• Hindi News
  • National
  • Chief Minister Mamata Banerjee Held A Meeting With Her Top Officials, One Man One Post, 20 Member National Working Committee Announced

TMC में 'एक व्यक्ति एक पद' पर कलह:पार्टी के अंदरूनी विवादों के बीच ममता ने 20 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यसमिति बनाई, इधर BJP से आए मुकुल को लेकर बवाल

5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बंगाल में तृणमूल कांग्रेस (TMC) के भीतर चल रहे आंतरिक विवादों के बीच मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को अपने शीर्ष पदाधिकारियों के साथ बैठक की। CM आवास पर हुई बैठक में ममता ने 20 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यसमिति की घोषणा की। इस समिति में अभिषेक बनर्जी, अमित मित्रा, पार्थ चटर्जी, सुदीप बनर्जी को शामिल किया गया है। सांसद डेरेक ओ ब्रायन और सौगत रॉय को कथित तौर पर नई समिति से बाहर रखा गया है।

बैठक में केवल छह वरिष्ठ नेताओं को ही बुलाया गया था। इसमें राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी, महासचिव पार्थ चटर्जी, प्रदेश पार्टी अध्यक्ष सुब्रत बख्शी और मंत्री फिरहाद हकीम, अरूप विश्वास और चंद्रिमा भट्टाचार्य बैठक में शामिल हुए। बैठक में TMC नेता पार्थ चटर्जी ने जानकारी दी कि पार्टी प्रमुख ममता ने 20 सदस्यीय राष्ट्रीय कार्यसमिति की घोषणा की।

माना जा रहा है कि ममता की इस बैठक का मकसद पार्टी में नए और पुराने नेताओं के बीच मतभेदों को दूर करना है।

'एक व्यक्ति, एक पद' को लेकर पार्टी में कलह
TMC में कलह शुक्रवार को तब बढ़ गई जब पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी के करीबी माने जाने वाले नेताओं ने ‘एक व्यक्ति एक पद’ की खुलकर वकालत की, जिसके अनुसार पार्टी के एक सदस्य को एक पद पर रहना चाहिए। वहीं, इसे लेकर पार्टी के पुराने नेताओं के एक वर्ग ने इस कदम को पार्टी अनुशासन के खिलाफ बताया।

क्या है 'एक व्यक्ति, एक पद' मामला?
'एक व्यक्ति, एक पद' की योजना अभिषेक बनर्जी की बताई जा रही है जो उन्होंने I-PAC की मदद से तैयार की है। यह अभिषेक बनर्जी के पार्टी को आंतरिक रूप से पुनर्गठित करने के प्रयासों का हिस्सा रही है, लेकिन इसको लेकर पार्टी के पुराने साथी सहज नहीं हैं।

पिछले हफ्ते पश्चिम बंगाल की 108 नगरपालिकाओं में होने जा रहे चुनावों से पहले TMC उम्मीदवारों की दो-दो लिस्ट जारी की हुईं थीं। इसके बाद TMC और I-PAC के संबंधों में दरार आ गई। बताया ये भी जा रहा है कि समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव के प्रचार अभियान में मदद करने के लिए उत्तर प्रदेश जाने को लेकर ममता बनर्जी और भतीजे अभिषेक के बीच अनबन के संकेत हैं।

TMC में मुकुल रॉय को लेकर बवाल
इधर, पार्टी में मुकुल रॉय की सदस्यता रद्द किए जाने को लेकर घमासान मचा हुआ है। तृणमूल कांग्रेस के प्रवक्ता और राज्य महासचिव कुणाल घोष ने मुकुल की गिरफ्तारी की मांग की है।

TMC के प्रवक्ता कुणाल घोष मुकुल रॉय के खिलाफ जांच की मांग की है। - फोटो ANI
TMC के प्रवक्ता कुणाल घोष मुकुल रॉय के खिलाफ जांच की मांग की है। - फोटो ANI

कुणाल ने ट्विटर पर लिखा, 'CBI और ED को 'भाजपा नेता' मुकुल रॉय को शारदा और नारदा घोटाले में गिरफ्तार कर लेना चाहिए। मैंने पहले ही इस बारे में उन्हें चिट्ठी लिखी और रॉय के खिलाफ साझा जांच की मांग की है। वे एक प्रभावशाली साजिशकर्ता हैं। उन्होंने अलग-अलग पार्टियों को सिर्फ अपनी निजी सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किया है। मुकुल रॉय को बख्शा नहीं जाना चाहिए।'

TMC के मंत्री ने I-PAC पर लगाया आरोप
ममता सरकार में मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने प्रशांत किशोर की टीम I-PAC पर बड़ा आरोप लगाया था कि उनके बिना जानकारी के उनके सोशल मीडिया अकाउंट से कुछ ट्वीट किए गए हैं।

भट्टाचार्य ने समाचार एजेंसी PTI के हवाले से कहा कि चुनाव से पहले I-PAC द्वारा मेरे नाम से एक ट्विटर अकाउंट बनाया गया था। इसके बाद कंपनी ने मेरी जानकारी के बिना 'एक व्यक्ति एक पद' के बारे में कुछ पोस्ट किया। मैं इसका कड़ा विरोध करती हूं।

I-PAC ने दी सफाई
इस पर I-PAC ने जवाब देते हुए लिखा, 'I-PAC तृणमूल कांग्रेस या उसके किसी भी नेता की किसी भी डिजिटल प्रॉपर्टी को नहीं संभालता है। ऐसा दावा करने वाला कोई भी व्यक्ति या तो बेखबर है या स्पष्ट रूप से झूठ बोल रहा है। पार्टी को यह देखना चाहिए कि क्या और कैसे उनकी डिजिटल प्रॉपर्टी या उनके नेताओं का कथित रूप से (गलत) इस्तेमाल किया जा रहा है।'