बिगड़े बोल / कांग्रेस नेता उदित राज बोले- देशभक्ति जनता को भरमाने का जरिया, लोग सत्ता के लिए 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं

कांग्रेस नेता उदित राज। (फाइल फोटो) कांग्रेस नेता उदित राज। (फाइल फोटो)
X
कांग्रेस नेता उदित राज। (फाइल फोटो)कांग्रेस नेता उदित राज। (फाइल फोटो)

  • हाशिए पर खड़े समुदायों को सत्ताधारी सवर्णों की देशभक्ति की कीमत चुकानी पड़ती है: उदित राज
  • राहुल गांधी ने शुक्रवार को 3 सवाल पूछे थे, कहा था- पुलवामा हमले से किसको फायदा हुआ

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 11:49 AM IST

नई दिल्ली. पुलवामा हमले की पहली बरसी के बाद कांग्रेस के नेता भाजपा सरकार को लगातार निशाना बना रहे हैं। शुक्रवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने हमले को लेकर तीन सवाल पूछे थे, तो वहीं अब शनिवार को उन्हीं की पार्टी के एक अन्य नेता उदित राज ने विवादास्पद बयान दिया। उन्होंने कहा, ‘‘जो लोग सत्ता पाने के लिए गुजरात में नरसंहार करवा सकते हैं, वे सत्ता बनाए रखने के लिए 40 जवानों की जान का सौदा भी कर सकते हैं। इनके लिए देशभक्ति और राष्ट्रवाद जनता को भरमाने का एक टूल भर है।’’

उदित राज ने ट्वीट में आगे कहा, ‘‘राहुल गांधी जी ने सही सवाल उठाया कि पुलवामा हमले के जांच का नतीजा अभी तक नही आया। जब गृह मंत्रालय को खबर मिल गई थी कि सीआरपीएफ को रोड से नहीं, बल्कि एयर से ले जाना चाहिए तो इजाजत नहीं दी अर्थात राजनैतिक लाभ के लिए यह घटना होने दिया।’’

‘राष्ट्रवाद का प्रचार करने वाले लोग अक्सर उच्च जाति के होते हैं’
उन्होंने आगे लिखा, ‘‘सोशल मीडिया पर राष्ट्रवाद का प्रचार करने वाले लोग अक्सर उच्च जाति के होते हैं और जिन सैनिकों ने मुख्य रूप से हमले में अपनी जान गंवाई वे एससी/एसटी/ओबीसी समुदायों से आते हैं। हाशिए पर खड़े समुदायों को सत्ताधारी सवर्णों की देशभक्ति की कीमत चुकानी पड़ती है।’’

राहुल ने पूछा- हमले के बाद हुई जांच का परिणाम क्या निकला
इससे पहले राहुल ने हमले को लेकर तीन सवाल पूछे थे। पहला, इस हमले से सबसे ज्यादा किसे फायदा मिला? दूसरा, हमले के बाद हुई जांच का परिणाम क्या निकला और तीसरा, भाजपा सरकार ने इस हमले को लेकर हुई चूक के लिए किसे जिम्मेदार ठहराई है?

हमले के बाद भारत ने बालाकोट स्ट्राइक में 200-300 आतंकी मार गिराए थे
14 फरवरी 2019 को जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर हुए हमले में 40 सीआरपीएफ जवानों की जान गई थी। जांच में यह सामने आया था कि इस हमले के तार पाकिस्तान से जुड़े थे। इसके बाद 26 फरवरी 2019 को भारतीय वायु सेना के बारह मिराज 2000 जेट्स ने नियंत्रण रेखा पार की और बालाकोट में जैश-ए-मोहम्मद संचालित आतंकवादी शिविर पर हमला किया। सरकार के मुताबिक, इसमें  200-300 आतंकवादी मारे गए।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना