• Hindi News
  • National
  • Congress Institute A Task Force On National Security, Gen Hooda Will Lead The Task Force

लोकसभा चुनाव में भाजपा पर भारी पड़ने के लिए कांग्रेस की खास तैयारी, राष्ट्रीय सुरक्षा पर लेकर आएगी एक विजन पेपर

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

नेशनल डेस्क. आगामी लोकसभा चुनाव में देश की सुरक्षा के मुद्दे पर भाजपा को घेरने के लिए कांग्रेस ने खास तैयारी शुरू कर दी है। राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर कांग्रेस एक विजन पेपर लेकर आएगी, जिसे तैयार करने की जिम्मेदारी उसने रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुडा को सौंपी है। कांग्रेस पार्टी ने हुडा के नेतृत्व में एक टास्क फोर्स का गठन किया है, जिसमें वे अलग-अलग क्षेत्रों के विशेषज्ञों के साथ काम करेंगे। खास बात ये है कि जनरल हुडा ने साल 2016 में हुई सर्जिकल स्ट्राइक के दौरान महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

कांग्रेस ने ट्वीट करते हुए दी जानकारी...

- कांग्रेस ने इस बारे में गुरुवार को एक ट्वीट करते हुए जानकारी दी। ट्वीट में लिखा था, 'राष्ट्रीय सुरक्षा पर एक टास्क फोर्स का गठन करने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी रिटायर्ड लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुडा से मिले, जो कि देश के लिए दृष्टिपत्र तैयार करेंगे। जनरल हुडा चयनित समूह के एक्सपर्ट के साथ टास्क फोर्स का नेतृत्व करेंगे।' फिलहाल टीम के अन्य मेंबर्स के नाम सामने नहीं आए हैं।
- हुडा को ये जिम्मेदारी देकर कांग्रेस ने देश की सुरक्षा के मामले में खुद को भाजपा से ज्यादा गंभीर बताने की कोशिश की है। भाजपा अबतक सर्जिकल स्ट्राइक को अपनी बड़ी कामयाबी के तौर पर बताती आई है, साथ ही कांग्रेस पर देश की सुरक्षा को लेकर खिलवाड़ करने का आरोप लगाती रही है। ऐसे में सर्जिकल स्ट्राइक में अहम भूमिका निभाने वाले हुडा को बड़ी जिम्मेदारी देकर कांग्रेस अब हर मामले में उसे टक्कर देना चाहती है।
- बता दें कि साल 2016 में भारतीय सेना ने जब पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक की थी, उस वक्त जुनरल हुडा सेना की नॉर्दर्न कमान के प्रमुख थे। पिछले साल एक चैनल से बातचीत के दौरान उन्होंने खुलासा करते हुए बताया था कि सर्जिकल स्ट्राइक को उधमपुर स्थित नॉर्दर्न कमांड से संचालित किया जा रहा था और वहीं से दिल्ली फीड भेजी जा रही थी।
- हुडा ने बताया था कि स्ट्राइक के दौरान स्पेशल फोर्स को जितने टारगेट तबाह करने की जिम्मेदारी दी गई थी, उसे कामयाबी के साथ अंजाम दिया गया था। ये पूरा अभियान 6 घंटे तक चला था। पहले टारगेट को आधी रात को निशाना बनाया गया था, जबकि आखिरी ठिकाने को सुबह 6 से 6.15 के बीच बर्बाद किया गया था।