आतंकवाद पर फिर सामने आया चीन का दोमुंहा चेहरा, मुंबई हमलों के 11 साल बाद इसे बताया सबसे खतरनाक आतंकी हमलों में से एक

dainikbhaskar.com

Mar 19, 2019, 01:33 PM IST

चीन ने यूं ही नहीं कही ये बात, इस वजह से आतंकवाद को लेकर कबूलना पड़ा सच

China says2008 Mumbai attacks one of the 'most notorious' terrorist attacks

बीजिंग. चीन ने आतंकवाद पर जारी एक रिपोर्ट में साल 2008 में मुंबई में हुए आतंकवादी हमले को दुनिया के सबसे खतरनाक हमलों में से एक बताया है। ये हमला पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा ने 26 नवंबर 2008 को मुंबई में ताज होटल समेत कई जगहों पर करवाया था, जिसमें 166 लोग मारे गए थे। चीन ने शिंजियांग प्रांत में मुस्लिमों के खिलाफ की जा रही कार्रवाई को लेकर निकाले गए श्वेत पत्र में कहा कि बीते कुछ सालों में आतंकवाद और चरमपंथ के कारण दुनिया में मानवता को काफी पीड़ा झेलनी पड़ी है। खास बात ये है कि ये चीन की ये रिपोर्ट उस वक्त आई है जब पूरी दुनिया में जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी अजहर मसूद को वैश्विक आतंकी करार देने के प्रस्ताव पर रोड़ा अटकाने के लिए उसकी निंदा की जा रही है।

आतंकवाद पर दोहरी नीति अपनाने वालों का किया विरोध...

- ‘आतंकवाद और अतिवाद के खिलाफ लड़ाई और शिंजियांग में मानवाधिकारों के संरक्षण’ नाम से प्रकाशित इस पत्र को तब जारी किया गया है, जब पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी चीन की यात्रा पर हैं। पत्र के मुताबिक, आतंकवाद ने दुनियाभर में शांति और विकास के लिए खतरा पैदा किया है। आतंकवाद से लोगों के जीवन और संपत्ति को नुकसान पहुंचा है।
- श्वेत पत्र में चीन ने आतंकवाद की समस्याओं को उस समय उठाया है जबकि कुछ दिनों पहले ही चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी करार देने के प्रस्ताव पर तकनीकी रोक (टेक्निकल होल्ड) लगा दी। चीन के इस कदम को भारत ने निराशाजनक बताया था।
- श्वेत पत्र के मुताबिक- चीन ने हर तरह के आतंकवाद का विरोध किया है। साथ ही आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में दोहरी नीति अपनाने वालों का विरोध भी किया है। यह भी कहा कि बीजिंग आतंकवाद को किसी खास देश, संप्रदाय या धर्म के साथ जोड़कर नहीं देखता। आतंकवाद को जड़ से खत्म करने के लिए गरीबी खत्म करना जरूरी है ताकि इससे जुड़े लोगों को कोई कमजोर कड़ी न मिल सके।

चीन के शिंजियांग प्रांत में बढ़ रहा आतंकवाद

- सोमवार को जारी इस रिपोर्ट में चीन ने बताया है कि उसने 2014 से अब तक शिंजियांग में करीब 13 हजार आतंकियों को गिरफ्तार किया है। इसमें कहा गया है कि सरकार ने धार्मिक आतंक पर लगाम लगाई है।
- साल 2014 से अब तक शिंजियांग में आतंकियों के 1,588 गिरोहों को खत्म किया गया है। जबकि 12,995 आतंकियों को गिरफ्तार किया गया। करीब 2060 विस्फोटक उपकरण जब्त किए गए हैं।
- इसके अलावा करीब 5000 गैरकानूनी मजहबी गतिविधियों में शामिल 30 हजार से ज्यादा लोगों को सजा भी दी गई है। गैरकानूनी मजहबी प्रचार सामग्रियों की 3.50 लाख कॉपियां जब्त की गईं। हालांकि, रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया है कि आतंक की ये घटनाएं किस तरह की हैं।

China says2008 Mumbai attacks one of the 'most notorious' terrorist attacks
China says2008 Mumbai attacks one of the 'most notorious' terrorist attacks
X
China says2008 Mumbai attacks one of the 'most notorious' terrorist attacks
China says2008 Mumbai attacks one of the 'most notorious' terrorist attacks
China says2008 Mumbai attacks one of the 'most notorious' terrorist attacks
COMMENT