पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चीन का 5जी नेटवर्क विस्तार:तिब्बत बॉर्डर के पास दुनिया के सबसे ऊंचे रडार स्थल पर 5जी सिग्नल बेस खोला, भारत-भूटान की सीमा से सटा हुआ है

5 महीने पहले
चीन ने पिछले साल भी दुनिया के सबसे ऊंचाई वाले तिब्बत के सुदूर हिमालयी इलाके में बेस स्टेशन शुरू किया था।- फाइल फोटो।

चीन ने तिब्बत बॉर्डर के पास दुनिया के सबसे ऊंचे रडार स्थल पर 5जी सिग्नल बेस खोला है। यहां के गनबाला रडार स्टेशन पर चीन ने इंटरनेट सर्विस शुरू की है। भारत के लिहाज से ये खबर इसलिए अहम है, क्योंकि गनबाला रडार स्टेशन भारत और भूटान की सीमा से सटा हुआ है।

चीन की सेना की आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक इस टावर की समुद्र तल से ऊंचाई 5,374 मीटर है। यह दुनिया का सबसे ज्यादा ऊंचाई पर बना मैनुअली काम करने वाला रडार स्टेशन है। चीन की सेना का कहना है कि उसने अपने सैनिकों को 5जी सर्विस देने के लिए पिछले साल गनबाला में प्राइवेट सेक्टर के साथ मिलकर इस स्टेशन का काम शुरू किया था।

चीन की सेना की वेबसाइट पर बताया गया है कि इस सर्विस के शुरू होने के बाद सैनिक सोसायटी से जुड़े रह सकेंगे। इसे बॉर्डर एरिया में तैनात जवानों की ट्रेनिंग को और बेहतर करने के मकसद से शुरू किया गया है।

पिछले साल भी एक बेस स्टेशन शुरू किया था
चीन ने पिछले साल भी दुनिया के सबसे ऊंचाई वाले तिब्बत के सुदूर हिमालयी इलाके में बेस स्टेशन शुरू किया था। ये बेस स्टेशन 6,500 मीटर की ऊंचाई पर बनाया गया था। चीन का कहना था कि इस सुविधा से पर्वतारोहण, वैज्ञानिक अनुसंधान, पर्यावरण निगरानी और हाई-डेफिनेशन स्ट्रीमिंग में मदद मिलेगी।

खबरें और भी हैं...