पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

शिमला में 37 साल बाद फिर गूंजेगी चाइम्स बेल, इसे 120 साल पहले इंग्लैंड से लाया गया था

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ये छह रस्से नीचे ऊपर छह चाइम्स के हैमर से जुड़े हैं। नीचे चर्च के प्रेअर हॉल में एक रस्से में बदल जाते हैं। - Dainik Bhaskar
ये छह रस्से नीचे ऊपर छह चाइम्स के हैमर से जुड़े हैं। नीचे चर्च के प्रेअर हॉल में एक रस्से में बदल जाते हैं।
  • चाइम्स बेल्स 1982 से खराब पड़ी हुई थींं, क्रिश्चियन मेंबर विक्टर डीन ने 20 दिन में ठीक किया
  • 1899 में इंग्लैंड से जहाज में इसे शिमला लाया गया था, इसमें एक समय में अलग-अलग तरह की धुन सुनाई देती है

शिमला. शिमला की पहचान क्राइस्ट चर्च की छह चाइम्स की ए,बी,सी,डी,ई, एफ की बेल इस क्रिसमस पर फिर गूंजेगी। 1899 में इंग्लैंड से जहाज में इस चाइम्स काे शिमला लाया गया था। 1982 तक ये चाइम्स चर्च में प्रार्थना सभा के दाैरान बजते रहे। 37 साल बाद क्रिश्चियन मेंबर विक्टर डीन ने 20 दिन की कड़ी मशक्कत के बाद फिर से इसे रिपेयर किया है।


चर्च की टॉप फ्लोर पर चाइम्स को बजाने के लिए छह हैमर यानी हथोड़े छह रस्सियों से बंधे हैं। नीचे हॉल में जब रस्सी को हिलाया जाएगा तो उस एक रस्सी से जुड़ी बाकी छह रस्सियां की मदद से ये छह हथोड़े इन चाइम्स पर पड़ेंगे तो बेल बजेगी और ऊपर हथौड़े इन चाइम्स को हिट करते रहेंगे। चाइम्स पांच से सात फीट लंबी है। इसकी आवाज अन्य तरह की घंटियाें से कहीं उलट हाेती हैं। इसमें एक ही समय में अलग अलग तरह की धुन सुनाई देती है।

इसलिए खास हैं ये चाइम्स (बेल)

  • 1844 में शिमला का क्राइस्ट चर्च का निर्माण हुआ।
  • 1899 में इंग्लैंड से जहाज में इस चाइम्स काे शिमला लाया गया था।
  • शहर के काराेबारी जगजीत सिंह ने मरम्मत के लिए हर तरह का सामान उपलब्ध करवाया।
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने व्यक्तिगत रिश्तों को मजबूत करने को ज्यादा महत्व देंगे। साथ ही, अपने व्यक्तित्व और व्यवहार में कुछ परिवर्तन लाने के लिए समाजसेवी संस्थाओं से जुड़ना और सेवा कार्य करना बहुत ही उचित निर्ण...

    और पढ़ें