उत्तराखंड / देश की सबसे बड़ी एफआईआर; 4 दिन से 4 पुलिसवाले लिख रहे, 3 दिन और लगेंगे



कोतवाली काशीपुर। कोतवाली काशीपुर।
X
कोतवाली काशीपुर।कोतवाली काशीपुर।

  • काशीपुर काेतवाली में एफआईआर लिखी जा रही है, विवेचना में तीन महीने से ज्यादा समय लगेगा
  • अटल आयुष्मान घोटाले में दो अस्पतालों के खिलाफ कार्रवाई पुलिस के लिए सिरदर्द बनी
  • सॉफ्टवेयर में शब्दों की सीमा, इसलिए हाथ से लिखी जा रही

Dainik Bhaskar

Sep 20, 2019, 12:55 PM IST

काशीपुर. उत्तराखंड की काशीपुर कोतवाली में देश की सबसे बड़ी एफआईआर लिखी जा रही है। रिपोर्ट लिखते-लिखते 4 दिन गुजर चुके हैं। इसे पूरा लिखने में अभी 3 दिन और लग सकते हैं। यह एफआईआर अटल आयुष्मान घोटाले में दो अस्पतालों के खिलाफ दर्ज की जा रही है। हिंदी और अंग्रेजी भाषा की भेजी गई दोनों एफआईआर लिखने में मुंशियों के पसीने छूट रहे हैं।

 

पुलिस के एफआईआर टाइप करने वाले कंप्यूटर सॉफ्टवेयर की क्षमता 10 हजार शब्दों से अधिक नहीं होती, इसलिए इसे हाथों से लिखा जा रहा है। थाने के 4 मुंशी लगातार इसे पूरा करने में जुटे हैं।

दोनों अस्पतालों ने फर्जी  बिलों बनाएं

  1. स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अटल आयुष्मान योजना के तहत एमपी अस्पताल और देवकी नंदन अस्पताल में भारी अनियमितताएं पकड़ी थीं। जांच में दोनों अस्पतालों के संचालकों की ओर से नियम के खिलाफ रोगियों के फर्जी इलाज के बिलों का क्लेम वसूलने का मामला पकड़ में आया था। एमपी अस्पताल में रोगियों के डिस्चार्ज होने के बाद भी मरीज कई-कई दिनों तक अस्पताल में भर्ती दिखाए गए।

  2. आईसीयू में भी क्षमता से अधिक रोगियों का इलाज होना पाया गया। डायलिसिस केस एमबीबीएस डॉक्टर की ओर से किया जाना बताया गया। मरीजों की संख्या अस्पताल की क्षमता से कई गुना बढ़ाकर दिखाने की कोशिश की। कई मामलों में बिना इलाज किए भी क्लेम ले लिया गया, जिसकी जानकारी मरीज को भी नहीं है।

  3. उत्तराखंड आयुष्मान योजना के अधिशासी सहायक धनेश चंद्र ने दोनों अस्पताल संचालकों के खिलाफ पुलिस को शिकायत सौंपी थी। इसमें से एक शिकायत 64 पन्ने की है, तो दूसरी करीब 24 पन्नों की। एडिशनल एसपी जगदीश चंद्र ने कहा कि वास्तव में ये शिकायत जांच रिपोर्ट की मूल कॉपी है, जिसमें सारे तथ्य हैं। इससे छेड़छाड़ न हो इसलिए नकल की जा रही है।

  4. पुलिस की परेशानी एफआईआर को लिखने तक ही सीमित नहीं है। इतनी बड़ी एफआईआर की विवेचना होगी तो कम से कम एक पर्चा कटने में ही 15 दिन लग सकते हैं, जबकि विवेचना की समय सीमा 3 महीने रखी गई है जो किसी भी तरह से पूरी नहीं हो सकती है। पुलिस के लिए एफआईआर दर्ज करने के बाद इसकी विवेचना सबसे बड़ी चुनौती होगी।

     

    DBApp

     

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना