• Hindi News
  • National
  • Cyclone Asani LIVE Tracking Updates | Tropical Cyclone Asani | Odisha Andhra Pradesh West Bengal Heavy Rain Alert

साइक्लोन असानी:आंध्र प्रदेश के लिए रेड अलर्ट जारी; विशाखापट्टनम में 23 और चेन्नई में 10 फ्लाइट्स कैंसिल

भुवनेश्वर/कोलकाता2 महीने पहले
आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में मंगलवार को भारी बारिश दर्ज की गई। - Dainik Bhaskar
आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में मंगलवार को भारी बारिश दर्ज की गई।

साल के पहले चक्रवाती तूफान असानी ने मंगलवार को आंध्र प्रदेश के तटीय इलाकों में असर दिखाना शुरू कर दिया है। तेज हवाओं की वजह से मंगलवार को आंध्र के कई शहरों में बारिश ने दस्तक दे दी है। विशाखापट्टनम में भारी बारिश दर्ज की गई। वहीं, राज्य के श्रीकाकुलम, विजयानरगम, अनाकापल्ली, काकाइनाडा, कोनासीमा, पश्चिम गोदावरी, कृष्णा, गुंटूर, नेल्लौर में भी हल्की बारिश दर्ज की गई।

मौसम विभाग के मुताबिक असानी बुधवार सुबह तक आंध्र प्रदेश के विशाखापट्‌टनम और काकिनाड़ा के बीच तटीय इलाकों तक पहुंच सकता है। विभाग ने आंध्र प्रदेश के लिए रेड अलर्ट जारी किया है। विभाग के वैज्ञानिक संजीव द्विवेदी ने बताया कि असानी अभी आंध्र प्रदेश के तट की तरफ बढ़ रहा है। सुबह के बाद इसके वापस लौट जाने की उम्मीद है। इसके बाद यह ओडिशा के तट की तरफ बढ़ेगा। ओडिशा में तूफानी बारिश होने की आशंका है।

मौसम विभाग ने मैप जारी किया है जिसमें असानी के कल विशाखापट्‌टनम तट से टकराने की संभावना दिख रही है।
मौसम विभाग ने मैप जारी किया है जिसमें असानी के कल विशाखापट्‌टनम तट से टकराने की संभावना दिख रही है।

विशाखापट्‌टनम और चेन्नई ने कैंसिल की फ्लाइट्स
खराब मौसम की वजह से मंगलवार को आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम एयरपोर्ट से उड़ान भरने और लैंड करने वाली 23 फ्लाइट्स कैंसिल कर दी गईं। वहीं, चेन्नई एयरपोर्ट ने भी 10 फ्लाइट्स कैंसिल कर दी है। इनमें हैदराबाद, विशाखापट्टनम, जयपुर और मुंबई जाने वाली फ्लाइट्स शामिल हैं।

मौसम विज्ञान केंद्र भुवनेश्वर के मुताबिक अगले 24 घंटे के अंदर ओडिशा के मल्कानगिरी, गजपति, गंजम और पुरी जिलों में भारी बारिश होने की आशंका है। मछुआरों को 13 मई तक समुद्र तट से दूर रहने की चेतावनी दी गई है। मौसम विभाग के मुताबिक अगले 24 घंटों में बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में 90 से 125 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से तूफानी हवाएं चल सकती हैं।

असानी से जुड़े लेटेस्ट अपडेट्स

  • ओडिशा के गंजम जिले में मंगलवार को मछुआरों से भरी एक नाव पलट गई। हालांकि सभी मछुआरे तैर कर किनारे पर आ गए। किसी भी अनहोनी की जानकारी नहीं मिली है।
  • असानी के मद्देनजर पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी ने 10 से 12 मई तक के अपने दौरे को रद्द कर दिया है।
  • खराब मौसम की वजह से कुर्नूल, बेंगलुरु और हैदराबाद से विशाखापट्टनम जाने वाली फ्लाइट्स को लौटा दिया गया है।
  • आंध प्रदेश के तटीय इलाकों में रेस्क्यू के लिए NDRF (नेशनल डिडास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी) और SDRF (स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी) की टीम स्टैंडबॉय पर रखी गई है।

कल सुबह आंध्र के तट पर पहुंचेगा असानी
मौसम विभाग के मुताबिक, साइक्लोन असानी फिलहाल विशाखापट्टनम के तट से 310 किमी दक्षिण-पश्चिम दिशा में है। यह विशाखापट्टन के तट पर बुधवार सुबह दस्तक देगा। असानी पश्चिम बंगाल और ओडिशा के तटीय इलाकों में अपना असर दिखाएगा। तूफान का असर बिहार, झारखंड, छत्तीसगढ़ में भी रहेगा। 11 से 13 मई तक यहां बारिश होगी, साथ ही तेज हवाएं भी चलेंगी।

ओडिशा के गोपालपुर में समुद्र में फंसे 11 लोगों को इंडियन कोस्ट गार्ड ने रेस्क्यू किया।
ओडिशा के गोपालपुर में समुद्र में फंसे 11 लोगों को इंडियन कोस्ट गार्ड ने रेस्क्यू किया।
विशाखापट्टनम में असानी के असर के चलते सोमवार को समुद्र में ऊंची लहरें उठीं।
विशाखापट्टनम में असानी के असर के चलते सोमवार को समुद्र में ऊंची लहरें उठीं।

