• Hindi News
  • National
  • Chandrayaan 2, ISRO Mission Moon News Updates: Chandrayaan 2 Leaves Earth Orbit, Move Towards To Moon Orbit

इसरो / चंद्रयान-2 ने पृथ्वी के चार चक्कर लगाकर कक्षा छोड़ी, 6 दिन बाद चंद्रमा के ऑर्बिट में पहुंचेगा



चंद्रयान-2 ने पृथ्वी के चार चक्कर लगाए। चंद्रयान-2 ने पृथ्वी के चार चक्कर लगाए।
इसरो ने श्रीहरिकोटा से मून मिशन लॉन्च किया था। इसरो ने श्रीहरिकोटा से मून मिशन लॉन्च किया था।
X
चंद्रयान-2 ने पृथ्वी के चार चक्कर लगाए।चंद्रयान-2 ने पृथ्वी के चार चक्कर लगाए।
इसरो ने श्रीहरिकोटा से मून मिशन लॉन्च किया था।इसरो ने श्रीहरिकोटा से मून मिशन लॉन्च किया था।

  • इसरो चेयरमैन के.सिवन ने बताया- चंद्रयान-2 चांद की कक्षा में 20 अगस्त को प्रवेश करेगा
  • इसरो ने 22 जुलाई को चंद्रयान-2 लॉन्च किया था, अभी तक इसकी गतिविधियां सामान्य रहीं

Dainik Bhaskar

Aug 14, 2019, 12:50 PM IST

नई दिल्ली. चंद्रयान-2 ने मंगलवार रात 2 बजकर 21 मिनट पर पृथ्वी की कक्षा को छोड़ दिया। अब वह चंद्रमा की कक्षा में प्रवेश करने के लिए निकल चुका है। इस प्रक्रिया को ट्रांस लूनर इंसर्शन (टीएलआई) कहा जाता है। चंद्रयान-2 पृथ्वी की कक्षा में 23 दिन रहा और उसके चार चक्कर लगाए। इसरो ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा से 22 जुलाई को यह मिशन लॉन्च किया था। 

 

इसरो चेयरमैन के सिवन ने बताया कि चंद्रयान-2 को चंद्रमा की कक्षा तक पहुंचने में 6 दिन लगेंगे। चंद्रयान-2 ने सफलतापूर्वक लूनर ट्रांसफर ट्रजेक्टरी सिस्टम में प्रवेश कर लिया है। 20 अगस्त को चंद्रयान-2, चंद्रमा की कक्षा में पहुंच जाएगा। पृथ्वी से चंद्रमा के बीच की दूरी 3.84 लाख किलोमीटर है। इसरो के अनुसार, पृथ्वी की अंतिम कक्षा छोड़ने के दौरान यान के इंजन को 1203 सेकंड के लिए चालू किया गया था।

 

चंद्रयान-2 तय तारीख को चांद पर पहुंचेगा

मिशन की लॉन्चिंग की तारीख आगे बढ़ाने के बावजूद चंद्रयान-2 चांद पर तय तारीख यानी 7 सितंबर को ही पहुंचेगा। इसे समय पर पहुंचाने का मकसद यही है कि लैंडर और रोवर तय शेड्यूल के हिसाब से काम कर सकें। समय बचाने के लिए चंद्रयान ने पृथ्वी का एक चक्कर कम लगाया। पहले 5 चक्कर लगाने थे, पर बाद में इसे चार किया गया। इसकी लैंडिंग ऐसी जगह तय है, जहां सूरज की रोशनी ज्यादा है। रोशनी 21 सितंबर के बाद कम होनी शुरू होगी। लैंडर-रोवर को 15 दिन काम करना है, इसलिए समय पर पहुंचना जरूरी है।

 

चंद्रयान-2 का वजन 3,877 किलो
चंद्रयान-2 को भारत के सबसे ताकतवर जीएसएलवी मार्क-III रॉकेट से लॉन्च किया गया। इस रॉकेट में तीन मॉड्यूल ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) हैं। इस मिशन के तहत इसरो चांद के दक्षिणी ध्रुव पर लैंडर को उतारने की योजना है। इस बार चंद्रयान-2 का वजन 3,877 किलो है। यह चंद्रयान-1 मिशन (1380 किलो) से करीब तीन गुना ज्यादा है। लैंडर के अंदर मौजूद रोवर की रफ्तार 1 सेमी प्रति सेकंड है।

 

चंद्रयान-2 मिशन क्या है?
चंद्रयान-2 वास्तव में चंद्रयान-1 मिशन का ही नया संस्करण है। इसमें ऑर्बिटर, लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) शामिल हैं। चंद्रयान-1 में सिर्फ ऑर्बिटर था, जो चंद्रमा की कक्षा में घूमता था। चंद्रयान-2 के जरिए भारत पहली बार चांद की सतह पर लैंडर उतारेगा। यह लैंडिंग चांद के दक्षिणी ध्रुव पर होगी। इसके साथ ही भारत चांद के दक्षिणी ध्रुव पर यान उतारने वाला पहला देश बन जाएगा।

 

ऑर्बिटर, लैंडर और रोवर क्या काम करेंगे?
चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद ऑर्बिटर एक साल तक काम करेगा। इसका मुख्य उद्देश्य पृथ्वी और लैंडर के बीच कम्युनिकेशन करना है। ऑर्बिटर चांद की सतह का नक्शा तैयार करेगा, ताकि चांद के अस्तित्व और विकास का पता लगाया जा सके। वहीं, लैंडर और रोवर चांद पर एक दिन (पृथ्वी के 14 दिन के बराबर) काम करेंगे। लैंडर यह जांचेगा कि चांद पर भूकंप आते हैं या नहीं। जबकि, रोवर चांद की सतह पर खनिज तत्वों की मौजूदगी का पता लगाएगा।

 

चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग पहली बार अक्टूबर 2018 में टली
इसरो चंद्रयान-2 को पहले अक्टूबर 2018 में लॉन्च करने वाला था। बाद में इसकी तारीख बढ़ाकर 3 जनवरी और फिर 31 जनवरी कर दी गई। बाद में अन्य कारणों से इसे 15 जुलाई तक टाल दिया गया। इस दौरान बदलावों की वजह से चंद्रयान-2 का भार भी पहले से बढ़ गया। ऐसे में जीएसएलवी मार्क-3 में भी कुछ बदलाव किए गए थे।

 

DBApp

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना