--Advertisement--

आरोप / वाड्रा के दोस्त के घर से मिले थे राफेल के दस्तावेज, दलाली न मिलने पर कांग्रेस ने डील रोकी: भाजपा



संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी। संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी।
संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी। संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी।
X
संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी।संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी।
संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी।संबित पात्रा ने कहा- यूपीए सरकार भंडारी की कंपनी आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी।

  • भाजपा का आरोप- रक्षा सौदों में दलाल भंडारी ने वाड्रा को लंदन में 19 करोड़ का फ्लैट गिफ्ट में दिया
  • पात्रा ने कहा- भंडारी की कंपनी आईओएस रक्षा सौदों में दलाली करती थी

Dainik Bhaskar

Sep 25, 2018, 07:24 PM IST

नई दिल्ली. भाजपा ने राफेल डील को लेकर मंगलवार को कांग्रेस पर निशाना साधा। पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा, ''राफेल खरीद में कमीशन न मिलने की वजह से कांग्रेस ने अपनी सरकार में इस डील को पूरा नहीं होने दिया। 2016 में (सोनिया गांधी के दामाद) रॉबर्ट वाड्रा के दोस्त और आर्म्स डीलर संजय भंडारी के घर छापे के दौरान राफेल से जुड़े गोपनीय दस्तावेज मिले थे।''

 

उधर, कांग्रेस ने एक बार फिर इस मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को घेरा। प्रवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि राफेल डील के बारे में अरुण जेटली, मनोहर पर्रिकर और निर्मला सीतारमण भी नहीं जानते थे। डील के बारे में सिर्फ मोदी और फ्रांस के तत्कालीन राष्ट्रपति ओलांद जानते थे।

वाड्रा के दोस्त ने रक्षा सौदों में दलाली की : भाजपा

  1. पात्रा ने आरोप लगाया कि रॉबर्ट वाड्रा के मित्र संजय भंडारी की कंपनी ऑफसेट इंडिया सॉल्युशंस (आईओएस) कांग्रेस की सरकार के वक्त रक्षा सौदों में दलाली कर देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करने का काम करती थी। लेकिन मोदी सरकार आने के बाद उस पर कार्रवाई की गई। 

  2. उन्होंने कहा कि 2016 में संजय भंडारी ठिकानों में छापे भी पड़े। इस दौरान जांच एजेंसी को राफेल खरीद से सम्बंधित ऐसे गोपनीय दस्तावेज भी मिले, जिन्हें सिर्फ मंत्रालय में रखा जा सकता है। संजय भंडारी ने 2010 में रॉबर्ट वाड्रा के लिए लंदन में 19 करोड़ रुपये का फ्लैट भी खरीदा था।

  3. संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि कांग्रेस सरकार आईओएस को दैसो के साथ डील में शामिल करना चाहती थी। लेकिन रॉबर्ट वाड्रा को दलाली नहीं मिलने के कारण कांग्रेस पार्टी ने राफेल डील को पूरा नहीं होने दिया। 

  4. कांग्रेस का दावा- एचएएल से 95% साझेदारी की बात पूरी हो चुकी थी

    कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा- 28 मार्च 2015 में रिलायंस डिफेंस का गठन हुआ। 25 मार्च 2015 को दैसो कंपनी ने प्रेंस कॉन्फ्रेंस कर बयान दिया कि एचएएल से 95% साझेदारी की बात पूरी हो चुकी, 5% भी पूरी हो जाएगी। 11 मार्च को एचएएल और दैसो ने कहा कि जो पार्ट कंपनी बनाएगी, उसकी गारंटी वही देगी। 
     

  5. सिब्बल ने कहा कि दैसो के सीईओ को पता नहीं था कि 10 अप्रैल को क्या होने वाला है? विदेश सचिव जयशंकर ने कहा था- अप्रैल में राफेल डील पर मोदी और ओलांद बात नहीं करेंगे। उस दौरान रक्षा मंत्री (पर्रिकर) गोवा में थे। इसका मतलब इस बारे में न रक्षा मंत्रालय, विदेश मंत्रालय और न ही दैसो को पता था कि मोदी क्या करने वाले हैं? 10 अप्रैल को मोदी ने ऐलान कर दिया कि हम 36 राफेल खरीदेंगे।

  6. कांग्रेस ने जारी की केंद्र सरकार के A-Z घोटालों की लिस्ट

    कांग्रेस ने ट्विटर पर एक लिस्ट जारी की। पार्टी की सोशल मीडिया प्रमुख दिव्या स्पंदना के मुताबिक ये मोदी के शासन में घोटालों और भ्रष्टाचार की लिस्ट है।

     

Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..