राजस्थान: कुशलगढ़ विधायक रमीला ने नाबालिग बेटे का करा दिया विवाह, दादी भी बन गईं

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कुशलगढ़ विधायक रमीला के बेटे और बहू। - Dainik Bhaskar
कुशलगढ़ विधायक रमीला के बेटे और बहू।
  • विधायक के बेटे राेहित की 19 वर्ष 9 माह में शादी, 20 साल 6 माह में पिता बना
  • विधायक बोलीं- शादी नहीं कराई है, साथ में रहते थे तो हो गया बच्चा

बांसवाड़ा/बीकानेर (प्रियंक भट्‌ट/चिराग द्विवेदी). कुशलगढ़ से निर्दलीय के रूप में विधायक बनीं रमीला खड़िया की ओर से प्रशासन और कोर्ट की पाबंदी के बावजूद तय उम्र से पहले अपने बेटे राेहित की शादी कराने का चौंकाने वाला मामला सामने आया है। वे बेटे के शादी लायक होने की उम्र से पहले ही दादी भी बन गईं। राेहित ने इस साल 5 जुलाई को 21वें साल में प्रवेश किया है। जबकि शादी के समय वह 19 साल 9 माह का था। पिता भी साढ़े 20 साल में बन गया। रमीला उस समय प्रधान थीं और बेटे की शादी मप्र के झाबुआ जिले के थांदला में जाकर कराई।

 

राेहित की 19 वर्ष 9 माह में शादी, 20 साल 6 माह में पिता बना
 

जन्म तारीख 4 जुलाई, 1998
शादी 6 मार्च, 2018
शादी के समय उम्र 19 वर्ष 9 माह
बेटे का जन्म 31 दिसंबर, 2018
बेटे के जन्म के समय 20 साल 6 माह

 

 

मप्र के झांबुआ में कराया विवाह

न कलेक्टर के आदेश माने, न कोर्ट के : 23 फरवरी, 2018 को भील समग्र विकास परिषद कुशलगढ़ ने कलेक्टर को शिकायत दी थी कि प्रधान रमीला के बेटे रोहित की शादी 6 मार्च, 2018 को लंकाई निवासी शांतिलाल की बेटी से होने जा रही है, जबकि रोहित की उम्र शादी की नहीं है। तत्कालीन एडीएम हिम्मतसिंह बारहठ ने 28 फरवरी को बाल विवाह रोकने के निर्देश दिए। मामला कोर्ट में भी गया। कोर्ट ने भी शादी पर पाबंदी लगाई थी। 5 मार्च 2018 को अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कुशलगढ़ दिनेश कुमार गढ़वाल ने प्रधान रमीला पाबंद किया था कि रोहित का विवाह 21 वर्ष होने से पूर्व तक नहीं करेंगे। बताया जा रहा है कि इसी वजह से विधायक ने मध्यप्रदेश के झांबुआ जिले के थांदला के एक आश्रम में बेटे की शादी कराई।

 

मैं बिल्कुल अकेली थी तब मैंने शादी करने का सोचा। विरोधियों ने इस पर आरोप लगाया कि ये तो बाल विवाह है। इस पर मैंने कोर्ट में जाकर मजिस्ट्रेट के समक्ष लिखकर दिया था कि ये शादी में नहीं कराउंगी। कोई शादी का सबूत हो तो मुझे दे सकता है। सगाई करने के बाद दोनों उदयपुर रहते थे। ये तो अधिकार है कि लड़का शादी नहीं हो तो साथ में रह सकते हैं। बेटा हो गया तो क्या करें। दोनों पति पत्नी साथ में रहते थे उदयपुर। बच्चा हो गया तो क्या हुआ।  -रमीला खड़िया, विधायक, कुशलगढ़।

 

यह मामला मेरे ज्वाइन करने से पहले का है। लेकिन, अब ध्यान में आया है तो नियमानुसार जांच कराएंगे। -आशीष गुप्ता, कलेक्टर

 

भास्कर संवाददाताओं ने  इस खुलासे के लिए 4 दिन तक कुशलगढ़ से मध्यप्रदेश तक गहन पड़ताल की। इस दौरान  कुशलगढ़ तहसील कार्यालय, आईसीडीएस, रोहित की स्कूल के अलावा नगर परिषद से उसके बेटे का जन्म प्रमाण पत्र और एमजी अस्पताल से पत्नी प्रियंका की डिलिवरी रिपोर्ट तक निकलवाई। इतना ही नहीं मध्यप्रदेश के थांदला के उस आश्रम के भी दस्तावेज खंगाले, जहां रोहित की चोरी-छिपे शादी कराई गई थी।