उत्तराखंड में आज से खेली जाएगी मक्खन-दूध की होली:देश के सबसे ऊंचे स्थान पर होगी दूध-दही, मक्खन की बौछार

एक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

उत्तराखंड में दो साल बाद बटर फेस्टिवल बुधवार से शुरू होगा। इसे स्थानीय तौर पर अंढूड़ी उत्सव कहते हैं, जो यह समुद्र तल से 11 हजार फीट की ऊंचाई और 28 वर्ग किमी में फैले दयारा बुग्याल (हरे घास का मैदान) में पारंपरिक रूप से मनाया जाता है। ये देश का सबसे ऊंचा आयोजन स्थल है।

गंगोत्री विधायक सुरेश चौहान ने बताया कि प्राचीन काल में इसे पशुपालक मनाते थे। इसके जरिए वह खुद के लिए और अपने मवेशियों की रक्षा के लिए प्रकृति का आभार जताते हैं। तब इसे अंढूड़ी के नाम से जाना जाता था। कुछ साल से इसका नाम बटर फेस्टिवल हो गया। अब यह भव्य रूप से मनाया जा रहा है। इसमें CM पुष्कर धामी और पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज भी शामिल होंगे। दयारा टूरिज्म फेस्टिवल कमेटी रैथल के अध्यक्ष मनोज राणा ने बताया कि अंढूड़ी उत्सव स्थानीय रहवासी और पर्यटकों का संयुक्त उत्सव है। इसमें स्थानीय लोगों के साथ ही देश-विदेश के पर्यटक दूध, मट्ठा और मक्खन की होली खेलते नजर आएंगे।

इष्ट देवी देवताओं की दूध-दही से भोग लगाया जाता है
मनोज बताते हैं कि भटवाड़ी ब्लॉक के रैथल गांव से आठ किमी की दूरी पर करीब 28 वर्ग किमी में दायरे में फैले दयारा बुग्याल में हर साल रैथल के ग्रामीण भाद्रपद महीने की संक्राति को पारंपरिक रूप से अढूड़ी उत्सव का आयोजन करते हैं। इस दिन ग्रामीण दयारा बुग्याल स्थित अपनी झोपड़ियों में जुटकर पशुधन की समृद्धि करते हुए अपने ईष्ट देवी देवताओं का पूजन कर मवेशियों से प्राप्त दूध, दही, मठ्ठा, मक्खन, आदि उत्पादों का भोग लगाते हैं।

इस बार विदेशी पर्यटकों की संख्या कम है। इसका कारण कोरोना के बाद कम हुआ अंतरराष्ट्रीय पर्यटन है। अध्यक्ष मनोज राणा बताते हैं कि विदेश के अलावा देश के विभिन्न राज्यों से भी पर्यटक आते है। इस बार महाराष्ट्र और दक्षिण भारतीय राज्यों से भी पर्यटक आए हैं।

इस पर्व के साथ ही अपने मवेशी लेकर ग्रामीण पहाड़ों से नीचे आते हैं
रैथल के ग्रामीण गर्मियों के साथ मवेशियों के साथ दयारा बुग्याल समेत अन्य स्थानों पर बनी झोपड़यों में प्रवास के लिए पहुंचते हैं। ऐसे में बुग्याल में उगने वाली औषधीय गुणों से भरपूर घास, अनुकूल वातावरण का फायदा दूध उत्पादन में मिलता है। ऊंचाई वाले क्षेत्रों से सितंबर से नीचे लौटने लगते हैं। उससे पहले यह पर्व मनाते हैं।