पीयूष गोयल चेन्नई पहुंचे, अन्नाद्रमुक के साथ गठबंधन को अंतिम रूप देंगे

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • अमित शाह को भी चेन्नई आना था, अंतिम समय में कार्यक्रम बदला 
  • अन्नाद्रमुक और पीएमके ने साथ मिलकर चुनाव लड़ने का ऐलान किया 

चेन्नई. अन्नाद्रमुक मंगलवार को एनडीए में शामिल हो गई। अब तमिलनाडु में भाजपा, अन्नाद्रमुक और पीएमके मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ेंगी। तमिलनाडु के उप मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम ने मंगलवार को यहां यह ऐलान किया। इस दौरान अन्नाद्रमुक के सह संयोजक और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी मौजूद थे।

 

तमिलनाडु में लोकसभा की 39 सीटें हैं। भाजपा राज्य की पांच और अन्नाद्रमुक 27 सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी। सात सीटें पीएमके को दी गईं हैं। भाजपा-अन्नाद्रमुक के गठबंधन से पहले मंगलवार को ही अन्नाद्रमुक और पीएमके में भी सहमति बनी। पिछले लोकसभा चुनाव में अन्नाद्रमुक ने 39 में से 37 सीटें जीती थीं। गठबंधन की शर्तों के मुताबिक, भाजपा को राज्य की 21 विधानसभा सीटों पर होने वाले उपचुनाव में अन्नाद्रमुक को अपना समर्थन देना होगा।

 

एक मार्च को राज्य में मोदी की रैली
गठबंधन का ऐलान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में होना था, लेकिन वे नहीं आ सके। अब एक मार्च को कन्याकुमारी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली है। उसमें दोनों दलों के नेता मंच साझा करेंगे।

 

तमिलनाडु कुल सीटें 39 (2014 की स्थिति)

पार्टीसीटेंवोट शेयर
अन्नाद्रमुक3744.3
भाजपा1

5.5

द्रमुक026.8
कांग्रेस04.3
पीएमके14.5

* 2014 लोकसभा चुनाव में भाजपा और पीएमके ने साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था।

 

अन्नाद्रमुक और पीएमके में सहमति बनी

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए अन्नाद्रमुक और पीएमके के बीच भी सहमति बनी है। इसका ऐलान भी मंगलवार को किया गया। अन्नाद्रमुक ने पीएमके को लोकसभा की सात सीटें दी हैं। इसके अलावा एक राज्यसभा सीट भी उसे मिलेगी। पीएमके नेता रामदास ने अन्नाद्रमुक के समक्ष जो मांगें रखी हैं, उनमें कावेरी डेल्टा में मौजूद जिलों को संरक्षित कृषि क्षेत्र का दर्जा देने, तमिलनाडु में जाति आधारित जनगणना कराने और राजीव गांधी की हत्या के सात दोषियों को छोड़ा जाना शामिल है।

 

डीएमडीके के साथ भी गठबंधन कर सकती है अन्नाद्रमुक
अन्नाद्रमुक अभिनेता से नेता बने विजयकांत की पार्टी डीएमडीके के साथ भी गठबंधन की संभावना को तलाश रही है। एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि इसके बाद स्पष्ट तौर पर पता चल पाएगा कि अन्नाद्रमुक और भाजपा के बीच सीटें किस अनुपात में बांटी जाएंगी।

1) शाह की मौजूदगी में गठबंधन का ऐलान होने की संभावना

एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि गठबंधन का ऐलान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में ही होने की संभावना है। एक मार्च को कन्याकुमारी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली है। माना जा रहा है कि उस दौरान दोनों दलों के नेता मंच साझा कर सकते हैं। 

अन्नाद्रमुक से बातचीत के लिए मंगलवार को अमित शाह भी चेन्नई आने वाले थे। लेकिन शिवसेना के साथ गठबंधन का ऐलान करने के बाद वे सीधे दिल्ली रवाना हो गए। उनकी गैर मौजूदगी में तमिलनाडु के चुनाव प्रभारी पीयूष गोयल दूसरे दौर की बातचीत करेंगे। इससे पहले दोनों पार्टियां 14 फरवरी को एक दौर की वार्ता कर चुकी हैं।   

आगामी लोकसभा चुनाव के लिए अन्नाद्रमुक और पीएमके में सहमति बन गई है। मंगलवार को इसका ऐलान किया गया। अन्नाद्रमुक ने पीएमके संस्थापक डा. एस. रामदास और उनके सांसद पुत्र अंबुमनि को लोकसभा की सात सीटें दी हैं। इसके अलावा एक राज्यसभा सीट भी उन्हें मिलेगी। 

मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी और उप मुख्यमंत्री ओ पन्नीरसेल्वम की मौजूदगी में समझौते का ऐलान किया गया। इसके तहत रामदास की पार्टी तमिलनाडु की 21 विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उप चुनावों में अन्नाद्रमुक का समर्थन करेगी।  

रामदास ने कहा कि अन्नाद्रमुक के साथ उनकी दस बिंदुओं पर सहमति बनी है। उनका कहना है कि यह गठबंधन राज्य व लोगों की बेहतरी को ध्यान में रखकर किया गया है। इस दौरान अंबुमनि ने वह वजहें गिनाईं, जिन्हें ध्यान में रखकर गठबंधन किया गया है।

रामदास ने अन्नाद्रमुक के समक्ष जो मांगें रखी हैं, उनमें कावेरी डेल्टा में मौजूद जिलों को संरंक्षित कृषि क्षेत्र का दर्जा देने, तमिलनाडु में जाति आधारित जनगणना कराने और राजीव गांधी की हत्या के सात दोषियों को छोड़ा जाना शामिल है। उनका दावा है कि तमिलनाडु और पुडुचेरी की सभी 40 सीटों पर गठबंधन जीत हासिल करेगा। 

अन्नाद्रमुक अभिनेता से नेता बने विजयकांत की पार्टी डीएमडीके के साथ भी गठबंधन की संभावना को तलाश रही है। एजेंसी के सूत्रों का कहना है कि इसके बाद स्पष्ट तौर पर पता चल पाएगा कि अन्नाद्रमुक और भाजपा के बीच सीटें किस अनुपात में बांटी जाएंगी।   

पार्टीसीटेंवोट फीसदीस्विंग फीसदी
अन्नाद्रमुक3744.321.4 ऊपर
एनडीए2

18.5

4.2 नीचे

द्रमुक026.8.7 नीचे
कांग्रेस04.310.7 नीचे