• Hindi News
  • National
  • Bipin Rawat Helicopter Accident Eyewitness; Says Chopper IAF Mi 17V5 Hit Trees

हेलिकॉप्टर हादसे का सच:चश्मदीद बोला- क्रैश होने के बाद पेड़ों से टकराया चॉपर फिर आग लगी, जलते हुए लोग बाहर निकले

नई दिल्ली2 महीने पहले

सेना का MI-17 हेलिकॉप्टर बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर में क्रैश हो गया। इसमें 14 लोग सवार थे। हादसे में चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (CDS) जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका का निधन हो गया। हादसा जिस इलाके में हुआ, वहां गहरी धुंध थी। माना जा रहा है कि हादसे की सबसे बड़ी वजह मौसम ही है।

इस मामले में कुछ चश्मदीद भी सामने आए हैं। इनके मुताबिक हेलिकॉप्टर तेजी से पेड़ों पर गिरा। इसके बाद उसमें आग लग गई। एक और चश्मदीद का कहना है कि उसने जलते हुए लोगों को गिरते देखा।

स्थानीय लोग सबसे पहले पहुंचे
घटना के एक चश्मदीद कृष्णास्वामी ने कहा- मैं अपने घर में था। तभी एक तेज आवाज सुनाई दी। बाहर आकर देखा तो एक हेलिकॉप्टर क्रैश हुआ था। यह एक के बाद एक दो पेड़ों से टकराया। इसके बाद उसमें आग लग गई। मैंने दो या तीन लोगों को हेलिकॉप्टर से निकलते भी देखा, इनके शरीर में आग लगी हुई थी। मैंने उस इलाके में रहने वाले लोगों को बुलाया और मदद की कोशिश की। इसके बाद फायर ब्रिगेड और इमरजेंसी सर्विसेज को सूचना दी गई।

घटनास्थल पर बुधवार दोपहर कुछ ऐसे हालात थे।
घटनास्थल पर बुधवार दोपहर कुछ ऐसे हालात थे।

घटनास्थल से 100 मीटर दूर है कृष्णा का घर
घटनास्थल पर सबसे पहले पहुंचने वाले कृष्णास्वामी के मुताबिक जिस जगह हेलिकॉप्टर गिरा, वहां से उनका घर महज 100 मीटर दूर है। घटना दोपहर करीब 12 बजकर 20 मिनट पर हुई। कृष्णा ने कहा- मैंने जैसे ही आवाज सुनी, मैं उस दिशा में भागा। पहली नजर में वहां सिर्फ आग और धुआं ही था। आग की लपटें मेरे घर की ऊंचाई से ज्यादा थीं।

इलाके में रहने वाला कुमार नाम का लड़का दौड़कर पुलिस और फायर ब्रिगेड के पास सूचना देने गया। पेड़ों के बीच गिरे हेलिकॉप्टर में से दो या तीन लोग बाहर गिरते भी दिखे। सभी के शरीर में आग लगी हुई थी।