पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भारत में दूसरी लहर से पड़ोसी परेशान:बांग्लादेश सरकार चीन से कोरोना वैक्सीन के 1.5 करोड़ डोज खरीदेगी, इसकी कीमत भारतीय वैक्सीन से दोगुनी

ढाकाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

बांग्लादेश सरकार ने चीन से कोरोना वैक्सीन के 1.5 करोड़ डोज खरीदने की मंजूरी दे दी है। कैबिनेट डिवीजन की एडिशनल सेक्रेटरी शाहिदा अख्तर ने गुरुवार को बताया कि चीन की सिनोफार्म वैक्सीन के हर डोज की कीमत 10 अमेरिकी डॉलर होगी। लोकल मीडिया के मुताबिक, अगले महीने तीन बार में वैक्सीन के शिपमेंट बांग्लादेश पहुंचेंगे। हर खेप में 50 लाख डोज होंगे।

कैबिनेट कमेटी के ढाका में हुई एक बैठक में गवर्नमेंट-टू-गवर्नमेंट वैक्सीन डील को मंजूरी देने के बाद यह जानकारी सामने आई है। इसका मतलब है कि बांग्लादेश की कोई निजी कंपनी इस सौदे का हिस्सा नहीं होगी।

भारत ने 5 डॉलर में वैक्सीन दी थी
भारत में वैक्सीन की कमी से बांग्लादेश को हर डोज के लिए दोगुनी कीमत चुकानी पड़ रही है। भारत ने बांग्लादेश को 5 अमेरिकी डॉलर प्रति डोज के हिसाब से ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन सप्लाई की थी। इन्हीं से बांग्लादेश सरकार ने अपने यहां कोरोनावायरस के खिलाफ वैक्सीनेशन अभियान शुरू किया था। बदले हालात में उसे चीनी वैक्सीन के लिए भारत की वैक्सीन के मुकाबले दोगुना खर्च करना पड़ रहा है।

ढाका ट्रिब्यून के मुताबिक, बांग्लादेश में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 1,043 मामले दर्ज किए गए। देश में कुल संक्रमितों की संख्या 8 लाख के करीब पहुंच गई है। अब तक यहां संक्रमण से 12,549 लोगों की मौत हुई है।

पहले भी चीन ने रखी थीं शर्तें
बांग्लादेश ने पहले भी चीन की कंपनी से वैक्सीन के लिए बात की थी। कंपनी की कुछ शर्तों ने बांग्लादेश को असहज कर दिया। इसके बाद उसने भारत से संपर्क किया। भारत सरकार ने उसके लिए सीरम की कोवीशील्ड वैक्सीन के 3 करोड़ डोज का इंतजाम करा दिया। वह भी सस्ते दाम पर। शुरुआत में ही बांग्लादेश को 30 लाख डोज भेजे गए थे।

भारत ने अब तक 95 देशों को वैक्सीन दी है। इनमें सबसे ज्यादा एक करोड़ डोज बांग्लादेश को दिए हैं। इनमें 33 लाख डोज मदद के तौर पर दिए गए हैं। बांग्लादेश में अब तक 90 लाख से ज्यादा डोज लगाए जा चुके हैं।

खबरें और भी हैं...