• Hindi News
  • National
  • Agneepath Scheme Controversy | Congress Manish Tewari Praise On Agnipath Scheme

अग्निपथ के सपोर्ट में कांग्रेस नेता मनीष तिवारी:बोले- देश को यंग आर्मी की जरूरत, स्कीम सही दिशा में उठाया गया कदम

नई दिल्ली8 महीने पहले

केंद्र सरकार की नई अग्निपथ योजना पर विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। काग्रेस पार्टी के कई नेता भी योजना का विरोध कर रहे हैं। दूसरी तरफ, कांग्रेस के ही सीनियर लीडर मनीष तिवारी ने पार्टी लाइन से अलग राय रखी है। उन्होंने इस योजना को सरकार का सही दिशा में कदम बताया है।

एक टीवी चैनल से बातचीत में तिवारी ने कहा- इस वक्त देश को मोबाइल आर्मी, यंग आर्मी की जरूरत है। आप इसे पसंद करें या न करें, लेकिन मुझे लगता है कि वन रैंक-वन पेंशन योजना के चलते, बढ़ता पेंशन का बोझ सरकार की काउंटिंग से आगे निकल गया होगा।

आर्मी में सुधार की जरूरत - मनीष तिवारी
तिवारी पहले भी कई मौकों पर पार्टी लाइन से अलग बयान दे चुके हैं। उन्होंने कहा- तकनीक और हथियारों पर अधिक खर्च की जरूरत होती है। ज्‍यादातर पैसा इसी पर खर्च होता है। पिछले 10 साल में वॉर नेचर में बदलाव आया है और यह काफी अहम है। इसकी 30 पहले से तुलना करें तो मौजूद वक्त में हमारी आर्म्ड फोर्स ज्यादा तैयार हैं। आज हमारी आर्मी टेक्‍नोलॉजी और आधुनिक हथियारों पर अधिक निर्भर है। इसमें ज्‍यादातर लोग कम उम्र के हैं। ऐसी स्थिति में आर्मी में इस तरह के सुधार की बेहद जरूरत है।

बिहार के जहानाबाद में गुरुवार को छात्रों ने पटना-गया रेलखंड को निशाना बनाते हुए पटना-गया मेमू सवारी गाड़ी को जहानाबाद स्टेशन के पास रोक कर विरोध प्रदर्शन किया।
बिहार के जहानाबाद में गुरुवार को छात्रों ने पटना-गया रेलखंड को निशाना बनाते हुए पटना-गया मेमू सवारी गाड़ी को जहानाबाद स्टेशन के पास रोक कर विरोध प्रदर्शन किया।

ये भी पढ़ें-

अग्निपथ योजना का कांग्रेस कर रही विरोध
केंद्र सरकार की इस योजना का कांग्रेस विरोध कर रही है। योजना के विरोध में कई राज्यों में उग्र प्रदर्शन भी हुए। राहुल गांधी ने भी इस मामले पर सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने सोशल मीडिया पर लिखा- न कोई रैंक, न कोई पेंशन, न 2 साल से कोई सीधी भर्ती, न 4 साल के बाद स्थिर भविष्य, न सरकार का सेना के प्रति सम्मान। देश के बेरोजगार युवाओं की आवाज़ सुनिए, इन्हें 'अग्निपथ' पर चला कर इनके संयम की 'अग्निपरीक्षा' मत लीजिए, प्रधानमंत्री जी।