कहानी कार्टून की / प्रकाशन के 52 साल बाद कोर्स में कार्टून शामिल, हुआ विवाद

Dainik Bhaskar

Mar 16, 2019, 05:22 AM IST


cartoon included in the course After 52 years of publication
X
cartoon included in the course After 52 years of publication
  • comment

दक्षिण में खासकर तमिलनाडु में हिन्दी का विरोध नई बात नहीं है। लेकिन, 1960 में हिन्दी के विरोध में वहां आंदोलन उग्र हो गया था। पुलिस फायरिंग में कई लोगों की जान चली गई थी। डीएमके ने उस समय सत्ता पाने के लिए हिन्दी विरोधी भावनाओं को भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। तब आर के लक्ष्मण ने यह कार्टून बनाया था, जिसमें एक युवा अंग्रेजी की वकालत कर रहा था, लेकिन ऐसे पोस्टर को पत्थर भी मार रहा था।

 

यह कार्टून उस समय काफी चर्चित रहा था। पर, इस आंदोलन के 52 साल बाद यह कार्टून एक बार फिर बड़ा राजनीतिक मुद्दा बन गया, जब एनसीईआरटी ने 12वीं की पॉलिटिकल साइंस की किताब में इसे शामिल कर लिया। सभी द्रविड़ पाटियों ने इसका विरोध किया। बाद में इसे किताब से हटा दिया गया।

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन