जम्मू-कश्मीर / श्रीनगर में फिर कर्फ्यू लगा, सुरक्षाबलों ने लोगों से घर के अंदर रहने को कहा: सूत्र



श्रीनगर में कर्फ्यू के दौरान तैनात सुरक्षाबल। श्रीनगर में कर्फ्यू के दौरान तैनात सुरक्षाबल।
X
श्रीनगर में कर्फ्यू के दौरान तैनात सुरक्षाबल।श्रीनगर में कर्फ्यू के दौरान तैनात सुरक्षाबल।

  • राज्य के पुलिस महानिदेशक ने कहा- शनिवार को पथराव की मामूली घटना हुई, जिससे निपट लिया गया
  • मुख्य सचिव ने लोगों से अपील की है कि वे घाटी में फायरिंग जैसी किसी भी अफवाहों पर भरोसा न करें

Dainik Bhaskar

Aug 11, 2019, 04:50 PM IST

श्रीनगर. जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद से ही संवेदनशील इलाकों में कर्फ्यू लगा हुआ है। शुक्रवार को जुमे की नमाज के दौरान कुछ ढील दी गई थी, लेकिन शनिवार से फिर कर्फ्यू बहाल कर दिया गया। सुरक्षाबल लाउडस्पीकर से ऐलान कर रहे हैं कि लोग अपने घरों से न निकलें। दुकानों को बंद करने की भी हिदायत दी जा रही है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक, जम्मू कश्मीर में स्थिति शांतिपूर्ण है। राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने भी कहा था कि कश्मीर में ईद शानदार तरीके से मनाई जाएगी। यहां हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं।

 

शनिवार को गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा था कि श्रीनगर और बारामूला में छिटपुट प्रदर्शन हुआ। विरोध करने वाले करीब 20 लोग थे, कोई भीड़ नहीं थी। राज्य के पुलिस महानिदेशक दिलबाग सिंह ने कहा, 'पथराव की मामूली घटना को छोड़कर किसी तरह की अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं है, जिससे तत्काल निपट लिया गया था और वहीं रोक दिया गया था।'

 

डीजीपी और मुख्य सचिव ने कहा- अफवाहों पर ध्यान न दें
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शनिवार को कहा था कि जम्मू-कश्मीर में हालात बहुत खराब हैं। सरकार को राज्य की स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए। इसके जवाब में डीजीपी ने कहा कि घाटी में शनिवार को भी हालात सामान्य रहे। कोई अप्रिय घटना नहीं हुई। कुछ चुनिंदा जगहों पर कर्फ्यू में ढील दी गई थी। डीजीपी और मुख्य सचिव बीवीआर सुब्रमण्यम ने लोगों से अपील की है कि वे घाटी में फायरिंग जैसी किसी भी अफवाहों पर भरोसा न करें।

 

शनिवार को जम्मू-कश्मीर के बाजारों में रौनक रही
जम्मू-कश्मीर में पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत करीब 400 नेताओं को नजरबंद किया गया। शनिवार को श्रीनगर समेत अन्य शहर के बाजारों में रौनक रही। लोग ईद के लिए खरीदारी करने के लिए घरों से निकले थे। राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजीत डोभाल भी श्रीनगर और अनंतनाग समेत अन्य शहरों में पहुंचे और लोगों का हालचाल जाना।

 

सोमवार को हटाया गया था अनुच्छेद 370
5 अगस्त को गृह मंत्री अमित शाह ने राज्यसभा में अनुच्छेद 370 खत्म करने का प्रस्ताव रखा था। इसके कुछ देर बाद ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अधिसूचना जारी कर दी। जम्मू-कश्मीर का राज्य का दर्जा खत्म कर दिया गया है। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख दो अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश होंगे। जम्मू-कश्मीर में विधानसभा होगी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना