• Hindi News
  • National
  • CRPF Advisory: Don\'t Circulate Fake Pictures Of Body Parts Of Our Martyrs

शहीदों के नाम पर फर्जी तस्वीरें और पोस्ट ना शेयर करें: सीआरपीएफ की लोगों से अपील

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • सीआरपीएफ ने कहा- शरारती तत्व नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे
  • अगर कोई फर्जी तस्वीरें शेयर करता है, तो सीधे हमें सूचना दें- सीआरपीएफ
  • पुलवामा में 14 फरवरी को सीआरपीएफ काफिले पर हुए हमले में 40 जवान शहीद हुए

नई दिल्ली. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने कश्मीर में काफिले के मूवमेंट का तरीका यानी स्टैंडर्ड ऑपरेशन प्रोसीजर (एसओपी) बदलने का फैसला किया है। सीआरपीएफ के डीजी आरआर भटनागर ने न्यूज एजेंसी से कहा कि कश्मीर में काफिले के मूवमेंट के लिए हम नए फीचर जोड़ेंगे। उन्होंने बताया कि ट्रैफिक कंट्रोल के अलावा, टाइमिंग, रुकने की जगहों और आर्मी व पुलिस के साथ सामंजस्य में भी बदलाव किया जाएगा। इससे पहले सीआरपीएफ ने एडवाजयरी जारी कर लोगों से अपील की कि वे शहीदों के नाम पर फर्जी तस्वीरें शेयर ना करें। सीआरपीएफ ने कहा कि अगर कोई ऐसा करता है तो आप उसकी रिपोर्ट सीधे हमें करें। 14 फरवरी को पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए फिदायीन हमले में 40 जवान शहीद हो गए थे। 

 

पुलवामा हमले के बाद 2 काफिले रवाना किए गए

भटनागर ने बताया- पुलवामा हमले के बाद 2 काफिलों को रवाना किया गया है। इस दौरान नए तरीकों का परीक्षण किया गया और एसओपी के तहत इन्हें लागू किया गया। दो दिन तक हमारे अधिकारियों ने कश्मीर की स्थितियों पर चर्चा की और नई रणनीति पर विचार किया। इस दौरान ना केवल काफिले के मूवमेंट के दौरान उसकी सुरक्षा पर बल दिया गया, बल्कि रोजाना के ऑपरेशनों में भी सुरक्षा उपायों के मजबूत करने पर जोर दिया गया। इन रणनीतियों का इस्तेमाल पहले भी किया गया था। अब सुसाइड हमले जैसे नए खतरे के मद्देनजर भी इनका इस्तेमाल किया जा रहा है।

 

फर्जी तस्वीरें शेयर होने पर हमें सूचित करें- सीआरपीएफ

सीआरपीएफ ने एडवायजरी जारी कर कहा- ऐसा देखने में आया है कि सोशल मीडिया पर कुछ शरारती तत्व शहीदों के शरीरों की फर्जी तस्वीरें शेयर कर रहे हैं। जब हमसब एक होकर खड़े हैं, ऐसे में ये शरारती तत्व नफरत फैलाने की कोशिश कर रहे हैं। इस तरह की तस्वीरें और पोस्ट आप ना तो सर्कुलेट करें और ना ही सोशल मीडिया पर शेयर करें। अगर कोई ऐसा करता है तो आप हमें इसकी सूचना webpro@crpf.gov.in पर दें।

 

हमले के चश्मदीद जवान ने कहा- पहली कोशिश में नाकाम हुआ था आतंकी
पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर हुए फिदायीन हमले में जख्मी एक जवान ने बताया है कि जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी पहली कोशिश में अपनी गाड़ी काफिले में नहीं घुसा पाया था। वह दो बसों के बीच में गाड़ी घुसाना चाह रहा था, लेकिन रोड ओपनिंग पार्टी (आरओपी) के जवान आगे आ गए। इसके बाद उसने काफिले की 5वीं बस में गाड़ी भिड़ा दी।