीं हैं। भारतीयों की पहचान होनी जरूरी है। प्रवासियों के बारे में निर्णय लेने का काम सरकार पर छोड़ देना चाहिए।’’
  • ‘‘किसी देश में नागरिकों के लिए अलग-अलग कानून क्यों होने चाहिए? देश में समान नागरिक संहिता लागू करने का समय आ गया है। ये आरएसएस की प्राथमिक मांगों में से एक है। सरकार को इसे बिना किसी हिचक के लागू करना चाहिए।’’
  • ‘‘जम्मू-कश्मीर से धारा 370 और 35-ए हटाने के फैसले ने 1990 से घाटी से बाहर रह रहे हिंदुओं की वापसी की राह खोली हैं। हिंदुओं ने जो अत्याचार सहे हैं, मुझे उम्मीद है अब वो अपनी जड़ों की तरफ लौट सकेंगे।’’
  • ‘‘पश्चिम बंगाल में हिंदुओं की हत्या पर तुरंत रोक लगनी चाहिए। बंगाल हमेशा से कला और शांति का गढ़ रहा है। ऐसे में वहां की सरकार की चुप्पी संदेहास्पद है।’’
  • ‘‘अयोध्या मामले पर हम पिछले कई साल से कहते रहे हैं कि राम मंदिर निर्माण की बाधाएं हटाई जानी चाहिए। हमें हिंदुओं के पक्ष में फैसले की उम्मीद है। अगर समझौते से हल निकल सकता, तो ये केस कोर्ट में नहीं जाता।’’

DBApp

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना