• Hindi News
  • National
  • Coronavirus Omicron India Situation Latest Update; Government On Positivity Rate And Covid Treatment

कोरोना प्रोटोकॉल का इसलिए रखें ध्यान:सरकार ने कहा- दुनिया भर में आ चुकी है चौथी लहर, पर सामान्य इलाज से ही ठीक हो रहा है ओमिक्रॉन

एक वर्ष पहले

केंद्र सरकार ने कहा है कि भारत में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बावजूद पॉजिटिविटी रेट अब भी दुनिया भर के एवरेज से कम है। सरकार ने यह भी बताया है कि दुनिया भर में चौथी लहर शुरू हो गई है, लेकिन भारत में अभी कोविड मामले लगातार घट रहे हैं। अच्छी खबर यह भी है कि ओमिक्रॉन के मरीज पहले से मौजूद कोविड-19 ट्रीटमेंट से ही ठीक हो जा रहे हैं।

देश में अब भी ज्यादातर नए कोरोना मरीज खतरनाक डेल्टा वैरिएंट के ही मिल रहे हैं। सरकार ने केरल और मिजोरम के कुछ जिलों में नए मामले मिलने की गति को लेकर चिंता भी जताई है।

देश में पिछले 2 सप्ताह में महज 0.6% पॉजिटिविटी रेट
केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने शुक्रवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, विश्व में केस पॉजिटिविटी रेट 6% से ज्यादा है, जबकि भारत में यह रेट 5.3% ही है। इसमें भी पिछले 2 सप्ताह के दौरान भारत में केस पॉजिटिविटी रेट 0.6% ही रही है।

उन्होंने कहा, देश में फिलहाल 20 जिले ऐसे हैं, जिनमें केस पॉजिटिविटी रेट 5 से 10% के बीच है। इनमें से 9 केरल में और 8 जिले मिजोरम में हैं। देश में महज 2 जिलों में केस पॉजिटिविटी रेट 10% से ज्यादा है और ये दोनों जिले मिजोरम में हैं।

देश में रोजाना 7000 नए केस का एवरेज
स्वास्थ्य सचिव ने कहा, पूरी दुनिया में चौथी बार कोविड मामलों में तेजी से बढ़ोतरी हो रही है। कोविड मामले फिर से पीक (एक दिन में सबसे ज्यादा मामले) छू रहे हैं। 23 दिसंबर को पूरे विश्व में एक दिन में 9,64,000 मामले दर्ज किए गए हैं।

उन्होंने कहा, यूरोप, अफ्रीका और नॉर्थ अमेरिका में लगातार कोविड मामले लगातार बढ़ रहे हैं, लेकिन एशिया में कोविड मामले अभी भी लगातार घट रहे हैं। भारत में भी कोविड मामले लगातार घट रहे हैं। उन्होंने कहा, देश में पिछले 2 सप्ताह से रोजाना लगातार 7000 नए मामले मिलने का एवरेज बना हुआ है।

ओमिक्रॉन के 183 मरीजों का किया एनालिसिस
ओमिक्रॉन को लेकर उन्होंने कहा, अब तक विश्व के 108 देशों में 1,51,000 से ज्यादा ओमिक्रॉन के मामले दर्ज़ किए गए हैं। देश में भी 17 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में शुक्रवार सुबह तक 358 ओमिक्रॉन मामले दर्ज किए जा चुके हैं। इनमें से 114 मामले ठीक हो चुके हैं।

भूषण ने कहा, देश में 183 ओमिक्रॉन मामलों का विश्लेषण किया गया है। इनमें से 121 ने विदेश की यात्रा की थी। 44 खुद विदेश नहीं गए थे, लेकिन वे विदेश से लौटे लोगों के संपर्क में थे। इन 183 मरीजों में से 87 ने कोविड वैक्सीन की दोनों डोज ली थीं, जबकि 3 लोगों ने तीन डोज (बूस्टर डोज समेत) लगवाई हुई थी।

उन्होंने बताया कि एनालिसिस के दौरान इस बात के सबूत मिले हैं कि कोविड की पहली लहर और डेल्टा वैरिएंट के समय अपनाए ट्रीटमेंट प्रोटोकॉल ओमिक्रॉन पर भी प्रभावी साबित हुए हैं।

देश में अभी भी डेल्टा वैरिएंट मौजूद, बचाव के उपाय अपनाने जरूरी
स्वास्थ्य सचिव ने यह भी कहा कि देश में अब भी नए कोरोना मामलों की सीक्वेंसिंग के दौरान डेल्टा वैरिएंट ही सामने आ रहा है। इसलिए कोरोना से बचाव के उपाय लगातार अपनाते रहना जरूरी है। बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान डेल्टा वैरिएंट के कारण ही मौत का आंकड़ा बहुत ज्यादा रहा था।

उन्होंने बताया कि बचाव के लिए वैक्सीनेशन को भी तेज किया जा रहा है। अब तक देश की 89% वयस्क आबादी को वैक्सीन की कम से कम एक डोज मिल चुकी है, जबकि 61% एडल्ट्स को वैक्सीन की दोनों डोज मिल गई हैं। उन्होंने कहा, 11 राज्यों में वैक्सीनेशन रेट अब भी नेशनल एवरेज से कम होना चिंता की बात बनी हुई है।

देश में 18 लाख आइसोलेशन बेड पूरी तरह तैयार
स्वास्थ्य सचिव ने बताया कि देश में कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने की पूरी तैयारी है। आज की तारीख में 18,10,083 आइसोलेशन बेड, 4,94,314,02 सपोर्टिंग बेड, 1,39,300 ICU बेड पूरी तरह तैयार हैं। बच्चों के लिए भी 24,057 पीडियाट्रिक ICU बेड और 64,796 पीडियाट्रिक सामान्य बेड तैयार कर लिए गए हैं।

साथ ही दूसरी लहर में ऑक्सीजन की डिमांड में पहली लहर के मुकाबले 10 गुना बढ़ोतरी हुई थी। इसे ध्यान में रखकर फिलहाल रोजाना 18,800 मीट्रिक टन ऑक्सीजन के उत्पादन की व्यवस्था की गई है।

खबरें और भी हैं...