• Hindi News
  • National
  • Collector Removed The Stalls From The Festival, SC ST Commission Gave Notice

बीफ की बिरयानी पर बवाल:कलेक्टर ने फेस्टिवल से हटवाए स्टॉल्स, SC/ST आयोग ने थमा दिया नोटिस

नई दिल्ली12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

तमिलनाडु के तिरुपत्तुर जिला प्रशासन ने आम्बूर बिरयानी फेस्टिवल को रद्द कर दिया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक कुछ पार्टियों ने बीफ को फेस्टिवल से बाहर करने पर आपत्ति जताते हुए इसका विरोध करने की बात कही थी। साथ ही कार्यक्रम स्थल के बाहर मुफ्त बीफ बिरयानी बांटने का फैसला किया था। इसके बाद प्रशासन ने असानी तूफान के चलते भारी बारिश का हवाला देते हुए 13 और 14 मई को होने वाले फेस्टिवल को रद्द कर दिया।

SC/ST आयोग ने कलेक्टर को नोटिस भेजा
तमिलनाडु SC/ST आयोग ने तिरुपत्तुर कलेक्टर को नोटिस भेजा है और मसले पर स्पष्टीकरण मांगा है। आयोग ने कलेक्टर से पूछा है कि बीफ के बहिष्कार को भेदभाव के रूप में क्यों नहीं माना जाए। आम्बूर में लोग बड़ी मात्रा में बीफ बिरयानी सर्व करते हैं। इसके बहिष्कार को स्थानीय नागरिक SC/ST और मुसलमानों के सांस्कृतिक बहिष्कार के रूप में देख रहे हैं।

तिरुपत्तुर जिला प्रशासन ने बताया, आम्बूर ट्रेड सेंटर में होने वाले बिरयानी महोत्सव को अस्थाई रूप से रद्द किया गया है। IMD ने 13 और 14 मई को भारी बारिश की चेतावनी जारी की है, इसके चलते प्रशासन ने यह फैसला लिया है।

कमीशन ने तिरुपत्तुर कलेक्टर को भेजे नोटिस में पूछा, 'आपने विशेष रूप से कहा है कि बीफ बिरयानी को फेस्टिवल से बाहर रखा जाएगा। यह SC/ST और मुस्लिम आबादी के खिलाफ भेदभाव जैसा लग रहा है।' इलाके में इनकी आबादी 2 लाख से अधिक है। प्रशासन के इस आदेश के बाद कुछ संगठनों ने इस फैसले के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने की योजना बनाई थी। इस प्रदर्शन में ऑडिटोरियम के बाहर बीफ बिरयानी बांटने का भी प्लान था।

मुद्दा बारिश नहीं है, बीफ है-ओम प्रकाश
इस मामले पर आम्बूर के VCK नेता ओम प्रकाश का कहना है कि मुद्दा बारिश नहीं है, बीफ है। हमने कलेक्टर से अपील की थी कि कार्यक्रम में बीफ जोड़ने का आदेश दें, लेकिन उन्होंने मना कर दिया। इस पर हमने होटलों के साथ मिलकर फैसले का विरोध करने की योजना बनाई। वहीं, हिंदू मुन्नानी संगठन के अध्यक्ष जेएस चिदंबरम ने कहा कि कुछ लोग कार्यक्रम में बीफ बिरयानी शामिल करने की मांग कर रहे हैं। ये बीफ को अन्य बिरयानी के साथ मिला सकते हैं। कुछ समूह पोर्क बिरयानी चाहते हैं, ऐसे में इलाके में शांति भंग हो सकती है।

आम्बूर के कलेक्टर अमर कुशवाहा का कहना है कि धार्मिक संवेदनाओं को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है। फेस्टिवल में बीफ और पोर्क बिरयानी दोनों ही सर्व करने से परहेज किया गया था। अगर कोई बिरयानी खाना चाहता है तो बाहर से भी खरीद सकता है।