24 घंटे में कमजोर पड़ेगा असानी
असानी चक्रवात 10 मई की रात तक उत्तर-पश्चिम दिशा में बढ़ना जारी रखेगा। इसके बाद, यह उत्तर-पूर्व दिशा में ओडिशा तट से उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी की ओर मुड़ेगा। अगले 24 घंटे में इसके कमजोर पड़ने की आशंका है।

ओडिशा की राजधानी में सोमवार को चक्रवाती तूफान के चलते भारी बारिश हुई और तेज हवाएं चलीं।
ओडिशा की राजधानी में सोमवार को चक्रवाती तूफान के चलते भारी बारिश हुई और तेज हवाएं चलीं।

अगले 24 घंटों के दौरान मौसम का हाल...

  • इन राज्यों में हल्की से भारी बारिश: अगले 24 घंटों के दौरान पश्चिम बंगाल के गंगा नदी से लगे क्षेत्र, मणिपुर, मिजोरम, त्रिपुरा, दक्षिण असम, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। ओडिशा और आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों में हल्की से मध्यम बारिश के साथ कुछ स्थानों पर भारी बारिश की संभावना है।
  • उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल, सिक्किम, बिहार के हिस्से, झारखंड, ओडिशा, केरल, तमिलनाडु, दक्षिण कर्नाटक और रायलसीमा में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है। पश्चिमी हिमालय पर हल्की बारिश संभव है।
  • हवाओं के साथ समुद्र में ऊंची लहरें: आंध्र प्रदेश, ओडिशा और गंगीय पश्चिम बंगाल के उत्तरी तट पर समुद्र की स्थिति बहुत खराब रहेगी, समुद्र में ऊंची लहरें उठ सकती हैं तथा तेज हवाएं जारी रहेगी।
  • राजस्थान, MP, हरियाणा और पंजाब में लू: राजस्थान, उत्तरी मध्य महाराष्ट्र, विदर्भ, पश्चिमी मध्य प्रदेश में लू की स्थिति संभव है। हरियाणा, दिल्ली और पंजाब के अलग-अलग इलाकों में 10 मई से लू चल सकती है।

तूफान से पहले असम में आया बवंडर, वीडियो देखने के लिए क्लिक करें...

महाराष्ट्र, बिहार, झारखंड में भी कुछ जिलों में हल्की बारिश हुई है।
महाराष्ट्र, बिहार, झारखंड में भी कुछ जिलों में हल्की बारिश हुई है।

पश्चिम बंगाल में आंधी-तूफान का अलर्ट
वहीं, IMD कोलकाता ने पश्चिम बंगाल के हावड़ा, कोलकाता, हुगली और पश्चिम मिदनापुर जिलों में आंधी-तूफान के साथ हल्की बारिश की संभावना जताई है। आंधी-तूफान के दौरान लोगों को सुरक्षित स्थान पर रहने की सलाह दी गई है।

असानी चक्रवात की वजह से कोलकाता में सोमवार को बारिश के कारण सड़कों पर पानी जमा हो गया।
असानी चक्रवात की वजह से कोलकाता में सोमवार को बारिश के कारण सड़कों पर पानी जमा हो गया।

ओडिशा के 4 पोर्ट डेंजर जोन घोषित
ओडिशा रिलीफ कमिश्नर पीके जेना ने बताया कि राज्य के 4 पोर्ट पारादीप, गोपालपुर, धमरा और पुरी को डेंजर जोन घोषित किया गया है। इन इलाकों में NDRF और ODARF की तैनाती की गई है। हमने समुंद्री इलाकों में सभी मछुआरों के लिए चेतावनी जारी कर दी है।

ओडिशा में पुरी के बीच से पर्यटकों और स्थानीय लोगों को दूर हटाया जा रहा है।
ओडिशा में पुरी के बीच से पर्यटकों और स्थानीय लोगों को दूर हटाया जा रहा है।

साल 2022 का पहला साइक्लोन
असानी इस साल का पहला चक्रवाती तूफान है। इससे पहले 2021 में 3 चक्रवाती तूफान आए थे। दिसंबर 2021 में साइक्लोन जावद आया था। वहीं, सितंबर 2021 में साइक्लोन गुलाब ने दस्तक दी थी, जबकि मई 2021 में साइक्लोन यास ने बंगाल, बिहार समेत कई राज्यों में कहर बरपाया था।

भविष्य के साइक्लोन के नाम अभी से तय
चक्रवात असानी श्रीलंका द्वारा दिया गया एक नाम है जिसका अर्थ सिंहली में 'क्रोध' होता है। असानी के बाद बनने वाले चक्रवात को सितारंग कहा जाएगा, जो थाईलैंड द्वारा दिया गया नाम है। भविष्य में जिन नामों का इस्तेमाल किया जाएगा उनमें भारत के घुरनी, प्रोबाहो, झार और मुरासु, बिपरजॉय (बांग्लादेश), आसिफ (सऊदी अरब), दीक्सम (यमन) और तूफान (ईरान) और शक्ति (श्रीलंका) शामिल हैं।